dear zindagi

डियर जिंदगी : बच्‍चे, कहानी और सपने…

डियर जिंदगी : बच्‍चे, कहानी और सपने…

‘कहानी खत्‍म हो गई है, क्‍या! कहीं मिलती नहीं. बच्‍चे जिद करते हैं कि कहानी सुनाओ, लेकिन हम तो सारी कहानियां भूल गए हैं, बच्‍चों को कहां से सुनाएं.’

Jul 26, 2018, 08:12 AM IST
डियर जिंदगी: ‘अपने’ मन से दूरी खतरनाक!

डियर जिंदगी: ‘अपने’ मन से दूरी खतरनाक!

हमने यह तो पढ़ा, लिखा और सुना है कि मन चंचल है. मन पागल है. मन मनमौजी है, लेकिन हमारा मन हमसे दूर हो गया! भला यह क्‍या बात हुई…

Jul 25, 2018, 07:49 AM IST
डियर जिंदगी : अनचाही ख्‍वाहिश का जंगल होने से बचें...

डियर जिंदगी : अनचाही ख्‍वाहिश का जंगल होने से बचें...

मनुष्‍य बने रहने के लिए. जिंदगी को ख्‍वाहिश का जंगल बनने से बचाना होगा. हमेशा ख्‍वाहिश के पीछे दौड़ते रहने से जिंदगी का स्‍वाद कैसे मिलेगा, जिसके लिए पचास तरह के प्रयास किए जा रहे हैं.

Jul 24, 2018, 07:28 AM IST
डियर जिंदगी : कड़ी धूप के बीच ‘घना’ साया कहां है…

डियर जिंदगी : कड़ी धूप के बीच ‘घना’ साया कहां है…

हर व्‍यक्‍ति के लिए उसका ‘घना’ साया अलग-अलग लोग हो सकते हैं. जैसे सचिन तेंदुलकर के लिए उनका ‘घना’ साया उनके भाई अजित तेंदुलकर थे. कवि नीरज के लिए एसडी वर्मन थे.

Jul 23, 2018, 07:42 AM IST
डियर जिंदगी : वह ख़त क्‍या हुए…

डियर जिंदगी : वह ख़त क्‍या हुए…

हमने सोचा था जैसे चिट्ठी अल्‍फाज के बहाने जज्‍बात बयां कर देती थी, वही काम एसएमएस, व्‍हाट्सअप कर देगा, लेकिन ऐसा हुआ नहीं. इनसे प्रेम की जगह गुस्‍सा बयां हो रहा है. 

Jul 20, 2018, 08:14 AM IST
डियर जिंदगी: काश! से बाहर निकलें…

डियर जिंदगी: काश! से बाहर निकलें…

अतीत की गलियां हमारा सबसे प्रिय आश्रय हैं. वर्तमान के आंगन में जरा सी धूप आते ही हम हम अतीत की गलियों में दुबकने लगते हैं. 

Jul 19, 2018, 08:13 AM IST
डियर जिंदगी: सबकुछ सुरक्षित होने का ‘अंधविश्‍वास'

डियर जिंदगी: सबकुछ सुरक्षित होने का ‘अंधविश्‍वास'

हमारी सोच-समझ और विश्‍वास धीमे-धीमे बनते हैं, लेकिन उनकी जड़ें बरगद जैसी होती हैं. एक बार उनके बन जाने पर मनुष्‍य की चेतना में परिवर्तन लगभग असंभव जैसा होता है. 

Jul 18, 2018, 09:14 AM IST
डियर जिंदगी: बस एक दोस्‍त चाहिए, जिससे सब कहा जा सके...

डियर जिंदगी: बस एक दोस्‍त चाहिए, जिससे सब कहा जा सके...

कम से कम एक दोस्‍त, हमख्‍याल बनाइए, जिससे सबकुछ कहा जा सके. जो हर हाल में आपके साथ रहे. भले दुनिया मुंह फेर ले. भले कोई आवाज न दे. लेकिन उसके पास आपकी आवाज सुनने का वक्‍त रहे और आप तक उसकी आवाज आती रहे!

Jul 17, 2018, 07:21 AM IST
डियर जिंदगी : आत्‍महत्‍या 'रास्‍ता' नहीं, सजा है…

डियर जिंदगी : आत्‍महत्‍या 'रास्‍ता' नहीं, सजा है…

जीवन संघर्ष, तनाव, रिश्‍ते से दुखी, अपराधबोध से भीगे मन तेजी से आत्‍महत्‍या की ओर बढ़ रहे हैं. बाहर से सफल, सुखी दिखने वाले मन के भीतर उमड़-घुमड़ रहे डिप्रेशन और अकेलेपन को समझना सहज नहीं.

Jul 16, 2018, 07:30 AM IST
डियर जिंदगी : 'तेरे-मेरे सपने एक रंग नहीं हैं…'

डियर जिंदगी : 'तेरे-मेरे सपने एक रंग नहीं हैं…'

सपनों के प्रति सतर्क रहें. उनके लिए पागल बनें. दूसरों के लिए उनको दांव पर न लगाएं, बल्कि उनके हिसाब से ‘दूसरी’ चीजें तय करें.

