आमिर खान के 'गुरु' को भारी पड़ा रेसलिंग फेडरेशन की तुलना 'खच्चर' से करना

भाषा | अंतिम अपडेट: Sep 15, 2017, 07:38 AM IST
आमिर खान के 'गुरु' को भारी पड़ा रेसलिंग फेडरेशन की तुलना 'खच्चर' से करना
कृपा शंकर पटेल ने दंगल फिल्म में आमिर खान को कुश्ती के गुर सिखाए थे (फोटोः विकिपीडिया)

इंदौरः सोशल मीडिया पर भारतीय कुश्ती संघ (डब्ल्यूएफआई) की तुलना ‘खच्चर’ से करने के बाद विवादों से घिरे अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित पूर्व पहलवान और मौजूदा कोच कृपाशंकर पटेल ने गुरुवार को कहा कि कहा कि उन्होंने भारतीय कुश्ती के हित में फेसबुक पर यह पोस्ट लिखी थी जिसे जबरन तूल दिया गया. पटेल की इस पोस्ट पर डब्ल्यूएफआई ने सख्त रवैया अपनाया और उन्हें नोटिस जारी करके सात दिन के अंदर जवाब मांगकर कहा है कि क्यों न उन पर छह साल की पाबंदी लगा दी जाये. पटेल ने डब्ल्यूएफआई का नोटिस मिलने की गुरुवार को पुष्टि की. उन्होंने "भाषा" से कहा, "मैंने फिलहाल इस नोटिस का जवाब नहीं दिया है. मैंने सोशल मीडिया पर जो कुछ कहा है, वह भारतीय कुश्ती के हित में कहा है. फिर भी मेरी पोस्ट से किसी को बुरा लगा हो, तो मैं माफी चाहता हूं."

कुश्ती कोच ने 12 सितम्बर को अपनी फेसबुक पोस्ट में कहा था कि कुश्ती के अंतरराष्ट्रीय संगठन युनाइटेड वर्ल्ड रेसलिंग ने कुश्ती के नियमों में कई महत्वपूर्ण बदलाव किए हैं, लेकिन डब्ल्यूएफआई ने इस सिलसिले में "आधे-अधूरे" और "अधकचरे" नियमों को लागू किया है. फिल्म "दंगल" के लिये बॉलीवुड सितारे आमिर खान को कुश्ती के गुर सिखाने वाले 40 वर्षीय कोच ने विवादास्पद फेसबुक पोस्ट में कहा, "क्या आप को पता है कि गुजरात में कच्छ के रण में एक अनोखा प्राणी पाया जाता है, जो न गधा है, न घोड़ा है, दोनों के बीच का खच्चर है . जी हां, भारतीय कुश्ती संघ ने भी कुछ इसी तरह (खच्चर जैसा) का फैसला कुश्ती के नियमों को लेकर किया है|"

पटेल ने अपनी पोस्ट में कहा, "भारतीय कुश्ती संघ ने फैसला लिया कि मध्यप्रदेश कुश्ती संघ के तत्वावधान में जो राष्ट्रीय सीनियर कुश्ती प्रतियोगिता इंदौर में 15 से 18 नवम्बर तक आयोजित की जानी है, उसमें (युनाइटेड वर्ल्ड रेसलिंग के नये नियमों के मुताबिक) सिर्फ 10 नये वजन वर्ग को जोड़ा जाएगा, सम्पूर्ण नियम लागू नहीं होंगे. यह कुश्ती की बेहतरी के लिए कितना फायदेमंद होगा, यह तो देश के बड़े पहलवान जैसे सुशील, योगेश्वर, साक्षी मलिक ही बता सकते हैं.’’ बहरहाल, डब्ल्यूएफआई ने पटेल को उनकी फेसबुक पोस्ट के अगले ही दिन यानी 13 सितंबर को नोटिस भेज दिया.

यह भी पढ़ेंः हाईकोर्ट ने पहलवान की याचिका पर केंद्र से जवाब मांगा

इसमें डब्ल्यूएफआई के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह ने कहा, "राष्ट्रीय प्रतियोगिता को 10 नये वजनों में कराने का फैसला पहलवानों के हित में लिया गया है, ना कि यह कोई खच्चर वाला फैसला है. चूंकि आगामी 2017 राष्ट्रमंडल कुश्ती प्रतियोगिता इन्हीं भार वर्गों में होनी है. लिहाजा इसी प्रतियोगिता को ध्यान में रखकर यह फैसला लिया गया है." पटेल ने कहा, "मेरी फेसबुक पोस्ट को जबरन तूल दिया जा रहा है. मैं तो बस यह चाहता हूँ कि डब्ल्यूएफआई राष्ट्रमंडल प्रतियोगिता से बड़ी स्पर्धाओं को ध्यान में रखकर देश की कुश्ती की दशा-दिशा तय करे. देश के कुश्ती जगत को युनाइटेड वर्ल्ड रेसलिंग के सभी नये नियमों से अवगत कराया जाना चाहिये. वरना खेल और खिलाड़ियों का नुकसान होगा."