close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मेरी महाराष्‍ट्र लौटने में दिलचस्‍पी नहीं, संघ का सरकार बनाने से लेना-देना नहीं: नितिन गडकरी

उन्‍होंने कहा कि महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी की 105 सीटें हैं और गठबंधन में जिसकी सीटें ज्यादा होती हैं उसी का मुख्यमंत्री होता है.

मेरी महाराष्‍ट्र लौटने में दिलचस्‍पी नहीं, संघ का सरकार बनाने से लेना-देना नहीं: नितिन गडकरी

नागपुर: महाराष्‍ट्र में सियासी गहमागहमी के बीच आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से मिलने पहुंचे केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि संघ का महाराष्ट्र में सरकार बनाने से कोई लेना-देना नहीं है और इसे जोड़ना भी उचित नहीं होगा. इस बारे में फैसला बीजेपी को लेना है. उन्‍होंने कहा कि महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी की 105 सीटें हैं और गठबंधन में जिसकी सीटें ज्यादा होती हैं उसी का मुख्यमंत्री होता है. मुझे यकीन है कि जल्द ही महाराष्ट्र में सरकार बनेगी और इसके लिए हमें शिवसेना का सहयोग मिलेगा. हमारी उनसे बातचीत जारी है. मैं केंद्र में हूं और मुझे राज्य में वापस लौटने में कोई दिलचस्पी नहीं है.

शिवसेना की बैठक
इस बीच मातोश्री में शिवसेना की मीटिंग में उद्धव ने सभी विधायकों से फिर एक बार कहा कि  हमने भाजपा से कुछ अलग नहीं मांगा है. लोकसभा चुनाव के दौरान जो तय हुआ है वहीं बीजेपी से मांग कर रहे हैं. कोई नई मांग नहीं मांगी गई है. फिर भी भाजपा वाले पूरा नहीं कर रहे हैं.  इसी पर शिवसेना के सभी विधायकों ने उद्धव का समर्थन किया और कहा कि आप सही मांग कर रहे हैं. अपनी मांग पर बने रहिए, हम आपके साथ हैं.

बीजेपी के नेता राज्‍यपाल से मिलने पहुंचे
उधर महाराष्ट्र बीजेपी के वरिष्‍ठ नेता राजभवन में राज्‍यपाल से मिलने पहुंचे. बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष और राजस्व मंत्री चंद्रकांत पाटिल, वित्त मंत्री सुधीर मुनगटीवार समेत कई नेता राजभवन पहुंचे. महाराष्ट्र में नई सरकार गठन में देरी और संवैधानिक तकनीकियों पर गवर्नर से चर्चा करने के लिए बीजेपी मंत्रियों का दल राजभवन गया है.

इससे पहले सुधीर मुनगटीवार ने कहा कि देवेंद्र फडणवीस के रूप में शिवसैनिक ही CM हैं. सरकार बनाने में थोड़ी देरी हो रही है. इस संबंध में संवैधानिक तकनीकियों पर हम गवर्नर से चर्चा और गुजारिश करेंगे. महाराष्ट्र में नौ नवंबर के बाद सरकार बनाने की प्रक्रिया को लेकर हम महामहिम गवर्नर से तकनीकी बातों पर चर्चा करेंगे. महाराष्ट्र में थोड़ी देरी से ही लेकिन बीजेपी और शिवसेना की ही स्थिर सरकार बनेगी.

नवाब मलिक का बयान
इस बीच सियासी जोड़-तोड़ के संदर्भ में एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा कि बीजेपी के सहयोगी सांसद काकडे और एक विधायक राणा दावा कर रहे हैं कि शिवसेना के 25 विधायक बीजेपी के संपर्क में हैं. वे ये संकेत दे रहे हैं कि विधायक तोड़ेंगे लेकिन यह महाराष्ट्र है कर्नाटक नही. यहां पर ऑपरेशन लोटस नहीं हो सकता. 50 विधायकों का इस्तीफा दिलाना यह देवेंद्र फडणवीस के बस की बात नहीं है. उन्‍होंने सलाह देने के अंदाज में कहा कि शिवसेना से बात कीजिए और सरकार बनाइए. तोड़फोड़ की राजनीति को महाराष्ट्र जनता ने जवाब दे दिया है.

उन्‍होंने कहा कि एनसीपी का कोई विधायक नहीं टूटेगा. हमारे जो विधायक बीजेपी में गए थे वो सारे विधायक वापस अपने अपने दलों में आना चाहते हैं. जिस दिन बीजेपी की सत्ता नहीं बनेगी उस दिन बीजेपी में तीस विधायक नही बचेंगे. हमें मिलकर वो कह रहे हैं कि उनसे गलती हो गई है. अगर बीजेपी की सत्ता नहीं बनी तो बीजेपी 30 विधायकों तक सिमट कर रह जायेगी. अगर तोड़फोड़ का खेल शुरू होगा तो हम बीजेपी को खाली कर देंगे.

(इनपुट: अहसान अब्‍बास और विशाल सिंह के साथ)

ये भी देखें...