Vinay Upadhyay

संकीर्तन: गाती-नाचती प्रार्थनाएं

संकीर्तन: गाती-नाचती प्रार्थनाएं

घर्षण, मिश्रण और प्रदूषण के इस दौर में दुर्भाग्य से जीवन को शांति और संबल देने वाली भक्ति की लोकतांत्रिक चेष्टा भी काफी हद तक प्रभावित हुई है.

बादलों के संग बावरी उड़ान

बादलों के संग बावरी उड़ान

कला हो या कविता, उसे रचने वाले की अवधारणा, शैली और प्रक्रिया की बारीकियां सतही तौर पर नहीं जानी जा सकतीं. उसके चेतन-अवचेतन में भीतर तक पैठने की दरकार होती है. उस तल तक, जहां से वह उदित होता है.

अनबूझा है नाद का रहस्य

अनबूझा है नाद का रहस्य

'फूल कभी भी अपनी खुश्बू, अपनी खूबसूरती का बखान नहीं करते. अनायास ही उनकी मनोहारी दुनियाहमें उसके निकट ले जाती है. गुलाब, मोगरा, रातरानी...