वासिंद्र_मिश्र - Latest News on वासिंद्र_मिश्र | Read Breaking News in Hindi on zeenews.com

गरीबों के विनाश पर, वाड्रा का विकास: अग्निवेश

Last Updated: Monday, April 21, 2014, 11:16

स्वामी अग्निवेश जी... अग्निवेश जी अलग-अलग समय में अलग-अलग कारणों को लेकर चर्चित रहे हैं चाहे बंधुआ मुक्ति आंदोलन हो या इंडिया अगेंस्ट करप्शन हो या जो आदिवासी है गरीब तबके के लोग हैं उनके हक और हकूक दिलाना हो.. कई सारे मुद्दो को लेकर अग्निवेश जी ने अपने सार्वजनिक जीवन में एक लंबा वक्त बिताया है। आज सियासत की बात में स्वामी अग्निवेश से ज़ी रीजनल चैनल्स के संपादक वासिंद्र मिश्र ने लंबी बातचीत की। पेश है बातचीत के कुछ महत्वपूर्ण अंश।

`मिशन रॉ` के कुछ सीक्रेट्स

Last Updated: Sunday, April 20, 2014, 16:10

इस समय किताबों को लिखने और उसको लेकर जो राजनीति हो रही है उसका सिलसिला काफी तेज है। इसी कड़ी में एक नाम आर के यादव की भी है जिनकी लिखी किताब जल्द ही बाजार में आने वाली हैं। पेश है सियासत की बात में भारतीय खुफिया एजेंसी के पूर्व अधिकारी आर.के. यादव से वासिंद्र मिश्र की खास बातचीत।

मोदी का एक ही लक्ष्य है डेवलपमेंट फॉर ऑल: एम जे अकबर

Last Updated: Tuesday, April 15, 2014, 14:20

हाल ही में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल होने वाले जाने माने पत्रकार एम जे अकबर से ज़ी रीजनल चैनल्स के संपादक वासिंद्र मिश्र ने खास बात की, पेश है इस बातचीत के कुछ प्रमुख अंश-

संजय बारू के दावों से कठघरे में कांग्रेस

Last Updated: Friday, April 11, 2014, 21:43

इसमें कोई शक नहीं है कि संजय बारू की किताब `Accidental Prime Minister : The making and Unmaking on Manmohan Singh` में जो खुलासे हुए है उससे ना सिर्फ भारतीय जनता पार्टी की तरफ से लंबे वक्त से लगाए जा रहे आरोपों को बल मिला है बल्कि इन खुलासों की वजह से कांग्रेस के लिए मुश्किलें भी बढ़ती दिख रही हैं।

मोदी बनाम ऑल...

Last Updated: Friday, April 11, 2014, 21:32

सियासत की बदली हुई तस्वीर में महामुकाबले की यही तस्वीर सबको नजर आ रही है। सोनिया, राहुल, माया, मुलायाम, नीतीश, इन सभी के केवल दल बदले हैं लेकिन सियासी निशाना सिर्फ है वो है नरेन्द्र मोदी। लिहाजा नरेन्द्र मोदी ने भी अपनी रैलियों में अब नया ऐलान शुरु कर दिया है कि कमल को दिया हर वोट मोदी को वोट होगा।

भ्रष्ट तंत्र बनाम मीडिया

Last Updated: Friday, April 04, 2014, 19:54

माना जाता है कि मीडिया को निष्पक्ष होना चाहिए। ऐसे में किसी मीडिया हाउस के मालिक का किसी पार्टी विशेष के पक्ष में आने पर सवाल खड़े होना लाजिमी है, लेकिन इसके साथ कुछ और सवाल हैं जिनका जवाब ढूंढने की कोशिश की जानी चाहिए।

अटल की राह पर संघ!

Last Updated: Sunday, March 30, 2014, 15:51

आरएसएस खुद को हमेशा ही सांस्कृतिक संगठन के तौर पर पेश करता है, लेकिन ये बात किसी से छिपी नहीं है कि ये संघ का दखल ही है जो बीजेपी आज के दौर में भी ना केवल देश की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी है बल्कि आज सत्ता की होड़ में भी शामिल है और तमाम सर्वे की रिपोर्टों के मुताबिक आगे भी है।

काशी की कसौटी पर...

Last Updated: Tuesday, March 25, 2014, 18:56

लोकसभा चुनाव पास आते ही राजनैतिक गर्मी बढ़ रही है और इसके साथ ही काशी देश समेत पूरी दुनिया में चर्चा का केंद्र बना हुआ है... वजह है बीजेपी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी का वाराणसी से चुनाव लड़ना... काशी Religious tourism, cultural heritage और दुनिया के प्राचीनतम शहर के रूप में मशहूर है...

दलों की किच-किच!

Last Updated: Tuesday, March 25, 2014, 18:51

लोकसभा चुनाव जैसे-जैसे नजदीक आते जा रहे हैं... जैसे-जैसे कैंपेन में तेजी आ रही है और जैसे-जैसे टिकटों का बंटवारा हो रहा है... सभी राजनीतिक दलों में सुरक्षित सीट की तलाश और टिकट पाने की लालसा नेताओं में बेचैनी बढ़ा रही है...बेचैनी के शिकार लगभग सभी दलों के नेता हैं.

बीजेपी का साउथ में `समझौता`

Last Updated: Thursday, March 20, 2014, 21:04

केंद्र में सत्ता पाने की कोशिशों में जुटी बीजेपी लगातार एनडीए का कुनबा बढ़ाने में जुटी है...तमिलनाडु की पांच पार्टियां एनडीए में शामिल हो गई हैं। इनमें एस रामदौस की पीएमके, वाइको की एमडीएमके और विजयकांत की डीएमडीके भी शामिल है...।

`नो ट्रस्‍ट सिंड्रोम` में आडवाणी

Last Updated: Saturday, March 22, 2014, 17:41

बीजेपी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी अपनी ही पार्टी के लिए बीते कुछ समय से मुश्किलें खड़ी कर रहे हैं... इन सबकी शुरुआत उसी वक्त से हो चुकी है जब से नरेंद्र मोदी का नाम आगे आया है... लेकिन इस वक्त जब भारतीय जनता पार्टी मोदी के सहारे 2014 में मिशन 272+ में लगी हुई है तो आडवाणी की तरफ से हो रहा ये विरोध अपने चरम पर है...।

अटल-आडवाणी युग का अंत?

