नेट प्रैक्टिस के दौरान कप्तान धोनी ने शास्त्री से ली सीख नेट प्रैक्टिस के दौरान कप्तान धोनी ने शास्त्री से ली सीख

आस्ट्रेलियाई दौरे में लचर प्रदर्शन के बाद विश्व कप के शुरूआती मैच में पाकिस्तान के खिलाफ शानदार जीत से भारतीय क्रिकेट टीम को भले ही जश्न मनाने का मौका मिला हो लेकिन अब भी कुछ ऐसे विभाग हैं जिन पर काम करने की जरूरत है और इनमें कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की बल्लेबाज के रूप में खराब फार्म भी शामिल है। इसलिए यह देखकर वास्तव में हैरानी नहीं हुई कि कप्तान ने कल सेंट किल्डा जंक्शन ओवल मैदान पर भारतीय टीम के अभ्यास सत्र के दौरान टीम निदेशक रवि शास्त्री के साथ पर्याप्त समय बिताया। नेट सत्र के बाद धोनी स्क्वायर लेग क्षेत्र में गये जहां शास्त्री कुर्सी पर बैठे हुए थे।

रोहित जानता है कि पारी कैसे संवारनी है : धोनी

भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने पिछले दो साल से वनडे में अच्छी फार्म में चल रहे रोहित शर्मा की तारीफ करते हुए रविवार को यहां उन्हें एक ऐसा बल्लेबाज करार दिया जो अच्छी शुरूआत पर पारी संवारने की कला जानता है। धोनी ने आस्ट्रेलिया के खिलाफ चार विकेट से हार के बाद संवाददाताओं से कहा, ‘‘यदि पिछले डेढ़ साल के प्रदर्शन पर गौर किया जाएगा तो लगभग सभी बल्लेबाजों ने रन बनाये हैं। लेकिन यह देखकर अच्छा लगा कि रोहित लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहा है। वह ऐसा बल्लेबाज है जो जानता है कि बड़ी पारियां कैसे खेली जाती है और अच्छी शुरूआत पर पारी कैसे संवारी जाती है। ’’

धोनी ने कराया युवराज को टीम इंडिया से OUT, सेलेक्टर्स की बैठक में किया विरोध! धोनी ने कराया युवराज को टीम इंडिया से OUT, सेलेक्टर्स की बैठक में किया विरोध!

टीम इंडिया के वर्ल्ड कप स्कवॉयड का ऐलान मंगलवार को कर दिया गया लेकिन इसमें सबसे बड़ी हैरानी की बात यह रही कि स्टार बल्लेबाज युवराज सिंह को टीम में शामिल नहीं किया गया। चंद दिनों से यह अटकलें यह लगाई जा रही थी कि रणजी में युवराज सिंह के शानदार प्रदर्शन को देखते हुए टीम इंडिया में वर्ल्ड कप स्कवॉयड के लिए उनका चुनाव किया जा सकता है। युवराज ने हाल ही में रणजी ट्रॉफी में लगातार तीन शतक ठोककर अपना दावा मजबूती के साथ पेश किया था लेकिन ऐन मौके पर ऐसा नहीं हुआ और सूत्रों के मुताबिक इसके पीछे कैप्टन कूल धोनी की भूमिका रही। बताया जा रहा है कि धोनी नहीं चाहते थे कि युवराज टीम में शामिल हो और चयनकर्तओं को उनकी जिद के आगे झुकना पड़ा।