इस तरह से पाएं कैंसर पर काबू!

इस तरह से पाएं कैंसर पर काबू!

कैंसर के बढ़ते मामलों पर काबू पाने के लिए विशेषज्ञों की ओर से दिए गए सुझावों में इस बीमारी से निपटने के प्रति आक्रामक रवैया अपनाना, विभिन्न शहरों में किफायती उपचार उपलब्ध करवाना और स्वस्थ जीवनशैली अपनाना शामिल है।

निजी स्वच्छता, खतना, तंबाकू छोड़ने से कैंसर रोकने में मिलेगी मदद!

निजी स्वच्छता, खतना, तंबाकू छोड़ने से कैंसर रोकने में मिलेगी मदद!

मसालेदार भारतीय भोजन, निजी स्वच्छता, खतना, तंबाकू के इस्तेमाल पर प्रतिबंध कुछ ऐसी चीजें हैं, जो कैंसर से खुद को बचाने में मददगार साबित हो सकती हैं। यह जानकारी एक जाने-माने कैंसर विशेषज्ञ ने दी है। टाटा मेमोरियल सेंटर के निदेशक राजेंद्र ए बाडवे ने कहा कि कैंसर शब्द का इस्तेमाल ही अकसर इंसान में कंपकपी पैदा कर देता है लेकिन यदि इसकी पहचान जल्दी हो जाए तो इसका उपचार संभव है। उन्होंने एक साक्षात्कार में कैंसर से जुड़े कई मुद्दों और इससे निपटने के तरीकों पर बात की।

ये पांच उपाय आपको तंदुरुस्त रखने के साथ कैंसर से भी दूर रखते हैं!

ये पांच उपाय आपको तंदुरुस्त रखने के साथ कैंसर से भी दूर रखते हैं!

दुनिया भर में कैंसर एक ऐसी बीमारी है, जिसमें सबसे ज्यादा लोगों की मौत होती है। आज विश्वभर में सबसे ज्यादा मरीज इसकी चपेट में हैं। कैंसर जैसी बीमारी को टालने के लिए आप इन उपायों को अपना सकते हैं।

सांस के नमूने से अब बीमारी का पता चल सकेगा

सांस के नमूने से अब बीमारी का पता चल सकेगा

चिकित्सक किफायती और नॉन इनवेसिव उपकरण की मदद से जल्द ही मरीजों में पारसंस और विभिन्न तरह के कैंसर समेत 17 भिन्न और असंबद्ध बीमारियों के खतरे का पता लगाने में सक्षम होंगे।

वर्ष 2030 तक कैंसर से हर साल होगी 55 लाख महिलाओं की मौत : रिपोर्ट

वर्ष 2030 तक कैंसर से हर साल होगी 55 लाख महिलाओं की मौत : रिपोर्ट

कैंसर के कारण वर्ष 2030 तक हर साल करीब 55 लाख महिलाओं (डेनमार्क की कुल आबादी के करीब) की मौत की आशंका जतायी गयी है। इस आंकड़े पर गौर करें तो पता चलता है कि दो दशक से भी कम समय में ऐसे मामलों में करीब 60 प्रतिशत की वृद्धि होगी। एक रिपोर्ट में कहा गया कि वैश्विक आबादी में इजाफे के साथ गरीब और मध्यम आय वाले देशों में मरने वालों में सबसे अधिक संख्या महिलाओं की होगी। रिपोर्ट के अनुसार इनमें से अधिकतर की मौत कैंसर के कारण होगी, जो बड़े पैमाने पर रोके जाने लायक है।

कैंसर के सामान्य लक्षण, जिन्हें पहचानना है जरूरी

कैंसर के सामान्य लक्षण, जिन्हें पहचानना है जरूरी

दुनिया में कैंसर एक ऐसी बीमारी है, जिसमें सबसे ज्यादा लोगों की मौत होती है। आज विश्वभर में सबसे ज्यादा मरीज इसकी चपेट में हैं। इसका पता कभी-कभार नहीं चलता है। लेकिन कुछ लक्षण अगर आपके शरीर में उभरे तो उन्हें नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। इन लक्षणों के उभरने पर सावधान हो जाना चाहिए। कैंसर होने की स्थिति में ये लक्षण हो सकते हैं।

Zee जानकारी : कैंसर वाला धीमा जहर खाते हैं यूपी के 6 जिलों के लोग

Zee जानकारी : कैंसर वाला धीमा जहर खाते हैं यूपी के 6 जिलों के लोग

उत्तर प्रदेश के कृषि उत्पादन आयुक्त ने 6 जिलों के जिला अधिकारियों को निर्देश जारी किया है। उन्होंने हिंडन नदी से लगे गाज़ियाबाद, बागपत, सहारनपुर, मेरठ, मुजफ्फरनगर और शामली के जिला पंचायत अधिकारी और

अब नई विधि के जरिये महज 2 घंटे में खत्‍म होगा कैंसर सेल्‍स!