Last Updated: Wednesday, March 19, 2014, 09:03

बीजेपी के लिए 2014 का चुनाव कई मायनों में अलग है... इस बार अटल बिहारी वाजपेयी नहीं हैं...इस बार आडवाणी भी बहुत कम ही दिखाई देते हैं।

बीजेपी नहीं रही पार्टी विद ए डिफरेंस...

Last Updated: Tuesday, March 18, 2014, 17:02

पार्टी विद ए डिफरेंस का नारा देने वाली बीजेपी में अब कुछ भी अलग नहीं रहा...यहां भी सत्ता के लिए संघर्ष शुरु हो चुका है..पिछले कुछ दिनों में टिकट को लेकर बीजेपी में जो मारामारी दिखाई दे रही है उसने ये साबित कर दिया है कि पार्टी हर कीमत पर सत्ता के लिए ही लड़ रही है।

किस राह पर केजरी

Last Updated: Wednesday, March 05, 2014, 22:27

गांधी के नाम पर राजनीति करने वाले केजरीवाल और उनके समर्थक अपने आचरण के जरिए, गांधीवादी मूल्यों और सिद्धांतों की रोज तिलांजलि देते नज़र आ रहे हैं।

सत्ता हर कीमत पर

Last Updated: Monday, March 03, 2014, 21:31

सियासत में सत्ता के लिए तमाम हथकंडे अपनाए जाते हैं। चाहे वो विरोधियों पर वार हो या अपनी जय जयकार। लेकिन सियासत के मैदान में उतरी पार्टियां दिन के साथ ही अपनी नीतियां बदलने लगें तो ये कितना सही है? नेता ज़रूरत के हिसाब से रंग बदलते हैं, दल भी बदल लेते हैं ऐसे में उनकी नीतियों की बात तो नहीं की जा सकती लेकिन एक विचारधारा को लेकर राजनीति में उतरीं पार्टियां अगर सत्ता के लिए सियासत में अपनी विचारधारा से हाथ धो लें तो ऐसा करना कहां तक उचित है।

सियासतदानों का क्राउड मैनेजमेंट

Last Updated: Saturday, March 01, 2014, 19:31

लोकतंत्र का महापर्व जब भी नज़दीक आता है, तो रैलियों का शोर और सियासदानों का शो अपने चरम पर होता है... देश के सभी प्रमुख राष्ट्रीय दल अपनी ताकत की नुमाइश शुरू कर देते हैं...

कांग्रेस-बीजेपी का साझा संकट

Last Updated: Friday, February 28, 2014, 00:35

देश के दोनों बड़े राष्ट्रीय दल कांग्रेस और भाजपा एक बार फिर अपने-अपने जनाधार विहीन नेताओं के कुचक्र के शिकार होते दिखाई दे रहे हैं। महज कुछ हफ्तों में लोकसभा चुनाव शुरू हो जाएंगे। ऐसे में दोनों ही राष्ट्रीय दलों के कुछ चुने हुए नेताओं के फैसले, बयानों के चलते एक बार फिर ऐसा लगता है कि ये आम चुनाव भी सकारात्मक मुद्दों के बजाय जाति, मज़हब और क्षेत्रीयता के मकड़जाल में उलझ जाएगा।

यंग इंडिया और मोदी

Last Updated: Saturday, March 01, 2014, 19:22

गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी के बीजेपी के पीएम उम्मीदवार बनने के पीछे सबसे बड़ी वजह रही है युवाओं के बीच उनकी लोकप्रियता। जिसके चलते बीजेपी को आडवाणी जैसे वरिष्ठ चेहरे की जगह पर मोदी को आगे करना पड़ा जाहिर है ये मोदी की राजनीतिक स्टाइल का ही कमाल है कि उम्र के छह दशक से ज्यादा पार करने के बाद भी वो युवाओं के चहेते बने हुए हैं, जबकि देश के सबसे बड़े राजनीतिक खानदान के वारिस राहुल गांधी खानदान की चमक दमक, सुनहरे इतिहास और प्रचार तन्त्र के बाद भी रोल मॉडल के तौर पर स्थापित नहीं हो पा रहे हैं।

तीसरे मोर्चे की बनेगी अगली सरकार: मुलायम

Last Updated: Tuesday, February 25, 2014, 15:50

समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव ने साफ किया है यूपी में नरेंद्र मोदी का कोई प्रभाव नहीं है। उन्होंने कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव में तीसरे मोर्चे की सरकार का बनना तय है। इन सभी मुद्दों पर इस बार सियासत की बात में ज़ी रीजनल चैनल्स के संपादक वासिंद्र मिश्र ने मुलायम सिंह यादव से लंबी बातचीत की। पेश है इस बातचीत के कुछ प्रमुख अंश-

सियासी आतंकवाद?

Last Updated: Wednesday, February 19, 2014, 16:01

वोट की राजनीति की वजह से उत्तर भारत में बुरी तरह परेशान कांग्रेस ने अब पूरा ध्यान दक्षिण भारत पर लगा दिया है। हालांकि कांग्रेस की इस पूरी कवायद का उसे कितना फायदा होगा ये तो भविष्य के गर्भ में छिपा है लेकिन इसका एक नतीजा जो लगभग तय लग रहा है वो ये है कि देश में एक बार फिर से अलगाववादी ताकतों को आवाज उठाने का मौका मिल सकता है।

तेलंगाना का सच

Last Updated: Tuesday, February 18, 2014, 19:29

तेलंगाना को लेकर जो कुछ भी हो रहा है उससे लग रहा है कि कांग्रेस इसे एक मुद्दा बनाकर वोट के लिए कुछ भी करने को तैयार है। उत्तर भारत में अपना वोट बैंक खिसकता देख कांग्रेस ने दक्षिण भारत में अपनी पैठ बनाने के लिए तेलंगाना की चाल चली है।

वी पी के नक्शेकदम पर केजरीवाल!

Last Updated: Saturday, February 15, 2014, 18:18

देश की राजधानी में चल रहे पॉलिटिकल ड्रामे का आखिरकार अंत हो चुका है.

