शिखर वार्ता के बाद ट्रंप के बदले सुर, कहा- किम से मेरा बहुत खास जुड़ाव बन गया

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार(12 जून) को कहा कि उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग-उन के साथ मंगलवार(12 जून) को हुई उनकी ऐतिहासिक शिखर वार्ता के दौरान ‘‘प्रतिभाशाली’’ किम के साथ उनका ‘‘बहुत खास जुड़ाव’’ बन गया.

शिखर वार्ता के बाद ट्रंप के बदले सुर, कहा- किम से मेरा बहुत खास जुड़ाव बन गया
किम के बारे में ट्रंप की ऐसी टिप्पणी के बारे में कुछ महीने पहले शायद ही सोचा जा सकता था.(फाइल फोटो)

सिंगापुर: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार(12 जून) को कहा कि उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग-उन के साथ मंगलवार(12 जून) को हुई उनकी ऐतिहासिक शिखर वार्ता के दौरान ‘‘प्रतिभाशाली’’ किम के साथ उनका ‘‘बहुत खास जुड़ाव’’ बन गया. किम के बारे में ट्रंप की ऐसी टिप्पणी के बारे में कुछ महीने पहले शायद ही सोचा जा सकता था, क्योंकि उस वक्त दोनों एक-दूसरे को धमकियां देते थे और एक-दूसरे का अपमान करते थे. पिछले साल उत्तर कोरिया ने जब अंतरराष्ट्रीय समुदाय को धता बताकर कई परमाणु एवं बैलिस्टिक मिसाइलों का परीक्षण किया था, उस वक्त दोनों नेताओं के बीच जुबानी जंग छिड़ गई थी.

मई 2017 में ट्रंप ने किम को ‘‘ परमाणु हथियारों से लैस पागल आदमी’’ करार देते हुए कहा था कि उन्हें कुछ भी करने की इजाजत नहीं दी जा सकती. अगले महीने अमेरिका ने उत्तर कोरिया के परमाणु एवं मिसाइल कार्यक्रमों से जुड़े लोगों एवं संस्थाओं पर प्रतिबंध लगा दिए थे. जुलाई 2017 में उत्तर कोरिया ने जापान सागर में लंबी दूरी की मिसाइल का परीक्षण किया था.

इस मिसाइल के बारे में कुछ विशेषज्ञों ने कहा था कि यह अमेरिका के अलास्का प्रांत तक पहुंचने में सक्षम है. अलास्का उत्तर अमेरिका के सुदूर उत्तर-पश्चिम में है. पिछले साल सितंबर में संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने पहले संबोधन में राष्ट्रपति ट्रंप ने ‘‘ उत्तर कोरिया को पूरी तरह बर्बाद करने की धमकी दी थी.’’

ट्रंप के इस बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए किम ने अमेरिकी राष्ट्रपति के व्यवहार को ‘‘मानसिक तौर पर विक्षिप्त’’ जैसा करार दिया था और जोर देकर कहा था कि ‘‘डरा हुआ कुत्ता ज्यादा जोर से भौंकता है.’’ नवंबर में राष्ट्रपति ट्रंप ने आधिकारिक तौर पर उत्तर कोरिया को आतंकवाद का प्रायोजक देश घोषित कर दिया था.

ट्रंप ने किम को ‘‘ लिटिल रॉकेट मैन ’’ भी कहा था और उत्तर कोरिया पर ऐसा हमला करने की धमकी दी थी जैसा दुनिया में कभी किसी ने नहीं देखा होगा. इसके जवाब में किम ने आरोप लगाया कि ट्रंप ‘‘ मानसिक रूप से विक्षिप्त ’’ और ‘‘ सठियाया ’’ हुआ है. उत्तर कोरिया ने प्रशांत महासागर स्थित अमेरिकी क्षेत्र गुआम पर हमला करने की भी धमकी दी थी. सिंगापुर में किम ने उत्तर कोरिया और अमेरिका के बीच रही दुश्मनी की तरफ इशारा करते हुए कहा , ‘‘ यहां तक पहुंचना आसान नहीं था.’’ 

डोनाल्ड ट्रंप और किम जोंग उन की हुई मुलाकात
सिंगापुर: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन यहां ऐतिहासिक शिखर वार्ता के लिये मिले. इस बैठक का उद्देश्य द्विपक्षीय संबंधों को सामान्य बनाना और कोरियाई प्रायद्वीप में पूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण है. ट्रंप और किम के बीच यह मुलाकात सिंगापुर के लोकप्रिय पर्यटन स्थल सेंटोसा के एक होटल में हुई. मौजूदा अमेरिकी राष्ट्रपति और एक उत्तर कोरियाई नेता के बीच हो रही यह पहली शिखर वार्ता ट्रंप और किम के बीच कभी बेहद तल्ख रहे रिश्तों को भी बदलने वाली साबित होगी. 

ट्रंप और किम जोंग की मुलाकात से जुड़ी 10 बातें
1. डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि वह वास्तव में काफी अच्छा महसूस कर रहे हैं, हमारी चर्चा और रिश्ते शानदार होने वाले हैं. 
2. किम जोंग उन ने कहा कि यहां तक आना आसान नहीं था, कई बाधाएं थीं लेकिन यहां पहुंचने के लिये हमनें उन्हें पार किया. 
3. किम जोंग ने डोनाल्ड ट्रंप को संबोधित करते हुए कहा, 'आपसे मिलना इतना आसान नहीं था. मुझे खुशी है कि हम सारी बाधाओं को पार कर मिल रहे हैं.'
4. बैठक के दौरान ट्रंप ने किम से कहा, 'मुझे विश्वास है कि हम दोनों देशों के संबंध अच्छे होंगे.'
5. किम जोंग ने कहा कि तमाम बाधाओं को दूर कर हमारी मुलाकात हुई है, यहां तक पहुंचना आसान नहीं था.
6. ट्रंप और किम में हुई पहली मुलाकात. दोनों ने मिलकर हाथ मिलाया. औपचारिक मीटिंग के लिए मीटिंग स्थल पहुंचे दोनों नेता.
7. इस मुलाकात पर भारतीय रुपयों में करीब 100 करोड़ का खर्च किया गया.
8. व्हाइट हाउस ने इस बात की पुष्टि की है कि राष्ट्रपति ट्रंप और किम के बीच पहले अकेले बैठक हुई, जिसमें सिर्फ अनुवादक मौजूद रहे.
9. वार्ता की पूर्व संध्या पर अमेरिका ने ‘‘पूर्ण, सत्यापित और अपरिवर्तनीय’’ परमाणु निरस्त्रीकरण के बदले उत्तर कोरिया को ‘विशिष्ट’ सुरक्षा गारंटी की पेशकश की थी. अमेरिका ने इस बात पर जोर दिया है कि उसे कोरियाई प्रायद्वीप में पूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण से कम कुछ भी मंजूर नहीं है. 
10. उत्तर कोरिया की आधिकारिक संवाद समिति ने रविवार को कहा था कि किम वार्ता के दौरान ‘‘परमाणु निरस्त्रीकरण’’ और ‘‘स्थायी शांति’’ के लिये बातचीत को तैयार हैं. ट्रंप ने शनिवार को कहा था कि किम के पास इतिहास रचने का ‘‘एक मौका’’ है. 

इनपुट भाषा से भी 

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by clicking this link

Close