Zee जानकारी : CAG रिपोर्ट में खुलासा, बीते 6 वर्षों में सरकार 6 लाख बच्चों को किताबें मुहैया नहीं करा सकी

Zee जानकारी : CAG रिपोर्ट में खुलासा, बीते 6 वर्षों में सरकार 6 लाख बच्चों को किताबें मुहैया नहीं करा सकी

CAG की रिपोर्ट के मुताबिक उत्तर प्रदेश में, वर्ष 2011 से लेकर 2016 के बीच... 8वीं कक्षा तक पहुंचते पहुंचते...1 करोड़ 21 लाख 29 हज़ार 657 बच्चों ने स्कूल छोड़ दिया.

Zee जानकारी : 2011 के Census के मुताबिक देश के 8 करोड़ 40 लाख बच्चे नहीं जाते स्कूल

Zee जानकारी : 2011 के Census के मुताबिक देश के 8 करोड़ 40 लाख बच्चे नहीं जाते स्कूल

2011 के Census के मुताबिक देश के 8 करोड़ 40 लाख बच्चे स्कूल ही नहीं जाते हैं. अब तक ये संख्या और बढ़ गई होगी.... ये आंकड़ा बहुत गंभीर है.

Zee जानकारी : सरकार और सिस्टम चाहे तो देश में शिक्षा के अच्छे दिन आ सकते हैं

Zee जानकारी : सरकार और सिस्टम चाहे तो देश में शिक्षा के अच्छे दिन आ सकते हैं

बच्चे देश का भविष्य होते हैं और हमें देश के भविष्य की चिंता है इसलिए आज हम DNA में देश के भविष्य के साथ हो रहे खिलवाड़ से जुड़े सबूत आपके सामने पेश करना चाहते हैं। गैर सरकारी संगठन प्रथम ने ग्रामीण भारत में शिक्षा के स्तर को दर्शाने वाली एनुवल स्टेट्स ऑफ एजुकेशन रिपोर्ट का ताज़ा अंक प्रकाशित किया है। इस रिपोर्ट को तैयार करने के लिए देश के 589 जिलों के ग्रामीण इलाकों का सर्वे किया गया। इस सर्वे में 5 लाख 62 हज़ार 305 बच्चों के शिक्षा के स्तर को नापा गया तो हैरान कर देने वाली बातें पता चलीं। आपको जानकर दुख होगा कि ग्रामीण भारत में बच्चों की पढ़ाई का स्तर या तो गिर रहा है या फिर इसमें मामूली सुधार दर्ज किया गया है। इस रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2014 में ग्रामीण भारत में 8वीं कक्षा के करीब 53 प्रतिशत बच्चे अंग्रेजी के सरल वाक्य पढ़ नहीं पाते थे लेकिन वर्ष 2016 आते-आते ये आंकड़ा 55 प्रतिशत से भी ज़्यादा हो गया। यानी ग्रामीण भारत में आठवीं कक्षा में पढ़ने वाला हर दूसरा बच्चा अंग्रेजी के सरल से सरल वाक्य भी ठीक से नहीं पढ़ पाता।

Zee जानकारी : लद्दाख में बच्चों के लिए उम्मीद की नई किरण हैं 'सोनम वांगचुक'

Zee जानकारी : लद्दाख में बच्चों के लिए उम्मीद की नई किरण हैं 'सोनम वांगचुक'

DNA में अगले विश्लेषण की शुरुआत करने से पहले मैं आपको, अमेरिका की कल्चरल एंथ्रोपोलाजिस्ट माग्रेट मीड का एक कथन सुनाना चाहता हूं। उनका कहना था, कि आपको कभी भी इस बात पर शक नहीं करना चाहिए, कि विचारों का एक छोटा समूह या लोगों का एक छोटा सा समूह इस दुनिया को बदल सकता है या नहीं? क्योंकि यही एक चीज़ है, जिसकी बदौलत आसानी से बदलाव लाया जा सकता है। आपको इस कथन के बारे में जानकारी देनी इसलिए ज़रूरी थी, क्योंकि हमारा अगला विश्लेषण, सामाजिक बदलाव की दिशा में एक व्यक्ति द्वारा उठाए गए सकारात्मक कदम पर आधारित है।

न तो शिक्षा वस्तु है और न ही छात्र उपभोक्ता हैं: उपभोक्ता फोरम

इंटर्नशिप या नौकरी देने के बारे में प्रवेश के समय किए गए वादे को कथित तौर पर पूरा न करने के खिलाफ दाखिल एक युवक की अपील को खारिज करते हुए एक उपभोक्ता अदालत ने कहा कि ‘शिक्षा उत्पाद नहीं है।’ दिल्ली जिला उपभोक्ता विवाद निवारण फोरम (पश्चिम) ने युवक की अपील खारिज कर दी। अपील में युवक ने एक निजी संस्थान को इवेन्ट मैनेजमेंट और पब्लिक रिलेशन्स में पीजी डिप्लोमा करने के लिए दी गई 3.52 लाख रुपये की फीस वापस किए जाने की मांग की थी।

राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर समिति की घोषणा 10 दिनों में होगी : जावड़ेकर

राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर समिति की घोषणा 10 दिनों में होगी : जावड़ेकर

मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने सोमवार को कहा कि सरकार एक ‘प्रबुद्ध शिक्षाविद’ के नेतृत्व में एक समिति की घोषणा अगले 10 दिनों में करेगी जो मसौदा राष्ट्रीय शिक्षा नीति पेश करेगी।

दो महीने से नहीं आ रहे थे टीचर, चपरासी ने शुरु की क्लास

दो महीने से नहीं आ रहे थे टीचर, चपरासी ने शुरु की क्लास

स्कूल में एक चपरासी का क्या काम होता है आप जानते होंगे लेकिन धमतरी में एक स्कूल में पिछले दो महीने से चपरासी बच्चों को पढ़ा रहे हैं जानिए क्यों?

क्या ऐसे उज्ज्वल होगा बच्चों का भविष्य

क्या ऐसे उज्ज्वल होगा बच्चों का भविष्य

सरकार भले ही सब पढ़ें-सब बढ़ें की बात करती हो, लेकिन सरकारी स्कूलों में शिक्षा स्तर लगातर गिरता जा रहा है।

किसने की प्रधानमंत्री से 'वन नेशन-वन नेम' की मांग ?, जानिए

किसने की प्रधानमंत्री से 'वन नेशन-वन नेम' की मांग ?, जानिए

 जैन मुनि आचार्य विद्यासागर जी महाराज ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देश को सिर्फ भारत के नाम से पुकारे जाने का सुझाव दिया है। पीएम मोदी ने शुक्रवार को भोपाल में जैन मुनि से मुलाकात कर उनका आशीर्वाद लिया।

Zee जानकारी : 'सबको शिक्षा देने के लक्ष्य को हासिल करने में अभी 50 साल पीछे है भारत'

Zee जानकारी : 'सबको शिक्षा देने के लक्ष्य को हासिल करने में अभी 50 साल पीछे है भारत'

कहते हैं, शिक्षा के बिना किसी भी देश का 'संपूर्ण विकास' संभव नहीं है। शिक्षा, को आप 'विकास या तरक्की' की मां भी कह सकते हैं। शिक्षा के बिना व्यक्ति ना तो अपना विकास कर सकता है, और ना ही देश और समाज का कल्याण कर सकता है. और आज मुझे आपको ये जानकारी देते हुए बहुत तकलीफ हो रही है, कि सबको शिक्षा दिए जाने के लक्ष्य को हासिल करने में भारत फिलहाल 50 साल पीछे है। देश के हर वर्ग को चिंता में डालने वाली ये बात, यूनेस्को की ग्लोबल एजुकेशन मॉनीटरिंग रिपोर्ट में कही गई है।

तेलंगाना में स्टार्ट अप को प्रोत्साहित करेगी माइक्रोसाफ्ट : नाडेला

तेलंगाना में स्टार्ट अप को प्रोत्साहित करेगी माइक्रोसाफ्ट : नाडेला

प्रमुख प्रौद्योगिकी कंपनी माइक्रोसाफ्ट के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) सत्य नाडेला ने कहा कि उनकी कंपनी माइक्रोसाफ्ट वेंचर्स एक्सेलेटर्स के जरिये राज्य में स्टार्ट अप को बढ़ावा देने के लिए तेलंगाना सरकार के साथ काम करेगी। नाडेला ने कहा कि लोगों को विफलताओं का जश्न तभी मनाएं जबकि वे उनसे सीख लें और गलतियां सुधारें।

भारत को मित्र देश कहने पर कटते थे नंबर: मलाला

भारत को मित्र देश कहने पर कटते थे नंबर: मलाला

शांति के लिए नोबेल पुरस्कार जीतने वाली मलाला यूसुफजई ने कहा है कि स्कूल में भारत को मित्र देश कहने पर नंबर काट लिए जाते थे। उन्होंने पाकिस्तान में शिक्षा में सुधार किए जाने पर जोर देते हुए कहा कि समाज में शांति के लिए यह बहुत जरूरी है।

भारत, मलेशिया एक-दूसरे की डिग्रियों को शीघ्र देंगे मान्यता

शिक्षा के क्षेत्र में सहयोग को प्रगाढ़ बनाने पर जोर देते हुए भारत और मलेशिया ने एक दूसरे की डिग्रियों को मान्यता देने के समझौते को जल्द पूरा करने का आज संकल्प व्यक्त किया। मलेशिया में भारत की शीर्ष शैक्षणिक संस्थाओं की कई डिग्रियों को मान्यता नहीं दी गई है।

