close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

रिटेल मार्केट में रिलायंस और वॉलमार्ट को टक्कर देने के लिए ये दिग्गज मिलाएंगे हाथ

आदित्य बिड़ला रिटेल लिमिटेड की सुपरमार्केट चेन को 4500 से 5000 करोड़ रुपये में खरीदने की तैयारी.

रिटेल मार्केट में रिलायंस और वॉलमार्ट को टक्कर देने के लिए ये दिग्गज मिलाएंगे हाथ
प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली: दुनिया की सबसे बड़ी ऑनलाइन खुदरा कारोबार कंपनी अमेजन, गोल्डमैन सैश और समारा कैपिटल के साथ मिलकर भारत में आदित्य बिड़ला रिटेल लिमिटेड की सुपरमार्केट चेन को 4500 से 5000 करोड़ रुपये में खरीदने की तैयारी में हैं. इकॉनोमिक टाइम की खबर के मुताबिक, कुमार मंगलम बिड़ला की निजी कंपनी आदित्य बिड़ला रिटेल लिमिटेड और समारा ने बीते जून के अंत में दिपक्षीय सौदे पर समझौता किया है. ऐसा होने पर भारतीय रिटेल बाजार में तेज बदलाब देखने को मिल सकते हैं. साथ ही भारत में खरीदारी के तरीके में बदलाव और देसी रिटेल कंपनियों की कड़ी प्रतिस्पर्धा देखने को मिल सकती है.

समारा कैपिटल, गोल्डमैन सैश और अमेजन मिलकर एक संयुक्त उद्यम खड़ी करेंगे. ये तीनों मिलकर जो उद्यम बनाएंगे उसमें अमेजन की हिस्सेदारी 49 प्रतिशत होगी जो एक रणनीतिक हिस्सेदार के तौर पर होगी. इस नए उद्यम की रूपरेखा या आकार तय करने पर तीनों कंपनियां काम कर रही हैं और उम्मीद है कि इसकी आधिकारिक घोषणा इस माह के अंत में या अगले माह की शुरुआत में हो सकती है.

भारतीय विदेशी निवेश नियमों के मुताबिक कोई भी विदेशी कंपनी यहां के मल्टीब्रांड रिटेल कंपनी में 49 प्रतिशत से अधिक की हिस्सेदारी नहीं खरीद सकती. जबकि मालिकाना हक 100 प्रतिशत हो सकता है. उपर्युक्त तीनों कंपनियों की इस पहल का नेतृत्व कर रहे सुमित नारंग ने किसी भी तरह की प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया. आदित्य बिड़ला के प्रवक्ता ने कहा कि बाजार की खबरों पर प्रतिक्रिया देना हमारी नीति का हिस्सा नहीं है. 

इसे भी पढ़ें: अनोखा प्रबंधन: अमेजन के सामान पहुंचाने की प्रणाली ऐसी कि गलती होने की गुंजाइश ही नहीं

तीनों कंपनियों के साथ आने की यह हलचल ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों कारोबार के लिए है, जिसमें सभी एक दूसरे के क्षेत्र में जाकर रिटेल में सिकुड़ते मुनाफे को बढ़ाने की रणनीति बना रहे हैं. अगर यह सौदा होता है तो यह भारत जैसे विशाल खुदरा बाजार में अमेजन द्वारा दूसरा सबसे बड़ा प्रत्यक्ष निवेश होगा. इससे पहले अमेजन ने सितंबर 2017 में भारत के सबसे बड़े डिपार्टमेंटल स्टोर, शॉपर्स स्टॉप में पांच प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदी थी. तब इसके लिए 180 करोड़ रुपये का सौदा हुआ था. 

फूड रिटेल में उलटफेर
वॉलमार्ट ने भारत के सबसे बड़े ई-कॉमर्स कारोबार कंपनी फ्लिपकार्ट को हाल में 16 अरब डॉलर में खरीदा है. अमेजन की योजना है कि वह भारत में खुद के मालिकाना हिस्सेदारी वाली एक फूड रिटेल वेंचर खड़ी करे, लेकिन नीति स्पष्ट नहीं होने की वजह से यह असफल ही दिख रहा है. ये भी तब भारत में सब्सिडियरी कंपनी में 500 लाख डॉलर निवेश करने की अनुमति मिल गई है. हालांकि इसमें यह शर्त है कि आपको स्थानीय तौर पर उत्पादित सामान या पैकेट वाले खाद्य़ सामग्री ही ऑनलाइन या ऑफलाइन बेचने होंगे. अमेजन के संस्थापक जेफ बेजोस ने करीब 100 करोड़ रुपये (करीब 14 लाख डॉलर) पहले ही निवेश कर रखा है.

कंपनी को हुआ है 644 करोड़ रुपये का घाटा
आदित्य बिड़ला रिटेल लिमिटेड (एबीआरएल) के पास मार्च में खत्म हुए वित्तीय वर्ष तक 493 ब्रांडेड सुपरमार्केट और 20 सुपरमार्केट थे. यह कुल 20 लाख वर्गमीटर में फैला है. हालांकि कंपनी को वित्तीय वर्ष 2017 के मुताबिक 644 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ है. फिलहाल समूह पर 6,573 करोड़ रुपये का कर्ज भी है. फिलहाल कंपनी फ्यूचर समूह, रिलायंस और डीमार्ट से ऐसे आउटलेट के मामले में पीछे है.

भारत में बढ़ रही डिजिटल अर्थव्यवस्था
एक अनुमान के मुताबिक वर्ष 2025 तक भारत की डिजिटल अर्थव्यवस्था एक खरब डॉलर के पार चला जाएगा. इस ट्रेंड की वजह से पूरी दुनिया की नजर भारतीय बाजार पर है. अमेजन ने पांच साल में 5 अरब डॉलर के निवेश का वादा किया है, जिसमें हाल में उसने भारतीय इकाई में 2700 करोड़ रुपये निवेश किए हैं. अबतक अमेजन भारत में 4 अरब डॉलर निवेश कर चुकी है. इसी तरह चीन की कंपनी अलीबाबा ने पेटीएम और बिग बास्केट के जरिए खुदरा बाजार में बड़ा निवेश किया है.