अमेरिका में नस्ली दुर्व्यवहार का शिकार हुई भारतीय लड़की

अमेरिका में एक भीड़ भरी ट्रेन में भारतीय मूल की एक लड़की के साथ कथित तौर पर अफ्रीकी-अमेरिकी शख्स ने नस्ली दुर्व्यवहार किया। उसने लड़की को न सिर्फ अनुपयुक्त नामों से बुलाया बल्कि ‘यहां से निकल जाओ’ कहते हुए चिल्लाया भी। न्यूयॉर्क में रहने वाली एकता देसाई ने 23 फरवरी को हुई इस घटना का वीडियो बनाया।

न्यूयॉर्क: अमेरिका में एक भीड़ भरी ट्रेन में भारतीय मूल की एक लड़की के साथ कथित तौर पर अफ्रीकी-अमेरिकी शख्स ने नस्ली दुर्व्यवहार किया। उसने लड़की को न सिर्फ अनुपयुक्त नामों से बुलाया बल्कि ‘यहां से निकल जाओ’ कहते हुए चिल्लाया भी। न्यूयॉर्क में रहने वाली एकता देसाई ने 23 फरवरी को हुई इस घटना का वीडियो बनाया।

एकता का यह वीडियो ‘द वॉयस रेजर’ नाम की एक वेबसाइट ने शेयर किया जिसके बाद ही ये वायरल हो गया और अब तक इसे हजारों लोग देख चुके हैं।इस वीडियो में अफ्रीकी-अमेरिकी शख्स लड़की से दुर्व्यवहार करता दिख रहा है।

वह ‘फ्रीडम ऑफ स्पीच’ और ‘ब्लैक पावर’ जैसे शब्दों का इस्तेमाल कर रहा था। अपशब्दों का इस्तेमाल करते हुए उसने लड़की से कहा, ‘यहां से चली जाओ।’ लड़की इस पूरे घटनाक्रम का वीडियो बना रही थी, यह देखकर वो शख्स और नाराज हो गया और उस पर चिल्लाता हुआ दिखा।

एकता ने सोशल मीडिया पर लिखा, ‘यह शख्स उसी रास्ते पर ट्रेन में सफर कर रहा था जिस पर मैं 100 अन्य मुसाफिरों के साथ थी। मैंने अपना हेडफोन लगा रखा था और ये बिल्कुल किसी दूसरे सामान्य दिन की तरह ही था। अगली चीज जो मैं जानती थी वो यह कि वो शख्स मेरे चेहरे पर चिल्ला रहा था मैंने उसे सुनने या उस पर प्रतिक्रिया देने की जहमत नहीं उठाई।’

एकता ने कहा कि उसने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी लेकिन वो शख्स लगातार चिल्लाता रहा और यह पूछता रहा कि वो उसकी तस्वीरें क्यों ले रही है। वीडियो अपलोड किए जाने के बाद कुछ लोगों ने लड़की के प्रति सहानुभूति दिखाई है।

एकता ने कहा कि उन्होंने पुलिस अधिकारियों के सामने अपना मामला रखा है, उन्होंने कथित तौर पर कहा कि ऐसा लगता है कि वो शख्स ‘भावनात्मक रूप से अस्थिर’ है और उसे सतर्क रहना चाहिए। इसके बाद एकता ने मानवाधिकाकार कार्यकर्ता और द वॉयस रेजर के संस्थापक कुंदन श्रीवास्तव से संपर्क किया, जिन्होंने कहा कि ‘महिला के उत्पीड़न और दुर्व्यवहार तथा हमारे देश का अपमान करने के लिए’ अमेरिकी सरकार को उसे ‘सजा’ देनी चाहिए।

श्रीवास्तव के संगठन ने कहा, ‘हम यह भी कहना चाहते हैं कि लड़की होने का मतलब किसी से कम सक्षम या असहाय होना नहीं होगा। जैसा कि आप वीडियो में देख सकते हैं, लोग महज मूकदर्शक बने खड़े हैं। उसके बकवास चीजे बोलीं और अस्वीकार्य भाषा का इस्तेमाल किया। एक शख्स नैतिक नियमों से बंधा होता है और किसी महिला के साथ बेशर्मी नहीं कर सकता।’

यह घटना हाल ही में कंसास में भारतीय इंजीनियर श्रीनिवास कुचीभोटला की गोली मारकर हत्या किए जाने के कुछ समय बाद सामने आई है। श्रीनिवास को अमेरिकी नौसेना के पूर्व सैनिक एडम पुरींटन ने गोली मार दी थी। इस गोलीकांड के दौरान एडम चिल्ला रहा था ‘मेरे देश से निकल जाओ।’