जनार्दन द्विवेदी का बयान पार्टी नीति के खिलाफ : पीएल पुनिया

Last Updated: Friday, February 07, 2014, 19:42

कांग्रेस महासचिव जनार्दन द्विवेदी ने यह सलाह देकर पार्टी के अंदर खलबली मचा दी कि जातिगत आरक्षण खत्म होना चाहिए। आरक्षण का आधार आर्थिक होना चाहिए। द्विवेदी के इस बयान को लेकर आरक्षण पर अब नए सिरे से बहस छिड़ गई है। सियासत की बात में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पीएल पुनिया से खास बातचीत की गई है।

कांग्रेस का नया फॉर्मूला

Last Updated: Wednesday, February 05, 2014, 20:51

आरक्षण को लेकर जनार्दन द्विवेदी का बयान और खाप पंचायतों को लेकर पी चिदंबरम का बयान कांग्रेस पार्टी में ट्रांसफोर्मेशन के दौर का इंडीकेटर है। कांग्रेस को लगने लगा है कि अब अम्ब्रेला पॉलिटिक्स का दौर खत्म हो रहा है।

आरक्षण की प्रासंगिकता

Last Updated: Wednesday, February 05, 2014, 20:23

वरिष्ठ और जिम्मेदार कांग्रेस नेता जनार्दन द्विवेदी के आरक्षण को लेकर दिए बयान से भले ही उनकी पार्टी के लोग इत्तेफाक नहीं रखते हों लेकिन इस बयान ने आरक्षण के मसले पर एक बार फिर बहस छेड़ दी है। एक बार फिर बहस हो रही है कि संविधान ने जिन मुद्दों को ध्यान में रखते हुए आरक्षण की वकालत की थी क्या अब भी वो मुद्दे प्रांसगिक हैं।

मैनिफेस्टो ऑफ ‘मुफ्तखोरी’

Last Updated: Sunday, February 02, 2014, 17:30

राजनीति में आजकल मुफ्तखोरी का दौर है....सियासत के तरीके बदले तो सियासी वादों की शक्ल भी बदल गई....आजादी के बाद देश में चुनावी वादों के कई रंग देखे हैं

PM पद की रेस में मोदी सबसे आगे : डीपी त्रिपाठी

Last Updated: Friday, January 31, 2014, 23:53

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के महासचिव डीपी त्रिपाठी का कहना है कि भारतीय संदर्भ में लोकतंत्र बहुलतावादी हो चुका है। उसमें किसी एक पार्टी को बहुमत मिलता नहीं दिख रहा है। तमाम सर्वे और आंकलन के अनुसार भी आगामी चुनाव में किसी मोर्चे को बहुमत नहीं मिल रहा। हां, नरेंद्र मोदी अवश्य प्रधानमंत्री पद के प्रत्याशी के रूप में सबसे आगे हैं।

मोदी कभी पीएम नहीं बन पाएंगे : शोभा ओझा

Last Updated: Friday, January 31, 2014, 10:20

भाजपा इसीलिए केंद्र की सत्ता में आ सकी क्योंकि उस वक्त अटल बिहारी वाजपेयी प्रधानमंत्री बनते, अटल जी की छवि सेक्युलर है।

सियासत के BRAND...

Last Updated: Monday, January 27, 2014, 22:43

नरेंद्र मोदी के शब्दों में कभी भावनाओं की आंधी होती है, कभी मुद्दों को धार देते हैं, कभी उनका अंदाज़ मखौल उड़ाने वाला होता है तो कभी उनकी बातों में देश बदलने का नजरिया होता है।

ये इश्क नहीं आसां...

Last Updated: Tuesday, January 14, 2014, 18:04

इन दिनों दो चीजों की चर्चा बहुत तेज़ है...पहली अभिषेक चौबे की उत्तर प्रदेश के बैकड्रॉप पर बनी फिल्म डेढ़ इश्किया की और दूसरी फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांड के इश्क की।

बेपर्दा होने को तैयार एक और स्कैम!

Last Updated: Tuesday, January 14, 2014, 17:56

देश में एक और बड़ा स्कैम बेपर्दा होने जा रहा है, अगर सीएजी रिपोर्ट को सही मानें तो ये 2जी से भी बड़ा स्कैम हो सकता है। अभी तक सीएजी ने रिपोर्ट पेश नहीं की है, बहुत मुमकिन है कि फरवरी में ये रिपोर्ट सार्वजनिक हो जाए लेकिन लोकसभा चुनाव से ऐन पहले आने वाली ये रिपोर्ट कई सियासी दलों के लिए मुश्किलें खड़ी कर सकती है।

सियासत में उलझी आंतरिक सुरक्षा

Last Updated: Wednesday, January 08, 2014, 14:14

देश की सुरक्षा को जितना खतरा बाहरी ताकतों से है उतना ही खतरा आंतरिक भी है और शायद ये खतरा बाहर के तमाम खतरों से ज्यादा है क्योंकि बाहरी खतरों से निपटना आसान होता है। लेकिन अफसोस इस बात का है कि आंतरिक खतरे की चुनौती को भी राजनीतिक दल वोट बैंक के तराजू से तौलते नज़र आते हैं।

सेक्युलरिज्म देश के डीएनए में है : मदनी

Last Updated: Friday, January 03, 2014, 17:32

अपने रेडिकल ख्यालों को लेकर चर्चित और विवादित जमीयत उलेमा-ए-हिंद के महासचिव मौलाना महमूद मदनी पिछले कुछ दिनों से काफी चर्चा में हैं। सियासत की बात में पेश है ज़ी रीज़नल्स के संपादक वासिंद्र मिश्र की उनसे बातचीत के मुख्य अंश।

सिद्धांत, सियासत और सत्ता

Last Updated: Tuesday, December 31, 2013, 13:01

देश की राजनीति ने इस साल एक ऐतिहासिक बदलाव देखा है। परंपरागत राजनीति से परे उसूलों के सहारे परिवर्तन की राजनीति ने राजधानी दिल्ली की सत्ता पर पिछले 15 साल से काबिज 128 साल पुरानी पार्टी को बाहर का रास्ता दिखा दिया। हो सकता है कि ऐसा बदलाव लेकर आने वाली आम आदमी पार्टी के पास सिद्धांत ना दिखें लेकिन क्या ऐसा पहली बार हो रहा है कि राजनीति में बिना सिद्धांतों के सहारे आने वाली पार्टी सत्ता में आई हो।