 महंगाई से नहीं मिलेगी निजात! दालें, खाने की सभी चीजें, शिक्षा, स्वास्थ्य सब होगा और महंगा

महंगाई से नहीं मिलेगी निजात! दालें, खाने की सभी चीजें, शिक्षा, स्वास्थ्य सब होगा और महंगा

मुद्रास्फीति एक साल पहले के मुकाबले बेशक नीचे बनी हुई है लेकिन आम मध्यवर्ग के उपभोग की वस्तुओं और सेवाओं की महंगाई उसकी जेब पर अभी भी भारी पड़ रही है। दाल, तैयार खाना, जलपान, कपड़े के साथ-साथ शिक्षा और स्वास्थ्य सेवाओं का खर्च उसकी पहुंच से बाहर हो रहा है। उद्योग मंडल एसोचैम के एक विश्लेषण में यह निष्कर्ष निकला है।

जुकरबर्ग दंपति सिलिकॉन वैली शहर में खोलेंगे 'द प्राइमरी स्कूल'

जुकरबर्ग दंपति सिलिकॉन वैली शहर में खोलेंगे 'द प्राइमरी स्कूल'

फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग और उनकी डॉक्टर पत्नी की योजना सिलिकॅन वैली शहर में एक प्राइवेट स्कूल खोलने की है जहां बच्चों को शिक्षा के साथ साथ और स्वास्थ्य की देखभाल संबंधी जानकारी भी दी जाएगी।

दिसम्बर तक तैयार हो जायेगा नई शिक्षा नीति का मसौदा: स्मृति ईरानी

दिसम्बर तक तैयार हो जायेगा नई शिक्षा नीति का मसौदा: स्मृति ईरानी

मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने शनिवार को कहा कि देश में जिला स्तर तक के लोगों के सुझाव लेकर नई शिक्षा नीति तय करने की कवायद चल रही है और उम्मीद है कि दिसम्बर महीने तक इसका मसौदा तैयार हो जायेगा।

दिल्ली में परिवर्तन के लिए शिक्षा महत्वपूर्ण है : सिसोदिया

दिल्ली में परिवर्तन के लिए शिक्षा महत्वपूर्ण है : सिसोदिया

दिल्ली के परिवर्तन में शिक्षा महत्वपूर्ण है और समाज की सभी समस्याओं का समाधान है। यह बात सोमवार को दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कही।

शिक्षा के भगवाकरण का आरोप जड़ने वालों पर स्मृति ने ली चुटकी

शिक्षा के भगवाकरण का आरोप लगाने वालों पर चुटकी लेते हुए मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने सोमवार को कहा कि देश की शिक्षा पद्धति की अंतर्निहित शक्ति, प्राचीन अवधारणाओं और मूल्यों की विदेशों में प्रशंसा और सराहना की जाती है लेकिन देश में इसे ‘भगवा’ बताया जाता है।

शिक्षा के भगवाकरण नहीं, संविधान के दायरे में चलेगी शिक्षा: स्मृति

शिक्षा के भगवाकरण नहीं, संविधान के दायरे में चलेगी शिक्षा: स्मृति

शिक्षा के भगवाकरण के विपक्ष के आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने सोमवार को स्पष्ट किया कि संविधान दायरे में ही बच्चों को शिक्षा दी जायेगी और प्रधानमंत्री इस बारे में पहले ही अपनी प्रतिबद्धता व्यक्त कर चुके हैं।

पूरी दुनिया में लड़कों को शिक्षा में पछाड़ रहीं लड़कियां : अध्ययन

पूरी दुनिया में लड़कों को शिक्षा में पछाड़ रहीं लड़कियां : अध्ययन

भारत में हर साल दसवीं और बारहवीं की परीक्षाओं समेत दूसरी शैक्षणिक उपलब्धियों में लड़कियों द्वारा लड़कों को पछाड़ने की खबरें सामने आती हैं लेकिन ऐसा केवल भारत में ही नहीं है बल्कि दुनिया के 70 प्रतिशत देशों में शिक्षा संबंधी उपलब्धियों में लड़कियां लड़कों को पीछे छोड़ रही हैं। इनमें वे देश भी शामिल हैं जहां महिलाओं की स्वंतत्रता सीमित है।

पश्चिम आधारित शिक्षा की अवधारणा भारतीय संस्कृति के लिए झटका: राजनाथ

पश्चिम आधारित शिक्षा की अवधारणा भारतीय संस्कृति के लिए झटका: राजनाथ

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने अंग्रेजों द्वारा देश में लाई गई पश्चिम आधारित शिक्षा की अवधारणा को देश के मूल्यों और संस्कृति के लिए गहरा झटका करार दिया और कहा कि वर्तमान प्रणाली शिक्षा का मुख्य उद्देश्य पूरा नहीं कर रही है।