नाइट शिफ्ट वाले कामगारों में अधिक रहता है कार दुर्घटना का शिकार होने का खतरा

रात्रिकालीन पाली में काम करने वालों लोगों के कार हादसों का शिकार होने का खतरा अधिक रहता है क्योंकि सोने जागने का क्रम बाधित होने तथा नींद पूरी नहीं होने के कारण वे उनींदी हालत में रहते हैं । यह जानकारी एक नये अध्ययन में सामने आयी है। अमेरिका में ब्रिघम और वुमेंस हास्पिटल (बीडब्ल्यूएच) के नये शोध में पता चला है कि रात में सोने के बाद ड्राइविंग करने वालों की तुलना रात्रिकालीन पारी में काम करने वाले कामगारों के दिन में गाड़ी चलाने से की गयी और पाया गया कि रात्रिकालीन पाली में काम करने के बाद परीक्षण चालन में भाग लेने वाले 37.5 प्रतिशत से अधिक कामगार दुर्घटना का शिकार होते होते बचे ।

जीन की लय को प्रभावित करती है नाइट शिफ्ट

रात की पालियों में काम करने वालों और हवाई यात्रा के कारण नींद न ले पाने वालों को अपनी जीनों को फिर से आकार में लाने के लिए अपनी दिनचर्या को सही ढंग से निर्धारित करने का समय है।

लंबे समय तक नाइट ड्यूटी करना स्वास्थ्य के लिए खतरनाक

वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि तीस सालों से अधिक समय तक रात्रि पाली में काम करने से महिलाओं के स्तन कैंसर की चपेट में आने का खतरा दोगुना हो सकता है ।

नाइट शिफ्ट से कैंसर का खतरा

वैज्ञानिकों ने एक शोध में पाया है कि रात्रि पाली में काम करने वाले पुरूषों को विभिन्न प्रकार का कैंसर होने का खतरा काफी अधिक रहता है ।



लाइव स्कोर कार्ड