Suvigya Jain

पर्यावरण सुधार कर दो फीसदी जीडीपी बढ़ाने का खर्चा क्या बैठेगा?

पर्यावरण सुधार कर दो फीसदी जीडीपी बढ़ाने का खर्चा क्या बैठेगा?

पर्यावरण की चिंता करने वाले लोग तर्क दे रहे हैं कि अगर पर्यावरण को सुधार लिया जाए तो देश की जीडीपी दो फीसद बढ़ जाएगी, लेकिन इस सुझाव में यह हिसाब ग़ायब है कि वैसा पर्यावरण बनाने में जीडीपी का कितना फ

विकास, वृद्धि और प्रगति के फ़र्क पर एक नज़र

विकास, वृद्धि और प्रगति के फ़र्क पर एक नज़र

विकास एक शब्द है. राजनीति में इसका खूब इस्तेमाल होने लगा है. चुनावी राजनीति में तो हद से ज़्यादा. इतना ज्यादा कि इसके मायने भी तरह तरह के निकाले जाने लगे. कोई आर्थिक विकास को विकास मानता है.

पटाखा बैनः अदालत पर सवाल के मायने

पटाखा बैनः अदालत पर सवाल के मायने

एनसीआर में पटाखों की बिक्री पर रोक के सुप्रीम कोर्ट के आदेश के

क्या इस बार भी विवाद से बच पाएगा साहित्य का नोबेल

क्या इस बार भी विवाद से बच पाएगा साहित्य का नोबेल

यह नोबेल पुरस्कारों के ऐलान का हफ्ता है.

क्या वाकई गांधी को मानने का वक्त आ गया?

क्या वाकई गांधी को मानने का वक्त आ गया?

आज गांधी जयंती है. बापू को याद करने के लिए आवंटित दिन. आज के दिन कई जगह गांधी की याद में कार्यक्रम आयोजित होते हैं. तीन साल पहले आज के दिन ऐसे ही एक कार्यक्रम की मुझे याद आई.

BHU: छेड़खानी का विरोध और पीड़ितशास्त्र की याद

BHU: छेड़खानी का विरोध और पीड़ितशास्त्र की याद

बीएचयू में लड़की को छेड़ा गया. लड़कियों ने अपनी सुरक्षा की मांग की. उस पर घ्यान देने की बजाए प्रशासन ने पीड़ित लड़की को ही अपनी सुरक्षा के लिए सावधानी बरतने की समझाइश दे डाली.

मीडिया विमर्श से लुप्‍त होते मूल मुद्दे

मीडिया विमर्श से लुप्‍त होते मूल मुद्दे

हर जरूरी बात की चर्चा करने वाला देश का मीडिया खुद भी इस समय चर्चा में है. विश्व मीडिया भारत की खबरें यहां के मीडिया से ही उठाता है. यानी अपने देश के मीडिया पर विश्व मीडिया की नज़र भी है.

अब बाज़ार ही बचा-बढ़ा पाएगा हिन्दी को...

अब बाज़ार ही बचा-बढ़ा पाएगा हिन्दी को...

साल 2017 तक आते आते हिन्दी दिवस के बहाने हिन्दी पर ज्यादा बात करने का माहौल बचा नहीं है. सरकारी प्रतिष्ठानों में हिन्दी पखवाड़े के बैनर लगने के अलावा और कुछ होता हो यह भी नहीं दिखाई देता.

आखिर कुपोषण पर क्या सोचा नीति आयोग ने

आखिर कुपोषण पर क्या सोचा नीति आयोग ने

सत्ता में आने के बाद एनडीए सरकार के कामों और ऐलानों की लिस्ट बहुत लंबी है. इन कामों में एक यह था कि उसने योजना आयोग को खत्म करके नीति आयोग बनाया था. इसी नीति आयोग ने हाल ही में एक नया काम किया है.

शिक्षा और रोज़गार की बढ़ती दूरी

शिक्षा और रोज़गार की बढ़ती दूरी

शिक्षक दिवस का पर्व शिक्षा के किसी भी पहलू पर सोच विचार करने का भी अच्छा मौका होता है. इसीलिए आमतौर पर भारतीय शिक्षा प्रणाली पर भी इसी दिन कुछ बातें हो जाती हैं. क्या है? और क्या कम है?