‘स्टैच्यू ऑफ युनिटी’ का मकसद

Last Updated: Saturday, December 28, 2013, 20:49

भारतीय जनता पार्टी एक बार फिर देशव्यापी मूवमेंट के जरिए एक मोमेंटम बनाने की कोशिश कर रही है। इस आंदोलन का नाम स्टैच्यू ऑफ युनिटी रखा गया है। स्टैच्यू ऑफ युनिटी कैंपेन के जरिए बीजेपी की कोशिश देश में वैसी लहर पैदा करने की है जैसी राम मंदिर आंदोलन की वजह से हुई थी।

बदलाव नहीं किया तो कांग्रेस का भविष्य नहीं : सत्यव्रत

Last Updated: Sunday, December 22, 2013, 15:59

45 साल से लटका लोकपाल बिल पास हो चुका है। इस बिल को लेकर सभी सियासी दलों में सहमति बनाने में सेलेक्ट कमेटी के अध्यक्ष के तौर पर सत्यव्रत चतुर्वेदी के सामने कई मुश्किलें आईं। जानते हैं सियासत की बात में चतुर्वेदी से कि आखिरकार सभी सियासी दलों में लोकपाल बिल को लेकर कैसे सहमति बन पाई।

सम्मान का सवाल

Last Updated: Wednesday, December 18, 2013, 20:41

अमेरिका में डिप्लोमैट देवयानी के साथ किए गए बर्ताव पर भारत में तीखी प्रतिक्रिया देखने को मिली है। सड़क से लेकर संसद तक इस मसले पर सब इस वाकये को भारत के सम्मान पर हमला बता रहे हैं और एक बार फिर ये बहस शुरु हो गई है कि क्या भारत को अपनी विदेश नीति बदल लेनी चाहिए।

`आप` की असलियत

Last Updated: Monday, December 16, 2013, 17:25

सियासत की महफिल में नए नए तशरीफ लाए अरविंद केजरीवाल पुराने जमे हुए लोगों के लिए मुश्किलें पैदा कर रहे हैं वो भी तब जब सियासत में माहिर लोग उन्हें बिना शर्त समर्थन देने को तैयार है। एक कहावत है कि दूध का जला छाछ भी फूंककर पीता है लिहाजा लोकपाल बिल के मसले पर सियासतदानों से अपना हाथ जला चुके अरविंद केजरीवाल इस बार फूंक फूंक कर कदम रख रहे हैं, तभी उन्हें दिल्ली में सरकार बनाने के लिए बिना शर्त समर्थन की पेशकश ने पसोपेश में डाल दिया है।

संस्‍कृति, सियासत और सेक्‍शन 377

Last Updated: Friday, December 13, 2013, 23:26

देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस इन दिनों समाज में गे और लेस्बियन संबंधों को कानूनी मान्यता देने के पक्ष में मुखर नज़र आ रही है। ऐसी मुखरता तो महंगाई और भ्रष्टाचार जैसे आम आदमी से जुड़े मुद्दों पर भी नज़र नहीं आई।

कांग्रेस पर भारी `मोदी फैक्टर`!

Last Updated: Sunday, December 08, 2013, 15:50

जो चुनाव परिणाम आ रहे हैं, इन परिणामों ने मंडल-कमंडल, जाति और संप्रदाय की राजनीति करने वाले राजनैतिक दलों को करारा जवाब दिया है। इन परिणामों से जाहिर है कि अब देश के मतदाताओं को जज्बाती, सांप्रदायिक और जातीय मुद्दों को उछालकर गुमराह नहीं किया जा सकता ना हीं ऐसे मुद्दों पर वोट हासिल किया जा सकता है।

सियासत की धारा-370

Last Updated: Tuesday, December 03, 2013, 18:59

आर्टिकल 370 को लेकर खड़ा हुआ बवाल नया नहीं है। भारतीय जनता पार्टी और संघ परिवार हमेशा तीन मुद्दों पर अलग से अपनी अलग राय रखता रहा है। बीजेपी हमेशा से यूनिफॉर्म सिविल कोड लागू करने, आर्टिकल 370 हटाने और अयोध्या में रामजन्मभूमि निर्माण का वादा करती रही है।

बीजेपी का ये कौन सा चेहरा है?

Last Updated: Friday, November 22, 2013, 22:52

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बीजेपी अपने कौन से चेहरे के साथ वोटरों के बीच जाना चाहती है, इसकी एक बानगी आगरा की रैली में साफ तौर पर देखने को मिली।

साहेब, शहजादा और गुलाम

Last Updated: Wednesday, November 20, 2013, 21:26

क्‍या इस देश में कानून अंधा है, क्या हमारा संविधान किसी की भी निजी जिंदगी में झांकने का अधिकार देता है। क्या इस देश में निजता कानून के दायरे में सिर्फ खास लोग ही आते हैं, क्या चंद खास लोगों को ही राइट टू प्राइवेसी का इस्तेमाल करने का हक है।

अटल को `भारत रत्‍न` क्‍यों?

Last Updated: Tuesday, November 19, 2013, 18:15

मॉडर्न इंडिया में पंडित नेहरू और इंदिरा गांधी को छोड़ दें तो अटल बिहारी वाजपेयी ही एकमात्र ऐसे नेता हैं जिनकी स्वीकार्यता पार्टी लाइन, धर्म, जाति से हटकर हर दल हर वर्ग, हर उम्र के लोगों में है। अटल जी की शख्सियत में ये महत्वपूर्ण नहीं है कि वो प्रधानमंत्री रहे थे या इतने बड़े पद पर रहते हुए उन्होंने अपनी पार्टी के किसी नेता या फिर किसी भी विरोधी नेता के लिए कभी भी अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल नहीं किया।

राम नाम की लूट है...