अब नई विधि के जरिये महज 2 घंटे में खत्‍म होगा कैंसर सेल्‍स!

अमेरिकी शोधकर्ताओं ने एक ऐसी विधि विकसित की है, जिससे खतरनाक कैंसर सेल्स को महज दो घंटे में खत्म किया जा सकेगा। इसके जरिये बच्चों, सर्जरी नहीं किए जाने योग्‍य या मुश्किल से पहुंच वाले ट्यूमर को निष्क्रिय करने में मदद मिलने की उम्‍मीद है।

जानिये, अदरक जूस का सेवन क्‍यों है फायदेमंद!

जानिये, अदरक जूस का सेवन क्‍यों है फायदेमंद!

इस बात से सभी वाकिफ हैं कि अदरक का सेवन सेहत के लिए काफी फायदेमंद है। वैसे भी भारतीय खान-पान में मसालों के तौर पर अदरक का काफी प्रयोग किया जाता है। अदरक मॉनसून सीजन में बीमारियों से भी बचाती है। अदरक में कैल्शियल, आयरन, कॉपर, मैग्नीशियम जिंक आदि मिनरल भरपूर मात्रा में पाया जाता है। अदरक में काफी मात्रा में एंटी ऑक्सिडेंट और गुणकारी मिनरल्‍स पाए जाते हैं, जिससे कई तरह की बीमारियों से निजात मिलती है। सीने में जकड़न या सांस लेने में भारीपन महसूस होने पर अदरक का रस शहद के साथ सेवन करने से आराम मिलता है। यदि आप इसे सीधे तौर पर खाना पसंद नहीं करते हैं तो इसका जूस के तौर पर भी सेवन किया जा सकता है।

See Video: यह बेर कुछ ही मिनटों में कैंसर को मार सकता है!

See Video: यह बेर कुछ ही मिनटों में कैंसर को मार सकता है!

वैज्ञानिकों ने एक बेर जो कैंसर से लड़ने का अवयव रखता है उसकी खोज करने का दावा किया है।ब्रिस्बेन में क्यूआईएमआर बर्गोफर मेडिकल रिसर्च इंस्टीट्यूट के डॉ.ग्लेन बॉयल के नेतृत्व में एक अध्ययन के अनुसार, वर्षावन बेरी में पाया जाने वाला एक अवयव एक मिनट के भीतर सिर और गर्दन के ट्यूमर को खत्म कर सकता है।

ब्रेड खाने से हो सकता है कैंसर, स्वास्थ्य मंत्रालय ने जांच के आदेश दिए

ब्रेड खाने से हो सकता है कैंसर, स्वास्थ्य मंत्रालय ने जांच के आदेश दिए

खाने में यदि आप ब्रेड का इस्तेमाल करते हैं तो सावधान हो जाइए क्योंकि सेंटर फॉर साइंस एंड इन्वायरन्मेंट (सीएसई) की रिपोर्ट के मुताबिक खाने वाले ब्रेड में कैंसर पैदा करने वाले रसायन पाए गए हैं। ब्रेड में ऐसे रसायन भी मिले हैं जिनसे थायराइड होने का भी खतरा है। सीएसई ने दिल्ली 38 बड़े फास्ट फूड ज्वाइंट पर मिलने वाले ब्रेड की जांच के बाद अपनी यह रिपोर्ट दी है।

क्रिकेटर युवराज सिंह ने कहा, मैं दोबारा लगाउंगा छह छक्के

क्रिकेटर युवराज सिंह ने कहा, मैं दोबारा लगाउंगा छह छक्के

विश्व कप 2011 में भारत की जीत के हीरो युवराज सिंह ने बातचीत के दौरान इस खतरनाक बीमारी से जूझ चुके 17 बच्चों को विशेष टिप्स दिए।किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ 24 गेंद में 42 रन की पारी खेलकर अपनी टीम सनराइजर्स हैदराबाद को इंडियन प्रीमियर लीग में अहम जीत दिलाने वाले युवराज पीसीए स्टेडियम में बच्चों के समूह से बात कर रहे थे जिसमें से कई बच्चे सात या आठ साल के थे।

सरकार ने 54 दवाओं के दाम की सीमा तय की

सरकार ने 54 दवाओं के दाम की सीमा तय की

फार्मा मूल्य नियामक राष्ट्रीय फार्मास्युटिकल मूल्य प्राधिकरण (एनपीपीए) ने कैंसर, मधुमेह, गठिया, बैक्टीरिया संक्रमण तथा उच्च रक्तचाप जैसी बीमारियों के इलाज में काम आने वाली 54 दवाओं की कीमतों की सीमा तय कर दी है।

