श्रीलंका: सांप्रदायिक दंगों के बाद पीएम विक्रम रानिलसिंघे पर गिरी गाज

ताजा हिंसा के बादराष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना ने प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे से कानून- व्यवस्था मंत्रालय छीन लिया है. 

श्रीलंका: सांप्रदायिक दंगों के बाद पीएम विक्रम रानिलसिंघे पर गिरी गाज
देश में मंगलवार को 10 दिनों के लिए आपातकाल की स्थिति घोषित कर दी गई थी.(फाइल फोटो)
Play

कोलंबो: देश में आपातकाल की घोषणा के बावजूद कैंडी जिले में बहुसंख्यक सिंहला बौद्धों और अल्पसंख्यक मुसलमानों के बीच ताजा हिंसा के बादराष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना ने प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे से कानून- व्यवस्था मंत्रालय छीन लिया है. विक्रमसिंघे की यूनाइटेड नेशनल पार्टी( यूएनपी) के वरिष्ठ सदस्य रंजीत मद्दुमा बंडारा ने सुबह देश के कानून- व्यवस्था मंत्री के रूप में शपथ ग्रहण की. पुलिस इसी मंत्रालय के तहत आती है.

कानून- व्यवस्था मंत्री के रूप में विक्रमसिंघे का 11 दिनों का कार्यकाल कैंडी जिले में सोमवार से जारी नस्लीय तनाव के कारण बेहद मुश्किलों भरा रहा. बहुसंख्यक सिंहला भीड़ ने मुसलमानों के उद्योगों और धार्मिक स्थलों पर हमले किये जिसके कारण सरकार को आपातकाल की घोषणा करनी पड़ी.

यह भी पढ़ें- कैंडी में दंगों के बाद श्रीलंका में 10 दिनों के लिए आपातकाल की घोषणा की गई

श्रीलंका की सरकार ने इंटरनेट सेवा बंद कर दी थी और दंगा प्रभावित क्षेत्रों में व्हाट्सऐप जैसे संदेश भेजने वाली वेबसाइटों को बंद कर दिया था. गौरतलब है कि कैंडी जिले में हुई हिंसा में तीन लोग मारे गये हैं. कैंडी जिले में गुरुवार को दिन में कर्फ्यू से राहत दी गयी है.

सरकारी सूचना महानिदेशक सुदर्शन गुणवर्धन ने एक बयान में कहा, ‘‘ लोगों की ओर से भोजन और अन्य वस्तुओं की खरीद सहित अन्य जरूरी कार्यों के संपादन हेतु कर्फ्यू में ढील दिये जाने का अनुरोध करने के बाद राष्ट्रपति मैत्रीपाला सीरीसेना ने कैंडी जिले में सुबह10 बजे से कर्फ्यू हटाने और शाम छह बजे उसे वापस बहाल करने का फैसला लिया है.’’

श्रीलंका में 10 दिनों के लिए आपातकाल 
श्रींलका के कैंडी जिले में बौद्ध समुदाय और अल्पसंख्यक मुसलमानों के बीच भड़की हिंसा के बाद देश में मंगलवार को 10 दिनों के लिए आपातकाल की स्थिति घोषित कर दी गई थी. हिंसक झड़पों में 3 लोगों की मौत हो गई थी. सोमवार को हिंसा भड़कने के बाद पुलिस ने थेलदेनिया इलाके में कर्फ्यू लगा दिया था.

इनपुट भाषा से भी 

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close