Last Updated: Thursday, November 14, 2013, 19:12

राम और राजनीति एक दूसरे के पर्याय बनते जा रहे हैं। भारत में जब-जब चुनाव होते हैं, राम खुद-ब-खुद चर्चा में आ ही जाते हैं। राम के नाम का सहारा अपने-अपने ढंग से देश की लगभग सभी प्रमुख पार्टियां लेती रही हैं।

कुर्सी के लिए देशहित की बलि

Last Updated: Wednesday, November 13, 2013, 16:59

श्रीलंका में राष्ट्रमंडल शासनाध्यक्षों की बैठक (चोगम सम्मेलन) में ना जाने का फैसला करके भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने एक बार फिर अपनी सरकार को बचाए रखने के लिए तमिलनाडु के एक क्षेत्रीय दल के सामने घुटने टेक दिए हैं।

मज़हब, संत और सियासत

Last Updated: Sunday, November 10, 2013, 21:03

ये लाइनें हिंदी के मशहूर साहित्यकार हरिवंश राय बच्चन की कविता मधुशाला से हैं और ये इस बात को ताकीद करती रही हैं कि मधुशाला में जाकर मजहब का भेदभाव मिट जाता है, लेकिन अब नया ट्रेंड साधू संतों कथावाचकों की राजनीति में बढ़ती दिलचस्पी और सत्ता-कॉरपोरेट घरानों के बीच में शुरू हुई लॉबिंग के खेल में उनकी सक्रियता के चलते पूरा का पूरा समीकरण बदलता दिखाई दे रहा है।

सीबीआई के गठन पर नई बहस

Last Updated: Sunday, November 10, 2013, 13:46

सीबीआई के गठन को असंवैधानिक करार देने वाले गौहाटी हाईकोर्ट के फैसले पर देश की एपेक्स कोर्ट ने रोक लगा दी है, लेकिन इससे ये नहीं कहा जा सकता कि सीबीआई के गठन पर खड़ा हुआ विवाद थम गया है। दरअसल अपनी कार्यशैली की वजह से हमेशा से विवादों में रही इस जांच एजेंसी पर अब नई बहस शुरू हो गई है।

सेक्युलरिज्म जिंदा रहेगा, तो जिंदा रहेगा मुल्क : मदनी

Last Updated: Saturday, November 02, 2013, 21:36

सिर पर टोपी रख लेने भर से कोई मुस्लिम धर्म का जानकार नहीं हो सकता। यह कहना है जमीअत उलेमा-ए-हिंद के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना अरशद मदनी का। मदनी यह भी मानते हैं कि सेक्युलरिज्म जिंदा रहेगा तो ही मुल्क भी जिंदा रहेगा।

चुनाव भ्रष्टाचार का मुख्य स्त्रोत है : एस.वाई. कुरैशी

Last Updated: Thursday, October 31, 2013, 21:41

निर्वाचन प्रणाली में सुधार को लेकर विरोध और उदासीनता की स्थिति से देश के पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त एस वाई कुरैशी भी हैरान और परेशान हैं। कुरैशी का कहना है कि इलेक्शन रिफॉर्म्स के सुझाव पर एक्शन नहीं होता। सरकार से एक ही जवाब मिलता है कि आम सहमति नहीं बन पा रही है।

मोदी का मेकओवर प्लान

Last Updated: Monday, October 28, 2013, 17:05

मिशन 2014 के लिए बीजेपी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी का मेकओवर प्लान अब धीरे-धीरे परवान चढ़ता दिखाई दे रहा है। वो मोदी जिनको कुछ दिनों पहले तक अपने ही कार्यक्रम में मुसलमानों की ओर से दी गई टोपी पहनने से एतराज हुआ करता था।

संघ की साफगोई....

Last Updated: Sunday, October 27, 2013, 14:12

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने एक बार साबित कर दिया है कि राष्ट्रीय महत्व और दैवीय आपदा के मसलों पर संघ राजनीति से अलग हटकर काम करता रहा है। मुजफ्फरनगर हिंसा और आईएसआई के सवाल पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का बचाव करके आरएसएस ने एक बार फिर अपनी प्रतिबद्धता जाहिर की है।

प्याज़, पावर और पॉलिटिक्स...

Last Updated: Monday, October 28, 2013, 17:00

आखिरकार प्याज के दाम 100 रुपए प्रति किलो तक पहुंच गए लेकिन देश के जिन मंत्रियों पर इसकी कीमत को काबू में रखने की जिम्मेदारी थी वो न सिर्फ संवेदनहीनता व्यक्त कर रहे हैं बल्कि लोगों के जख्मों पर नमक छिड़कने वाले बयान भी दे रहे हैं।

इमोशनल कार्ड : मोदी बनाम राहुल

Last Updated: Saturday, October 26, 2013, 17:57

भारत में सियासत भावनाओं का खेल है। सियासतदान ये अच्छी तरह जानते हैं कि उन्हें कब क्या बोलना है और कितना बोलना है। नरेंद्र मोदी और राहुल गांधी दोनों नेता अपनी परंपरागत स्टाइल से हटकर भाषण देने लगे हैं। इनके हाव-भाव नहीं बदले हैं, लेकिन भाषण में मुद्दों की जगह अब इमोशन ने ले ली है।

झांसी में मोदी मंत्र

Last Updated: Friday, October 25, 2013, 21:13

बीजेपी की तरफ से प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाए जाने के बाद से नरेंद्र मोदी एक के बाद एक रैलियां करते जा रहे हैं। इन रैलियों में दिए उनके भाषणों के जरिए उनकी रणनीति सामने आने लगी है। एक खास बात और है नरेंद्र मोदी भाषण चाहे कहीं दें, उनकी बातें पैन इंडिया ही होती हैं।

भ्रष्टाचार की पाठशाला है मध्‍य प्रदेश: ज्योतिरादित्य सिंधिया

Last Updated: Thursday, October 24, 2013, 21:18

मध्य प्रदेश में चुनाव करीब हैं, ऐसे में कांग्रेस सत्ता में वापसी के लिए हरसंभव प्रयास कर रही है। केंद्र की योजनाओं को गिनाना हो या धर्मनिरपेक्षता के नाम पर बीजेपी पर सवाल खड़े करने हो, पार्टी कोई कमी नहीं छोड़ रही है।