Jul 13, 2018, 08:06 AM IST
डियर जिंदगी : जो माता-पिता को ‘आश्रम‘ छोड़ने जा रहे हैं…

डियर जिंदगी : जो माता-पिता को ‘आश्रम‘ छोड़ने जा रहे हैं…

बच्‍चे असल में बच्‍चे नहीं होते. वह तो हमारा विस्‍तार हैं. हमारी समझ, सोच और संवेदना का. किसी बड़े से कुछ छिप सकता है, लेकिन उस घर के बच्‍चे से नहीं. 

Jul 12, 2018, 07:28 AM IST
डियर जिंदगी : शुक्रिया, एंटोइन ग्रीजमैन!

डियर जिंदगी : शुक्रिया, एंटोइन ग्रीजमैन!

जिस विनम्रता, कृतज्ञता का उन्‍होंने बेहद जुनूनी, उत्‍तेजना के पल में परिचय दिया वह बेमिसाल है. उन्होंने साबित किया कि जीवन मूल्‍य अगर आत्‍मा तक उतरे हों, तो बाहर 'चादर' कैसी भी हो, वह कभी मैले नहीं होते. 

Jul 11, 2018, 07:08 AM IST
डियर जिंदगी : थोड़ा वक्‍त उनको, जिन्होंने हमें खूब दिया...

डियर जिंदगी : थोड़ा वक्‍त उनको, जिन्होंने हमें खूब दिया...

नीम का पेड़ लगाने से नीम और आम का पेड़ तैयार करने से आम होता है. यह प्रकृति का शास्‍वत नियम है. सब पर बिना भेदभाव लागू होता है.

Jul 10, 2018, 07:47 AM IST
डियर जिंदगी : ‘बीच’ में कौन आ गया!

डियर जिंदगी : ‘बीच’ में कौन आ गया!

सोशल मीडिया पर संबंध उनके लिए हैं, जिनके पास शायद असली जिंदगी में रिश्‍ते, दोस्‍तों की कमी है. उनके लिए नहीं जो इसकी कीमत पर असली संबंधों को ही तबाह किए जा रहे हैं. 

Jul 9, 2018, 07:42 AM IST
डियर जिंदगी:  फि‍र भी 'सूखा' मन के अंदर...

डियर जिंदगी: फि‍र भी 'सूखा' मन के अंदर...

जिंदगी में ऐसे पड़ाव तब आते हैं, जब जिंदगी को सपनों के पंख मिल चुके होते हैं. हम उड़ना शुरू कर चुके होते हैं, लेकिन इस लंबी यात्रा का यह पल अपने साथ कई चुनौतियां लेकर आता है.

Jul 6, 2018, 07:13 AM IST
डियर जिंदगी: सुख की प्रतीक्षा में...

डियर जिंदगी: सुख की प्रतीक्षा में...

पहले हम कहीं अधिक संतोष में थे. सुख में थे. उसकी वजह एक समाज के रूप में संतोषी होना ही नहीं था, बल्कि उसके मूल में जीवन की प्रक्रिया में गहरा भरोसा था.

Jul 5, 2018, 08:03 AM IST
डियर जिंदगी: आप किसके साथ हैं!

डियर जिंदगी: आप किसके साथ हैं!

परेशानी अगर है तो इसमें कि आप पहले हामी भरते हैं, फि‍र उसे बिसरा देते हैं. कितनी आसानी से हम कह देते हैं, ‘मैं हूं ना’

Jul 4, 2018, 08:05 AM IST
डियर जिंदगी : भेड़ होने से बचिए…

डियर जिंदगी : भेड़ होने से बचिए…

बाजार के प्रभाव में हमारी संवेदना, भावना निरंतर शुष्‍क, खुरदरी और बंजर होती जा रही है. 

Jul 3, 2018, 07:41 AM IST
डियर जिंदगी : ‘सर्कस’ होने से बचिए...

डियर जिंदगी : ‘सर्कस’ होने से बचिए...

जाने-अनजाने हम नेशनल पार्क की आजादी की जगह ‘सर्कस’ वाला जीवन जी रहे हैं. दूसरों के वादे, रहम पर जिंदगी में शांति, सुकून तलाश रहे हैं. पतंग का मालिक डोर खरीदने वाला नहीं, उड़ाने वाला होता है. इसलिए अपने जीवन की डोर दूसरे को थामने का अवसर न दें.

Jul 2, 2018, 07:53 AM IST
डियर जिंदगी : तुम सुनो तो सही!

डियर जिंदगी : तुम सुनो तो सही!

अगर आप ध्‍यान से देखें तो पाएंगे कि तनाव हमारी आत्‍मा तक कैसे और कहां से पहुंच रहा है. यह अदृश्‍य नहीं है. तनाव और डिप्रेशन तो हमारे सामने ही, हमारी समझ के पर्दे को पार करके ‘मन’ से होते हुए आत्‍मा तक पहुंच रहे हैं.

Jun 29, 2018, 08:41 AM IST

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close