'सुपर पावर' बनने की रेस में दुनिया के लिए खतरे की घंटी बना चीन

चीन का उद्देश्य तानाशाह परस्त कम्युनिस्ट पार्टी की सत्ता को दिनों दिन आस-पड़ोस के देशों में भी फैलाना है. लेकिन हुआ इसके एकदम उलट, यहां एक पुरानी कहावत चरितार्थ होती है कि जब कोई दूसरों के लिए गड्ढा खोदता है तो सबसे पहले वो खुद उस गड्ढे में गिरता है, लेकिन इस वायरस के खेल में चीन के साथ पूरी दुनिया गड्ढे में गिर गई.

'सुपर पावर' बनने की रेस में दुनिया के लिए खतरे की घंटी बना चीन

चीन एक रहस्यमयी देश है और वो अपनी हर बात दुनिया से छिपाता आया है. ये कम्युनिस्ट पार्टी का उसूल भी है, हालात चाहे जितने भी गंभीर हों सच्चाई जानना चीन में बहुत कठिन काम है. पूरी दुनिया जानती है कि चीन के वुहान शहर की वायरोलॉजी के सबसे बड़े लैब से कोरोना वायरस पूरी दुनिया में फैला है, लेकिन चीन न सिर्फ आज तक इस आरोप को नकारता रहा है बल्कि कोविड महामारी का आरोप अमेरिका पर भी लगाता रहा है. मसलन, वर्ष 2019 में वुहान में विश्व सैन्य खेलों का आयोजन किया गया था, जिसमें अमेरिकी खिलाड़ियों का प्रदर्शन बहुत खराब रहा था. चीन इसका आरोप अमेरिका पर ये कहते हुए लगाता है कि इस बार अमेरिका ने साजिशन अपने देश के खिलाड़ियों को नहीं बल्कि वायरोलॉजिस्ट्स को भेजा था, जिन्होंने खेलों के दौरान मौका देखकर वुहान के मछली मार्केट में वायरस का संक्रमण फैला दिया.

वायरस के खेल में चीन के साथ पूरी दुनिया गड्ढे में गिर गई
हालांकि सूत्रों के मुताबिक सच्चाई इसके एकदम उलट है. वुहान में चीन की सबसे बड़ी वायरस लैब है जहां पर दुनियाभर के अलग-अलग तरह के वायरस पर रिसर्च किया जाता है. भविष्य में होने वाले युद्धों में चीन इस वायरस का जैविक हथियारों के तौर पर इस्तेमाल अपने शत्रुओं के लिए करना चाहता था, जिसका पहला प्रयोग हांगकांग में चल रहे लोकतांत्रिक आंदोलन को दबाने में किया जाना था. चीन एक कम्युनिस्ट देश है और किसी भी रूप में अपने देश में लोकतंत्र को पनपने देना नहीं चाहता. चीन का उद्देश्य तानाशाह परस्त कम्युनिस्ट पार्टी की सत्ता को दिनों दिन आस-पड़ोस के देशों में भी फैलाना है. लेकिन हुआ इसके एकदम उलट, यहां एक पुरानी कहावत चरितार्थ होती है कि जब कोई दूसरों के लिए गड्ढा खोदता है तो सबसे पहले वो खुद उस गड्ढे में गिरता है, लेकिन इस वायरस के खेल में चीन के साथ पूरी दुनिया गड्ढे में गिर गई.

कोरोना काल में भी चीन की मुनाफाखोरी
कोरोना वायरस किसी वायरोलॉजिस्ट की गलती से दुर्घटनावश वुहान में ही फैल गया जिससे हजारों लोगों की जान चली गई. उसके बाद ये पूरी दुनिया में फैला जिससे अभी तक लाखों लोगों की जान जा चुकी है और कई देशों की अर्थव्यवस्था चरमरा गई है. इसका भी चीन ने जबरदस्त तरीके से लाभ उठाया. जहां विदेशी निवेशकों ने अपने व्यापारिक संस्थानों को बंद कर चीन छोड़ना उचित समझा. वहीं, चीन की सरकार के इशारे पर वहां के व्यापारियों ने उन विदेशियों के उपक्रमों को कौड़ियों के भाव खरीदना शुरू कर दिया. इसके बाद जब कोरोना वायरस पूरी दुनिया में फैलने लगा और उन देशों की अर्थव्यवस्था ध्वस्त होने लगी तो वहां भी चीनी व्यापारियों ने बहुत कम दामों पर व्यापार को खरीदना शुरू कर दिया, जिससे हालात सामान्य होने पर वहां से लाभ कमाया जा सके.