कांशीराम, राहुल और वोटबैंक

Last Updated: Tuesday, October 08, 2013, 18:47

कांग्रेस के युवराज राहुल गांधी को एक बार फिर अंबेडकर और कांशीराम याद आ रहे हैं। ये वही कांग्रेस पार्टी है, जो अंबेडकर के जीते जी लगातार उनका विरोध करती रही और उनको लोकसभा के चुनाव में बुरी तरह पराजित भी कराया, जिसने कांशीराम के बहुजन मिशन को धता बताने की भरपूर कोशिश की।

नरेंद्र मोदी : सत्ता और सिद्धांत

Last Updated: Thursday, October 03, 2013, 18:42

सत्ता और सिद्धांत में अगर किसी एक को चुनना हो तो हमारे देश के ज्यादातर नेता सत्ता को ही तरजीह देंगे। कट्टर हिंदुत्व की तरंगों पर चढ़कर भारतीय जनता पार्टी में शीर्ष पर पहुंचे गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी का दिल्ली में दिया गया बयान उनके भावी रणनीति और राजनैतिक दर्शन का संकेत है।

‘नरेंद्र मोदी को बढ़ा-चढ़ा कर पेश किया जा रहा है’

Last Updated: Sunday, September 29, 2013, 16:03

सीता राम केसरी से लेकर नरसिंह राव के साथ काम करने का अनुभव और राजीव गांधी के बेहद करीबी रहे एनसीपी नेता और यूपीए सरकार के मंत्री तारिक अनवर ने सियासत की बात में ज़ी रीजनल चैनल्‍स के संपादक वासिंद्र मिश्र के साथ बातचीत में राजनीतिक मसलों पर अपने स्पष्ट विचार रखे। पेश है उसके मुख्‍य अंश:-

मनमोहन सरकार के खिलाफ राहुल का हल्ला बोल

Last Updated: Saturday, September 28, 2013, 00:04

दागी नेताओं की मेंबरशिप बचाने के लिए भेजे गए ऑर्डिनेंस के प्रस्ताव का विरोध कर राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और उनकी सरकार के सत्ता में बने रहने के संविधानिक स्थिति पर सवाल खड़ा कर दिया है।

`विकृत मानसिकता है हॉरर किलिंग`

Last Updated: Thursday, September 26, 2013, 18:03

पंजाब, हरियाणा, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और राजस्थान के कुछ इलाकों में अभी भी खाप पंचायतों का अहम रोल है। पिछले कुछ साल में खाप पंचायत की इमेज `तानाशाह` सरीखी हो गई है जो संस्कृति के नाम पर ऐसे फैसले देते हैं जिससे समाज का एक बड़ा वर्ग सहमत नहीं होता और ज्यादातर जगहों पर उसकी आलोचना की जाती है।

वोट बैंक और राजनीति

Last Updated: Wednesday, September 25, 2013, 13:46

भारत में एक बार फिर आम चुनाव 2014 का शंखनाद हो चुका है, इस चुनावी महासमर के लिए सभी राजनैतिक दलों की तरफ से अपनी-अपनी तैयारियां लगभग पूरी कर ली गई हैं। सत्ता में बैठे राजनैतिक दलों की कोशिश अपनी सरकार की उपलब्धियों को लेकर जनता में जाने की है तो विपक्ष की राजनीति कर रहे लोगों की तैयारी सरकारी काम-काज की खामियों को उजागर करके वोट हथियाने की है।

पाकिस्तान है आतंकवाद का गढ़: केपीएस गिल

Last Updated: Tuesday, September 24, 2013, 16:58

पंजाब पुलिस के पूर्व महानिदेशक एवं पूर्व आईपीएस अधिकारी केपीएस गिल किसी मसले पर अपनी साफगोई एवं बेबाक टिप्‍पणी के लिए जाने जाते हैं। उनके नाम अब तक कई उप‍लब्धियां जुड़ी रही हैं। सियासत की बात में ज़ी रीजनल चैनल्‍स के संपादक वासिंद्र मिश्र के साथ बातचीत में उन्‍होंने कई गंभीर मसलों पर स्‍पष्‍ट राय रखी।

मुजफ्फरनगर के मायने...

Last Updated: Sunday, September 15, 2013, 16:54

मुजफ्फरनगर के दंगों ने एक बार देश में महात्मा गांधी की कमी को अहसास करा दिया है। तमाम तरह के वाद (ISM) का नारा देकर राजनीति करने वाले और सामाजिक कार्यों में लगे संगठन और नेताओं को सांप्रदायिक आग में झुलस रहे उत्तर प्रदेश के मुज़फ्फरनगर में सांप्रदायिक सद्भाव बनाने की आवश्यकता महसूस नहीं हुई।

RSS ने मोदी पर कभी वीटो नहीं लगाया : इंद्रेश

Last Updated: Saturday, September 14, 2013, 23:50

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ थिंक टैंक इंद्रेश कुमार से ज़ी रीज़नल चैनल्स के संपादक वासिंद्र मिश्र ने संघ और मुसलमान के रिश्ते, हिन्दुत्व, नरेंद्र मोदी की पीएम पद की उम्मीदवारी आदि मुद्दों पर लंबी बातचीत की। पेश है सियासत की बात में उसके कुछ प्रमुख अंश।

2014 का एजेंडा: ‘गरीब’ का सहारा, ‘विकास’ का नारा

Last Updated: Thursday, September 12, 2013, 16:24

2014 को लेकर राजनीतिक सरगर्मियां बढ़ चुकी हैं, पिछले दो दिनों के राजनीतिक घटनाक्रमों पर नजर डालें तो साफ हो जाता है कि 2014 का चुनाव दो ध्रुवों पर लड़ा जाना है, एक तरफ कांग्रेस होगी और दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी। पिछले दो दिनों में हुई राजनीतिक रैलियों में इन पार्टियों ने अपने मुद्दे भी लगभग साफ कर दिए हैं।

आसाराम पर कानून अपना काम करेगा: मुख्तार अब्बास नकवी

Last Updated: Tuesday, September 03, 2013, 08:38

मुख्‍तार अब्‍बास नकवी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के वरिष्‍ठ नेताओं में शुमार किए जाते हैं। `सियासत की बात`नामक कार्यक्रम में उन्‍होंने यूपीए सरकार पर जमकर निशाना साधा। इस कार्यक्रम में मुख्तार अब्बास नकवी के साथ ज़ी रीज़नल चैनल्स के संपादक वासिंद्र मिश्र ने खास बातचीत की।

