होंडा Activa के बाद 125 सीसी की इस बाइक ने भी बनाया रिकॉर्ड

होंडा मोटरसाइकल एंड स्कूटर इंडिया प्रा. लिमिटेड (HMSI) ने 125 सीसी मोटरसाइकिल सेग्मेंट में अपनी अग्रणी स्थिति को बरकरार रखते हुए एक और ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल कर ली है.

होंडा Activa के बाद 125 सीसी की इस बाइक ने भी बनाया रिकॉर्ड

नई दिल्ली : होंडा मोटरसाइकल एंड स्कूटर इंडिया प्रा. लिमिटेड (HMSI) ने 125 सीसी मोटरसाइकिल सेग्मेंट में अपनी अग्रणी स्थिति को बरकरार रखते हुए एक और ऐतिहासिक उपलब्धि हासिल कर ली है. नया रिकॉर्ड बनाते हुए होंडा की सीबी शाइन (CB Shine) मोटरसाइकिल ने 70 लाख ग्राहकों का आंकड़ा पार कर लिया है. कंपनी ने एक बयान में कहा कि भारत में नंबर 1 बिकने वाला 125 सीसी मोटरसाइकल ब्रांड सीबी शाइन एकमात्र 125 सीसी मोटरसाइकिल ब्रांड है जो देश की चार सबसे ज्यादा बिकने वाली मोटरसाइकलों में शामिल है.

होंडा ने 10 फीसदी की वृद्धि दर्ज की
अपनी शाइन सीरीज की 51 फीसदी बाजार हिस्सेदारी के साथ होंडा 125 सीसी मोटरसाइकिल सेग्मेंट में बाजार में अग्रणी स्थिति पर है और सेग्मेंट में 2 फीसदी की गिरावट के बावजूद होंडा ने 10 फीसदी की वृद्धि दर्ज की है. कंपनी ने वरिष्ठ उपाध्यक्ष (बिक्री और विपणन) यदविंदर सिंह गुलेरिया ने कहा, 'होंडा अपने 70 लाख ग्राहकों के प्रति आभारी है जिन्होंने पिछले एक दशक से शाइन में अपना भरोसा बनाए रखा है और इसे 125 सीसी एक्जक्टिव मोटरसाइकिल सेग्मेंट में नंबर 1 पर ला दिया है.

होंडा सीबी शाइन, Honda CB Shine, CB Shine, Honda CB Shine sales record

शाइन का शानदार परफारमेंस और इसके इनोवेटिव कॉम्बी ब्रेक सिस्टम विद इक्वीलाइजर इसे सेग्मेंट में सबसे अलग बनाते हैं. दिवाली से ठीक पहले इस उपलब्धि हो हासिल करना हमारे लिए बेहद उत्साहजनक है और हम आगामी त्योहारों के मद्देनजर उपभोक्ताओं की बढ़ती उम्मीदों पर खरा उतरने के लिए तैयार हैं. आपको बता दें कि अभी तक हीरो की स्पलेंडर मोटरसाइकिल के पास देश में सबसे ज्यादा बिकने वाली बाइक का रिकॉर्ड है.

अगर टू-व्हीलर की बात करें तो होंडा एक्टिवा दुनियाभर में सबसे ज्यादा बिकने वाला टू-व्हीलर है. दो करोड़ से भी ज्यादा ग्राहकों के साथ एक्टिवा ने यह मुकाम हासिल किया है. पिछले दिनों कंपनी की तरफ से यह आंकड़ा जारी किया गया है. कंपनी की तरफ से बताया गया कि पहले एक करोड़ ग्राहक तक पहुंचने में 15 साल लगे. जबकि दूसरे एक करोड़ के आकंड़े को हासिल करने में महज तीन साल लगे.