pavan chaurasia

जरूरत है हिंदी को ‘हिंदीवादियों’ से सुरक्षित रखने की...

जरूरत है हिंदी को ‘हिंदीवादियों’ से सुरक्षित रखने की...

हिंदीवादी का मतलब उन लोगों से है जो हिंदी भाषा से नहीं बल्कि हिंदी को हर क्षेत्र में, विशेष रूप से गैर-हिंदी भाषी राज्यों पर थोपने से प्रेम करते हैं. 

Sep 14, 2018, 03:59 PM IST
JNU Elections : लाल के मुकाबले नीला और भगवा

JNU Elections : लाल के मुकाबले नीला और भगवा

जेएनयू एक जमाने में ‘लाल-गढ़’ के नाम से जाना जाता था, जहां वामपंथी विचारधारा ही हावी रहती थी. लाल से अलग कोई भी रंग (नीला, भगवा आदि) अपनी उपस्थिति भी दर्ज करा पाने में सफल नहीं हो पाता था. यहां तक कि पूरी डिबेट मार्क्स से शुरू होकर, लेनिन से होते हुए फिदेल कास्त्रो पर जाकर खत्म होती थी.

Sep 10, 2018, 05:36 PM IST
जो मृत्यु के सामने भी ‘अटल’ रहा, जिसकी “मौत से ठन गई”

जो मृत्यु के सामने भी ‘अटल’ रहा, जिसकी “मौत से ठन गई”

बहुमुखी प्रतिभा के धनी अटल जहां अपनी राजनीतिक शालीनता, सभ्यता, शिष्टाचार के कारण एक शिरोमणि हैं, वहीं उनकी कविताओं में छुपा गहरा दर्शन, भाव, और राष्ट्रवाद कठोर से कठोर व्यक्ति के ह्रदय में भी संवेदना उत्पन्न करने में सक्षम है.

Aug 16, 2018, 11:26 PM IST
मार्क्स @200: कितना प्रासंगिक है मार्क्सवाद?

मार्क्स @200: कितना प्रासंगिक है मार्क्सवाद?

जब तक मार्क्सवाद का भारतीयकरण और इसमें आमूलचूल परिवर्तन नहीं आएंगे तब तक इसका उत्थान संभव नहीं है.

मई 20, 2018, 01:58 PM IST
दलितों के साथ भोजन करने से नहीं होगा सशक्तिकरण

दलितों के साथ भोजन करने से नहीं होगा सशक्तिकरण

जाति-व्यवस्था से सबसे अधिक हानि दलितों को हुई जो उस व्यवस्था में सबसे निचले पायदान में आते हैं और जिन्हें कई तरह के अत्याचार, छुआछूत, अन्याय और अमानवीय बर्तावों को सहना पड़ा, और काफी हद तक आज भी सह रहे हैं.

मई 8, 2018, 01:33 PM IST
आंबेडकर को मात्र ‘दलित-नेता’ कहना उनके साथ सबसे बड़ा अन्याय

आंबेडकर को मात्र ‘दलित-नेता’ कहना उनके साथ सबसे बड़ा अन्याय

14 अप्रैल भारत के लिए किसी भी राष्ट्रीय पर्व से कम नहीं है. आज एक कृतज्ञ राष्ट्र संविधान निर्माता डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर को उनके 127वें जन्मदिवस पर श्रद्धांजलि अर्पित करता है.

Apr 14, 2018, 01:48 PM IST
 फूलपुर, गोरखपुर उपचुनाव ने तय कर दी है 2019 लोकसभा चुनाव की दिशा

फूलपुर, गोरखपुर उपचुनाव ने तय कर दी है 2019 लोकसभा चुनाव की दिशा

प्रधानमंत्री मोदी, पार्टी अध्यक्ष अमित शाह और मुख्यमंत्री योगी 2019 के लिए उत्तर प्रदेश से बड़ी उम्मीद लगाए बैठे हैं लेकिन इन नतीजों ने पार्टी को अपनी रणनीति पर दोबारा से विचार करने पर मजबूर कर दिया है. 

Mar 18, 2018, 11:20 PM IST
Book Review : जीवन के गणित की 'प्रमेय' समझातीं रचनाएं

Book Review : जीवन के गणित की 'प्रमेय' समझातीं रचनाएं

इस पुस्तक की कविताएं न केवल परिस्थितियों और उनमें न्यस्त विडंबनाओं का वर्णन करती हैं बल्कि आप इनमें सुदीर्घ चिंतन की एक ऐसी अंतर्धारा का सहज बोध करेंगे जो अंततोगत्वा आपका साक्षात्कार जीवन के एक सत्य, एक सुचिंतित जीवन-दर्शन से कराएंगी.

Mar 8, 2018, 02:58 PM IST
Opinion: ‘सोवियत संघ के विघटन’ जैसा त्रिपुरा चुनाव परिणाम

Opinion: ‘सोवियत संघ के विघटन’ जैसा त्रिपुरा चुनाव परिणाम

त्रिपुरा में भाजपा की ऐतिहासिक जीत इस मायने में बेहद खास है कि जहां पिछले विधानसभा चुनावों में पार्टी अपना खाता तक नहीं खोल पाई थी. वहीं अब पार्टी के ‘कांग्रेस-मुक्त भारत’ के सपने को भी एक नयी उड़ान मिली है क्योंकि रुझानों के अनुसार कांग्रेस का त्रिपुरा में खाता भी नहीं खुल पाया है.