भव्य राम मंदिर निर्माण का है सपना: विनय कटियार

Last Updated: Tuesday, August 27, 2013, 21:28

बीजेपी सांसद और वरिष्ठ नेता विनय कटियार के साथ ज़ी रीजनल चैनल्स के संपादक वासिंद्र मिश्र ने `सियासत की बात` कार्यक्रम में खास बातचीत की। पेश हैं इसके मुख्‍य अंश।

संत, संयम और संन्यास

Last Updated: Friday, August 23, 2013, 14:19

आसाराम बापू पर लगे आरोपों के बाद एक बार फिर पूरे संत और कथावाचक समाज पर बड़े सवाल खड़े हो रहे हैं। सबसे बड़ा सवाल ये कि आखिर ये कथित संत अपने गृहस्थ जीवन को छोड़कर संन्यास की ओर जाते ही क्यों हैं? समाज के दूसरे लोगों को चरित्र निर्माण और संयम की दीक्षा देने वाले ये लोग आखिर खुद मानसिक और यौन विकृतियों का शिकार हो रहे हैं?

भाषा की राजनीति

Last Updated: Friday, August 23, 2013, 13:56

भाषा को किसी जाति और संप्रदाय से जोड़कर देखने वाले देश के नेताओं और राजनीतिक दलों को देश के ही अलग-अलग राज्यों में भाषा को बचाए रखने के लिए जद्दोजहद कर रहे लोगों की चिंता कभी दिखाई नहीं देती। कभी हिंदी तो कभी संस्कृत, उर्दू, मराठी, बांग्ला के नाम पर अपना राजनीतिक वोट बैंक बनाने में लगे ये नेतागण जमीनी तौर पर कभी भी संजीदा दिखाई नहीं देते।

महिलाओं के प्रति मानसिकता बदलनी होगी: ममता शर्मा

Last Updated: Sunday, August 04, 2013, 16:02

देश में महिलाओं की सुरक्षा के बारे में विभिन्न पहलुओं पर राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष ममता शर्मा से जानने की कोशिश की ज़ी रीजनल चैनल्स (हिंदी) के संपादक वासिंद्र मिश्र ने अपने खास कार्यक्रम ‘सियासत की बात’ में। पेश हैं उसके मुख्य अंश:-

‘समाजवाद’ का सियासी चेहरा!

Last Updated: Saturday, August 03, 2013, 19:25

उत्तर प्रदेश की प्रशिक्ष आईएएस अधिकारी दुर्गा शक्ति नागपाल, जिसे उत्तर प्रदेश की सपा सरकार ने निलंबित कर दिया है को लेकर देश में सियासी हंगामा खड़ा हो गया है। समाजवादी पार्टी की सरकार के इस फैसले से समाजवाद का सियासी चेहरा भी सामने आ गया है।

मूल्यों और मुद्दों से भटक गए हैं सियासी दल : गोविंदाचार्य

Last Updated: Sunday, July 21, 2013, 18:07

आज हमारे साथ हैं बीजेपी के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव गोविंदाचार्य। इस समय जो देश की राजनीति है, राजनीति की जो दशा एवं दिशा है और वैचारिक प्रतिबद्धता से जो राजनैतिक दल भटक रहे हैं, इस पूरे परिदृश्य को आप कैसे देख रहे हैं।

सबको साथ लेकर चलने की क्षमता अटलजी में: लालजी टंडन

Last Updated: Monday, July 01, 2013, 16:19

लालजी टंडन बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं में हैं, और इसके साथ ही उनकी पहचान अटल बिहारी वाजपेयी जी के करीबियों में भी की जाती है, उनसे अटल जी के जीवन के खास पहलुओं को जानने की कोशिश की ज़ी रीजनल चैनल्स (हिंदी) के संपादक वासिंद्र मिश्र ने हमारे खास कार्यक्रम `सियासत की बात` में। पेश हैं उसके मुख्‍य अंश:-

राजनीतिक महायुद्ध का केंद्र यूपी

Last Updated: Monday, June 17, 2013, 10:08

उत्तर प्रदेश एक बार फिर 2014 के महासमर का मुख्य केंद्र बनता दिखाई दे रहा है। कांग्रेस, भारतीय जनता पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी, चारों की कोशिश उत्तर प्रदेश से ज्यादा से ज्यादा लोकसभा सीटें जीतने की हैं। संयोग से इन चारों प्रमुख पार्टियों के अध्यक्ष भी उत्तर प्रदेश से ही आते हैं।

`नेपाल की जमीन को भारत के खिलाफ इस्तेमाल नहीं होने देंगे`

Last Updated: Friday, June 14, 2013, 23:59

शेरबहादुर देउवा नेपाल के पूर्व प्रधानमंत्री रह चुके हैं। भारत और पड़ोसी देश के बीच रिश्तों पर खास बातचीत के दौरान देउवा ने दावा किया कि चीन नेपाल को भारत के खिलाफ नहीं भड़काता है।

आडवाणी की `लालसा`

Last Updated: Monday, June 17, 2013, 10:09

लालकृष्ण आडवाणी के इस्तीफे के बाद बीजेपी में मचे सियासी बवंडर के बीच राजनीति के जानकार इसे आडवाणी की दूरगामी रणनीति का हिस्सा मान रहे हैं।

पारदर्शिता एवं जवाबदेही लोकतंत्र की सबसे बड़ी खूबी: वजाहत हबीबुल्लाह

Last Updated: Saturday, June 08, 2013, 18:42

राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन वजाहत हबीबुल्लाह कश्मीर में लंबे समय तक प्रशासनिक पद पर रहे हैं। वह कश्मीर की आंतरिक समस्याओं को सुलझाने में महत्वपूर्ण योगदान देते आए हैं। इस बार `सियासत की बात` कार्यक्रम में ज़ी रीजनल चैनल्स हिंदी के संपादक वासिंद्र मिश्र ने वजाहत हबीबुल्लाह के साथ खास बातचीत की।