इसके अलावा जब सारी दुनिया कोरोना वायरस से जूझ रही थी तब भी चीन इस बीमारी के बहाने बिजनेस ढूंढ रहा था. उसने कई देशों में मास्क, दस्ताने और पीपीई किट को सप्लाई किया जिसके एवज में उसने उन देशों से भारी भरकम रकम भी वसूली. इंसानियत को ताक पर रखकर चीन ने इटली को उन मेडिकल उपकरणों को बेचा जो इटली ने चीन में वायरस फैलने पर मानवीय आधार पर दान किए थे. इस वजह से पूरी दुनिया इस समय चीन के खिलाफ हो गई है. कई देशों में वहां की जनता ने चीन के खिलाफ अपना रोष प्रकट किया, वहीं जर्मनी ने तो अपने देश को कोरोना वायरस के कारण होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए चीन पर 130 बिलियन पाउंड का जुर्माना भी लगा दिया.

कोरोना के लिए दुनिया का गुनाहगार
एक बात यहां पर चौंकाने वाली है कि पूरे हुबेई प्रांत में कोविड-19 ने तांडव करना शुरू कर दिया, लेकिन इस आग की लपट न तो शंघाई तक पहुंची, न ही बीजिंग तक और न ही किसी और प्रांत या शहर में, अगर पहुंची भी तो ना के बराबर. वहीं, इस वायरस ने पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया. इससे चीन पर शंका होना लाजमी है कि ऐसा कौन सा वायरस है जो अपनी जन्मभूमि पर तो एक सीमित दायरे में सिमटा रहा लेकिन इसने दुनिया जहान को अपना ग्रास बना लिया. दुनियाभर के वैज्ञानिक इस समय कोरोना वायरस से मुकाबले के लिए वैक्सीन बनाने में जुटे हुए हैं. चीन भी दावा कर रहा है कि उसने वायरस से लड़ने वाली वैक्सीन को तैयार कर लिया है जिसका मानवीय परीक्षण इस समय चल रहा है और अगले वर्ष के मध्य तक वो अपनी वैक्सीन बाजार में उतार देगा.

यहां पर भी चीन अपना फायदा देख रहा है, चीन नहीं चाहता कि कोई और देश इस क्षेत्र में बाजी मारे, इसलिए चीन अपने मीडिया के जरिए प्रोपगैंडा फैलाकर दुनिया को ये संदेश देना चाहता है कि उसकी वैक्सीन सबसे पहले बाजार में आने वाली है जो कि सबसे ज्यादा असरदार होगी. इन सबके पीछे चीन मुनाफा देख रहा है और वो नहीं चाहता कि वैक्सीन से मुनाफा कमाने में वो किसी देश से पीछे रहे.

चीन की विस्तारवादी नीति
एक तरफ पूरी दुनिया में कोरोना वायरस फैला हुआ है वहीं चीन अपनी विस्तारवादी नीति में लगा हुआ है. मुसीबत की इस घड़ी में भी चीन अपने पड़ोसियों की जमीन हड़पने से बाज नहीं आ रहा है. इसके चलते उसका अपने पड़ोसियों से हिंसक विवाद भी कोई नई बात नहीं है. एक तरफ उसने अपने पुराने पड़ोसी देश भारत की जमीन हड़पने को लोकर हिंसक विवाद किया जिसमें गलवान घाटी में हुई झड़प में भारत के 20 वीर सैनिकों की हत्या की. वहीं इस वारदात में उसके भी 40 से ज्यादा सैनिक मारे गए. चीन ने अपने पड़ोसी देश नेपाल के गोरखा जिले के रुई गांव पर अपना कब्जा जमा लिया और दोनों देशों के बीच बने नेपाल के चेक पोस्ट तक उखाड़ डाले, नेपाल की ओली सरकार डर के कारण कुछ बोल नहीं पा रही है. इसके अलावा भी दक्षिणी चीन सागर में चीन अपना प्रकोप दिखाने से बाज नहीं आ रहा है, वियतनाम, इंडोनेशिया, ताईवान, मलेशिया, ब्रूनेई और फिलिपींस समेत कई देश चीन के आक्रामक रुख से परेशान और सहमे हुए हैं.

चीन का उद्देश्य पूरी दुनिया को पहले आर्थिक तौर पर अपने कब्जे में लेना है और बाद में उनपर अपना परोक्ष प्रभुत्व स्थापित करना. आने वाले दिनों में चीन से पूरी दुनिया को सतर्क रहने की जरूरत है. जैसे-जैसे चीन अपनी ताकत बढ़ाता है वैसे ही सारी दुनिया में डर का माहौल फैल जाता है. इस समय जरूरत है पूरी दुनिया को चीन के खिलाफ एकजुट होने की और उसकी चालबाजियों का मुकाबला करने की, क्योंकि चीन अपना बाहुबल दुनिया पर आधिपत्य जमाने के लिए हर कोशिश कर रहा है और उसका मकसद पूरी दुनिया पर अपना परचम फहराने का है. ऐसी शैतानी ताकत के खिलाफ दुनिया को तुरंत कदम उठाना होगा नहीं तो आने वाला समय चीन के दंश को झेलने के लिये तैयार रहे.

(इस लेख में व्यक्त विचार लेखक के निजी विचार हैं. लेखक Zee News में असिस्टेंट एडिटर हैं.)