close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सीएम अमरिंदर सिंह ने लुधियाना में CN-IFFCO वेजिटेबल प्रोसेसिंग यूनिट की आधारशिला रखी

 इफको (IFFCO) और स्पेन की कंपनी सीएन कॉर्प मिलकर 521 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत से इस प्रोसेसिंग प्लांट को तैयार कर रहे हैं.

सीएम अमरिंदर सिंह ने लुधियाना में CN-IFFCO वेजिटेबल प्रोसेसिंग यूनिट की आधारशिला रखी
इसकी प्रसंस्करण क्षमता 80,000 टन सालाना होगी. (फोटो साभार @capt_amarinder)

समराला (लुधियाना): पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने गुरुवार को पंजाब के समराला में सब्जी प्रसंस्करण इकाई की आधारशिला रखी. इफको (IFFCO) और स्पेन की कंपनी सीएन कॉर्प मिलकर 521 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत से इस प्रोसेसिंग प्लांट को तैयार कर रहे हैं. मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने इस अवसर पर कहा कि इस इकाई से राज्य में औद्योगिक वृद्धि को गति मिलेगी और रोजगार सृजन में मदद मिलेगी. 

पंजाब सरकार अब तक 299 एमओयू साइन कर चुकी है- सिंह
पंजाब सरकार की नई औद्योगिक नीति पर सिंह ने कहा कि मंडी गोबिंदगढ़ औद्योगिक क्षेत्र के पुनरुद्धार से 600 मौजूदा इकाइयों ने फिर से परिचालन शुरू किया है जबकि 40 नई इकाइयों ने इस क्षेत्र में निवेश भी किया है. उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार ने अब तक कई कंपनियों के साथ 51,969 करोड़ रुपये के 299 समझौते ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए हैं. सिंह ने कहा कि उनके कार्यकाल के दौरान 46,902 करोड़ रुपये की करीब 650 नई परियोजनाएं आई हैं. इससे 1,67,309 रोजगार सृजन का प्रस्ताव है. 

52 एकड़ में होगा वेजिटेबल प्रोसेसिंग यूनिट का विस्तार
समराला में वेजिटेबल प्रोसेसिंग यूनिट 52 एकड़ जमीन पर स्थापित की जा रही है और इसकी प्रसंस्करण क्षमता 80,000 टन सालाना होगी. इस पर 1,000 करोड़ रुपये तक खर्च हो सकते हैं. मुख्यमंत्री ने कहा कि इस परियोजना से 2,500 प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष नौकरियां सृजित होंगी. यह परियोजना किसानों की आय बढ़ाने में भी मददगार होगी क्योंकि यह इकाई 150 किलोमीटर के दायरे में स्थानीय किसानों से सीधे 15,000 टन सब्जियां खरीदेगी. 

2020 से शुरू होगा परिचालन
इस परियोजना में ब्रोकली, फूलगोभी, गाजर, मक्का जैसी सब्जियों के प्रसंस्करण की सुविधा होगी. इसके अलावा आलू का प्रसंस्करण करके फ्रेंच फ्राई और नाश्ते से जुड़े अन्य उत्पाद बनाने की भी सुविधा होगी. यह परियोजना 2020 से परिचालन शुरू कर सकती है.