अब हार्ट डिजीज ड्रग्स से होगा अग्न्याशय कैंसर का इलाज

अब हार्ट डिजीज ड्रग्स से होगा अग्न्याशय कैंसर का इलाज

शोधकर्ताओं ने पाया है कि एथेरोस्केरोसिस (धमनियों के अंदर का प्लॉक) के इलाज के लिए ईजाद दवा का इस्तेमाल अग्न्याशय के कैंसर के इलाज में हो सकता है। एथेरोस्केरोसिस से हृदय रोग का खतरा बढ़ जाता है। एथेरोस्केरोसिस वसा, कोलेस्ट्रॉल और धमनियों के अंदर के दूसरे पदार्थो से बनता है, जिससे रक्त प्रवाह में अवरोध उत्पन्न होता है। नए शोध से यह खुलासा हुआ है कि कोलेस्ट्रॉल मेटाबॉलिज्म को नियंत्रित करने से अग्न्याशय की कैंसरग्रस्त कोशिकाओं की मेटास्टासिस प्रक्रिया रुक जाती है। मेटास्टासिस प्रक्रिया से ही कैंसरग्रस्त कोशिकाएं दूसरी स्वस्थ कोशिकाओं को अपनी चपेट में लेती हैं। 

शुल्क छूट वापस लेने पर बोली सरकार, भारतीय दवाएं पहले से ही सस्ती

शुल्क छूट वापस लेने पर बोली सरकार, भारतीय दवाएं पहले से ही सस्ती

सरकार ने 76 जीवनरक्षक दवाओं से सीमा शुल्क छूट को वापस लेने के फैसले का बचाव करते हुए कहा कि भारतीय विनिर्माता पहले से इन से ज्यादातर दवाएं सस्ते दामों पर बेच रहे हैं। सरकार ने जिन 76 दवाओं से शुल्क छूट वापस ली है उनमें कैंसर, एड्स और हीमोफिलिया के इलाज में काम आने दवाएं शामिल हैं।

कैंसर के खतरे को कम करने के आसान टिप्स

कैंसर के खतरे को कम करने के आसान टिप्स

दुनिया में कैंसर एक ऐसी बीमारी है, जिसमें सबसे ज्यादा लोगों की मौत होती है।  कैंसर खतरनाक बीमारी है। यह शरीर की कोशिकाओं में तेजी से फैलने वाला रोग है। क्षतिग्रस्त कोशिकाओं के ऊतकों तक फैलने पर कैंसर जानलेवा भी साबित हो सकता है।

साधना को बॉलीवुड ने नम आंखों से दी अंतिम विदाई

साधना को बॉलीवुड ने नम आंखों से दी अंतिम विदाई

अभिनय की दुनियां में लोगों का दिल जीतने वाली खूबसूरती और सौम्यता की मूरत अभिनेत्री साधना का शुक्रवार को निधन हो गया था। शनिवार को मुंबई में उनके अंतिम संस्कार के साथ ही उन्हें नम आंखों से इस दुनिया से विदाई दी गई।

कैंसर से बचने के लिए अपना वजन घटाएं

कैंसर से बचने के लिए अपना वजन घटाएं

अगर आप मोटापे के शिकार हैं तो कैंसर से बचने के लिए आपको अपना वजन घटाना चाहिए। एक नए शोध में यह दावा किया गया है। शोध में 50 लाख से अधिक लोगों के आंकड़ों का विश्लेषण किया गया, जिसमें मोटापे और कैंसर के बीच संबंध पाया गया।

लंबे लोगों को अधिक होता है कैंसर का खतरा

लंबे लोगों को अधिक होता है कैंसर का खतरा

ऊंचे कद वाले पुरुषों व महिलाओं को कैंसर होने का खतरा अधिक होता है। स्वीडन में लंबे समय तक किए गए एक अध्ययन में यह खुलासा हुआ है।

कैंसर से बचा सकती है मिर्च से बनी दवा की गोली

कैंसर से बचा सकती है मिर्च से बनी दवा की गोली

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) मद्रास के शोधार्थियों का कहना है कि मिर्च के तीखेपन के लिए जिम्मेदार यौगिक प्रॉस्टेट ग्रंथि में कैंसर की कोशिकाओं को मारने वाला साबित हो सकता है। शोध करने वालों ने अपने अध्ययन में पाया कि मिर्च के यौगिक कैप्सकिन की मदद से एक दिन ऐसा इंजेक्शन या दवा की गोली बनेगी जो कैंसर से बचाने वाली साबित होगी।

मोबाइल फोन से हो सकती है कैंसर जैसी घातक बीमारी

मोबाइल फोन से हो सकती है कैंसर जैसी घातक बीमारी

मौजूदा समय की सबसे बड़ी जरूरत मोबाइल फोन के बारे में शंका की अटकलें पूरी तरह निराधार नहीं हैं। जिस मोबाइल फोन के बिना आज लोगों की जिंदगी की कल्पना करना मुश्किल है, वही मोबाइल फोन कैंसर जैसी घातक बीमारी का कारण भी बन सकता है। हाल ही में हुए एक अध्ययन में यह बात सामने आई है।