close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

EXCLUSIVE: एयर इंडिया की विनिवेश प्रक्रिया तेज, बंद की गई फाइनेंशियल बुक्स

सरकार की तरफ से एयर इंडिया (Air India) के विनिवेश की प्रक्रिया तेज कर दी गई है. उम्मीद की जा रही है कि एयर इंडिया का एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट (EOI) अक्टूबर में आ सकता है.

EXCLUSIVE: एयर इंडिया की विनिवेश प्रक्रिया तेज, बंद की गई फाइनेंशियल बुक्स

नई दिल्ली : सरकार की तरफ से एयर इंडिया (Air India) के विनिवेश की प्रक्रिया तेज कर दी गई है. उम्मीद की जा रही है कि एयर इंडिया का एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट (EOI) अक्टूबर में आ सकता है. एयर इंडिया विनिवेश के लिए सरकार ने पहली बार बड़ा कदम उठाया है. सरकार के इस कदम के तहत एयर इंडिया की फाइनेंशियल बुक्स 15 जुलाई के बाद बंद कर दी गई है.

केंद्र सरकार की देखरेख में होगा आय और व्यय
एयरलाइन की 15 जुलाई तक की फाइनेंशियल बुक्स को आधार बना कर EOI तैयार किया जाएगा. सूत्रों का कहना है कि 15 जुलाई के बाद के एयरलाइन के सभी खर्च और आमदनी सीधे केंद्र सरकार की देखरेख में होगा. सूत्रों का यह भी दावा है कि अक्टूबर में एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट (EOI) जारी किया जाएगा. इसके बाद अगले तीन महीने में विनिवेश प्रक्रिया को पूरा किया जाएगा.

विदेश में रोडशो भी कर सकती है सरकार
एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट जारी करने से पहले उड्डयन मंत्रालय सभी संभावित खरीदार या निवेशकों के साथ बातचीत कर एयर इंडिया के मजबूत पक्ष के बारे में और निवेश के लिए बातचीत करेगी. यह भी उम्मीद है कि विदेशी निवेशकों को आकर्षित करने के लिए सरकार एयर इंडिया को लेकर विदेश में रोडशो कर सकती है. एयर इंडिया विनिवेश के दूसरे प्रयास में सरकार एयर लाइन में अपनी पूरी हिस्सेदारी बेच सकती है. यदि पूरी हिस्सेदारी नहीं बेची जाती तो सरकार नाममात्र के शेयर ही अपने पास रखेगी.

बजट से पहले विनिवेश प्रक्रिया साफ करने की कोशिश
दरअसल सरकार चाहती है कि अगले साल 1 फरवरी को पेश होने वाले आम बजट से पहले एयर इंडिया विनिवेश की पूरी तस्वीर साफ हो जाए. आपको बता दें मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में साल 2018 में एयर इंडिया के विनिवेश को लेकर पहली कोशिश हुई थी. लेकिन सरकार का यह प्रयास कामयाब नहीं हो पाया. सरकार की तरफ से एयर इंडिया की 75 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचने का प्रस्ताव रखा गया था.