`कोल ब्लॉक आवंटन को घोटाला कहना गलत`

Last Updated: Saturday, June 08, 2013, 00:34

केंद्रीय कोयला मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेताओं में शुमार किए जाते हैं। कोल ब्‍लॉक आवंटन में अनियमितताओं के सामने आने के बाद उन्‍होंने बीते कुछ माह में विभिन्‍न मंचों पर साफगोई से अपनी राय जाहिर की। इस बार `सियासत की बात` कार्यक्रम में ज़ी रीजनल चैनल्स हिंदी के संपादक वासिंद्र मिश्र ने कोयला मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल के साथ खास बातचीत की। पेश हैं इसके मुख्‍य अंश:-

करप्शन और कांग्रेस का फैसला जनता करेगी: सिब्बल

Last Updated: Sunday, May 26, 2013, 17:18

देश के जाने-माने कानूनविद और केंद्रीय मंत्री श्री कपिल सिब्बल देश के ज्वलंत विषयों पर बेबाकी से अपनी राय ऱखते आए हैं। मौजूदा दौर की राजनीतिक और गैर राजनीतिक मुद्दों समेत सरकार के बारे में उन्होंने अपनी बात स्पष्ट शब्दों में कही। इस बार सियासत की बात में कपिल सिब्बल से ज़ी रीज़नल चैनल्स (हिंदी) के संपादक वासिंद्र मिश्र ने खास बातचीत की। पेश हैं इसके मुख्य अंश:-

सियासत की बात शरद यादव के साथ

Last Updated: Wednesday, May 22, 2013, 21:14

एनडीए संयोजक और वरिष्ठ समाजवादी नेता शरद यादव देश के वरिष्ठ नेताओं में शुमार किए जाते हैं। देश के ज्वलंत विषयों पर शरद यादव बेबाकी से अपनी राय ऱखते आए हैं। मौजूदा दौर की राजनीति को लेकर उन्होंएने अपनी बात साफगोई से जाहिर की।

`2014 में बहुमत मिला तो राहुल गांधी बनेंगे पीएम`

Last Updated: Tuesday, May 14, 2013, 15:19

दिग्विजय सिंह कांग्रेस पार्टी के वरिष्‍ठ नेताओं में शुमार किए जाते हैं। दिग्विजय सिंह का मानना है कि वह जो भी बोलते हैं, सोच समझकर बोलते हैं। आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर उन्‍होंने कई मसलों पर बेबाकी से अपनी राय जाहिर की।

भ्रष्टाचार एकदम से खत्म नहीं हो सकता : जोगी

Last Updated: Friday, May 10, 2013, 18:19

अजीत जोगी कहते हैं कि केवल भारत में ही नहीं, विश्व में जहां भी लोकतंत्र है और दूसरी भी व्यवस्थाएं जहां मौजूद हैं, कमोबेश हर जगह भ्रष्टाचार है। मैं समझता हूं कि भारत में भ्रष्टाचार कैंसर बन चुका है। अधिकारों के प्रति सजग हो हर व्यक्ति, तब जाकर ये कम हो सकता है। मुझे नहीं लगता है कि ये बिलकुल समाप्त हो सकता है।

सियासत की बात शिवराज सिंह चौहान के साथ

Last Updated: Wednesday, April 10, 2013, 18:14

मध्यप्रदेश में चुनाव सिर पर है। प्रदेश में विकास और चुनाव को लेकर इस बार सियासत की बात में मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से ज़ी न्यूज मध्यप्रदेश/छत्तीसगढ़/उत्तर प्रदेश/उत्तराखंड के संपादक वासिंद्र मिश्र ने खास बातचीत की।

विकास से खत्म हो रहा है नक्सलवाद: रमन सिंह

Last Updated: Monday, April 01, 2013, 11:40

ज़ी न्यूज मध्यप्रदेश/ छत्तीसगढ़ की लॉंचिंग के मौके पर सियासत की बात में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह से ज़ी न्यूज मध्यप्रदेश/ छत्तीसगढ़/ उत्तर प्रदेश/उत्तराखंड के संपादक वासिंद्र मिश्र ने खास बातचीत की। पेश हैं इसके मुख्य अंश:-

एनडीए की सरकार यूपीए से बेहतर थी : प्रो. रामगोपाल

Last Updated: Wednesday, March 20, 2013, 18:53

देश के मौजूदा हालात और सियासी तकाजे को समाजवादी पार्टी की नजर से देखने और समझने के लिए सियासत की बात में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव प्रो. रामगोपाल यादव से ज़ी न्यूज उत्तर प्रदेश/उत्तराखंड के संपादक वासिंद्र मिश्र ने खास बातचीत की। पेश हैं इसके मुख्य अंश:-

हमाम में सब नंगे हैं

Last Updated: Friday, January 04, 2013, 17:26

हमाम में सब नंगे हैं- ये कहावत सियासी लोगों के बारे में समय-समय पर पढ़ने और सुनने को मिलती रही हैं। दिल्ली में हुई बहुचर्चित गैंग-रेप की घटना और उसके बाद नेताओं के बयानों पर बारीकी से नज़र डालने पर ये बात साबित भी हो जाती है।

सियासत की बात मायावती के साथ

Last Updated: Saturday, December 22, 2012, 15:08

पिछले दिनों संसद के शीतकालीन सत्र में राज्यसभा में तो सरकार ने प्रोन्नति में आरक्षण विधेयक को पारित करा लिया लेकिन लोकसभा में सपा के जबरदस्त विरोध की वजह से बिल का पारित नहीं कराया जा सका। बसपा की मुखिया बहन मायावती ने इस मुद्दे के विभिन्न पहलुओं पर ज़ी न्यूज़ उत्तर प्रदेश के संपादक वासिंद्र मिश्र से खास बातचीत की।

`स्पष्ट जनादेश ना मिलना दुर्भाग्यपूर्ण`

Last Updated: Friday, May 25, 2012, 17:31

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बीसी खंडूरी के साथ खास बातचीत की ज़ी न्यूज़ उत्तर प्रदेश के संपादक वासिन्द्र मिश्र ने अपने खास कार्यक्रम `सियासत की बात में`। पेश हैं इसके प्रमुख अंश-