सावधान! बीमारियों का घर है बटुए और पर्स में रखा आपका करेंसी नोट?

सावधान! बीमारियों का घर है बटुए और पर्स में रखा आपका करेंसी नोट?

अगर आपको कोई यह कहे कि आप जिन नोटों को अपने पर्स, जेब या वॉलेट में रखते है वो आपको बीमार कर रहे हैं? क्या आप इसपर यकीन करेंगे। लेकिन एक सर्वे के मुताबिक करेंसी नोट बीमारियों का घर है जो आपको बीमार कर रहे हैं। अंग्रेजी अखबार 'द इंडियन एक्सप्रेस' की खबर के मुताबिक वैज्ञानिकों की जांच में पता चला है कि इन नोटों पर 78 बीमारियों को जन्म देने वाले जीवाणु पाए गए।  

एक जनवरी 2015 के बाद नहीं चलेंगे साल 2005 से पहले के छपे नोट (रुपया)

एक जनवरी 2015 के बाद नहीं चलेंगे साल 2005 से पहले के छपे नोट (रुपया)

देश में 2005 से पहले छपे करेंसी नोटों को बदलवाने के लिए अब सिर्फ 11 दिन बचे हैं। इस तरह के नोटों को बदलवाने की आखिरी तारीख एक जनवरी 2015 है। साल 2005 से पहले छपे कागजी नोटों को इससे पहले बदलवा लेना होगा।

‘2005 से पहले के नोट वाणिज्यिक लेनदेन के लिए मार्च तक ही वैध’

रिजर्व बैंक ने आज कहा कि 2005 से पहले छपे नोटों को वाणिज्यिक लेनदेन के लिए केवल 31 मार्च तक ही इस्तेमाल किया जा सकता है, लेकिन इस समय सीमा के बाद भी बैंकों में इन्हें बदला जा सकता है।

31 मार्च के बाद 2005 के पहले के छपे नोट (रुपया) नहीं चलेंगे, पहले के सभी नोट वापस लेगा RBI

भारतीय रिजर्व बैंक ने आज कहा कि 2005 से पहले जारी सभी करेंसी नोट 31 मार्च 2014 के बाद वापस लिए जाएंगे। यानी 2005 से पहले के छपे सभी नोट रद्दी हो जाएंगे।



लाइव स्कोर कार्ड