Mar 3, 2018, 03:30 PM IST
पीएम मोदी की ‘डी हाइफनेशन’ नीति दर्शाता फिलिस्तीन दौरा

पीएम मोदी की ‘डी हाइफनेशन’ नीति दर्शाता फिलिस्तीन दौरा

सबसे अधिक चर्चा मोदी के फिलिस्तीन दौरे की रही, जिसको भारत में ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया में बड़े गौर से देखा गया. उनका फिलिस्तीन दौरा ऐसे समय में हुआ जब भारत का सबंध फिलिस्तीन के सबसे बड़े विरोधी माने जाने वाले इजराइल के साथ सबसे मजबूत स्तर पर है और एक तरह से अपने ‘स्वर्णिम युग’ में भी चल रहा है.

Feb 10, 2018, 04:06 PM IST
Opinion : क्या ‘शिक्षा बनाम रोजगार’ की लड़ाई लड़ रहे हैं यह याचिकाकर्ता?

Opinion : क्या ‘शिक्षा बनाम रोजगार’ की लड़ाई लड़ रहे हैं यह याचिकाकर्ता?

जिस देश में अस्सी प्रतिशत से भी अधिक छात्र और छात्राएं मध्यमवर्गीय या निम्नवर्गीय परिवारों से आते हों, वहां पर जल्द से जल्द नौकरी प्राप्त करने का भारी दबाव रहता है...

Feb 7, 2018, 07:13 PM IST
हज सब्सिडी की समाप्ति : तुष्टीकरण से सशक्तिकरण की ओर एक कदम

हज सब्सिडी की समाप्ति : तुष्टीकरण से सशक्तिकरण की ओर एक कदम

सबसे बड़ी समस्या यह है कि सरकारों द्वारा मुस्लिम समाज से जुड़ा हुआ कोई भी निर्णय केवल सेक्युलर/कम्युनल के चश्मे से ही देखा जाता है और इसके प्रशासनिक दृष्टिकोण को हमेशा नजरअंदाज कर दिया जाता है.

Jan 19, 2018, 12:41 PM IST
क्या भारतीय सेना केवल 'आर्मी डे' के दिन ही सम्मान के काबिल है?

क्या भारतीय सेना केवल 'आर्मी डे' के दिन ही सम्मान के काबिल है?

संयुक्त राष्ट्र (UN) के लिए भी भारतीय सेना ने संयुक्त राष्ट्र शांति रक्षा सेना (UN Peace Keeping Force) में दुनिया के कई अशांत क्षेत्रों में अपने जवान भेजकर के विश्व-शांति बनाने के लिए सराहनीय योगदान दिया है. लेकिन इन सब के बावजूद बड़े ही खेद का विषय है कि आज-कल भारतीय सेना को गाली देना एक फैशन-सा बन गया है.

Jan 15, 2018, 05:41 PM IST
राजनीतिक अनिश्चितताओं का साल रहा 2017...

राजनीतिक अनिश्चितताओं का साल रहा 2017...

कांग्रेस के लिए यह कोई विशेष हर्ष का साल तो नहीं रहा, लेकिन साल के अंत में उसको कुछ राहत ज़रूर मिली और पार्टी भाजपा के समक्ष एक मज़बूत विपक्ष के रूप में उभरने में कुछ हद तक सफ़ल भी रही. 

Dec 28, 2017, 03:22 PM IST
कांग्रेस-भाजपा के लिए आत्ममंथन का संदेश देता गुजरात विधानसभा चुनाव परिणाम

कांग्रेस-भाजपा के लिए आत्ममंथन का संदेश देता गुजरात विधानसभा चुनाव परिणाम

कांग्रेस को यह समझना पड़ेगा कि केवल गांधी-नेहरू परिवार की विरासत के दम पर राहुल गांधी 21वीं सदी के भारत, विशेषकर युवाओं को कांग्रेस पार्टी की तरफ आकर्षित नहीं कर पाएंगे. 

Dec 20, 2017, 11:17 AM IST
‘सामाजिक न्याय’, ‘समान अधिकार’ और ‘अन्त्योदय’ हैं संविधान दिवस के मूल भाव...

‘सामाजिक न्याय’, ‘समान अधिकार’ और ‘अन्त्योदय’ हैं संविधान दिवस के मूल भाव...

संविधान की सबसे बड़ी उपलब्धि यह रही है कि संविधान ने देश के सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक परिवेश में ‘चेंज ऑफ़ दा सिस्टम’ के बजाए ‘चेंज इन द सिस्टम’ के लिए पर्याप्त समाधान उपलब्ध करवाए हैं जिससे भारत का लोकतंत्र आज इतना मजबूत, विकेन्द्रीकृत और गतिशील है.

Nov 28, 2017, 12:21 PM IST
Book Review : बीजेपी का ‘विनिंग फ़ॉर्मूला' समझाती है यह पुस्तक

Book Review : बीजेपी का ‘विनिंग फ़ॉर्मूला' समझाती है यह पुस्तक

मसलन राज्यों की जन-भावना और संस्कृति को देखते हुए बीजेपी ने बीफ-बैन और उस से सम्बंधित राजनीति को पूर्वोत्तर राज्य में बिलकुल भी इस्तेमाल नहीं किया. तीसरा है ज़मीनी हकीकत को समझते हुए व्यावहारिक दृष्टिकोण.

Sep 30, 2017, 01:36 PM IST
शौचालय पर एक 'सोच'

शौचालय पर एक 'सोच'

भीलवाड़ा में उपनगरपुर की रहने वाली एक महिला की शादी आटूण में हुई थी. जब वो शादी के बाद अपने ससुराल पहुंची तो उसे पता चला कि घर में शौचालय ही नहीं है. सोने और बैठने के लिए घर में अलग कमरा भी नहीं था जिसकी वजह से उसे बरामदे में सोना पड़ता था.

Sep 9, 2017, 03:33 PM IST

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close