एक साल में 9800 बार एयर इंडिया ने भरी देरी से उड़ान, हुआ इतने सौ करोड़ का नुकसान

एयर इंडिया के देरी से उड़ान भरने के चलते सरकार को 102 करोड़ रूपए का नुकसान हुआ है. 

एक साल में 9800 बार एयर इंडिया ने भरी देरी से उड़ान, हुआ इतने सौ करोड़ का नुकसान
(फाइल फोटो)

नई दिल्ली: देश की सरकारी एयरलाइस कंपनी एयर इंडिया (Air India) ने पिछले वित्त वर्ष में 9,800 बार देरी से उड़ान भरी है. एयर इंडिया से यात्रा करने वाले लोगों को ये जानकार हैरानी होगी कि 2018-19 में एयर इंडिया 1 घंटे या उससे ज्यादा समय तक हजारों बार लेट हो चुकी है. 

एयर इंडिया के देरी से उड़ान भरने के चलते सरकार को 102 करोड़ रूपए का नुकसान हुआ है. एयर इंडिया की फ्लाइट जब जब देरी से उड़ी है तब तब नुकसान हुआ है. फ्लाइट में देरी के कारण एयरलाइन ने यात्रियों को रहने, खाने व अन्य चीजों पर एक साल में 102 करोड़ रूपए खर्च किए. 

इन कारणों से उड़ान भरने में हुई देरी

- विमान में इंजीनियरिंग से संबंधित मुद्दों की वजह से
- विमान क्रू के कारण
- ग्राउंड हैंडलिंग समस्याओं के कारण
- एयर ट्रैफिक कंट्रोल की तरफ से ग्रीन सिग्नल ना मिलने के कारण
- कुछ अंतरराष्ट्रीय कनेक्टिंग उड़ानों के कारण

एयर इंडिया के विमानों की देरी से उड़ान भरने की जानकारी बुधवार (27 नवंबर) को राज्यसभा में केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने एक लिखित जवाब में दिया. 

लाइव टीवी देखें

आपको बता दें कि केंद्र सरकार एयर इंडिया के विनिवेश व निजीकरण पर काम कर रही है. आज भी राज्यसभा में हरदीप पुरी ने कहा, ‘अगर निजीकरण नहीं किया गया तो एयरलाइन को बंद करना पड़े’.