Zee Rozgar Samachar

ऑटो सेक्टर ने RBI द्वारा ब्याज दर में कटौती को बताया 'त्योहारी उपहार'

वाहन विनिर्माताओं ने भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा नीतिगत ब्याज दर में कटौती का स्वागत करते हुए इसे 'त्योहारी उपहार' करार दिया और कहा कि इससे इस क्षेत्र को आगामी त्योहारी सीजन में 15-20 प्रतिशत वृद्धि दर्ज करने में मदद मिलेगी।

नयी दिल्ली : वाहन विनिर्माताओं ने भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा नीतिगत ब्याज दर में कटौती का स्वागत करते हुए इसे 'त्योहारी उपहार' करार दिया और कहा कि इससे इस क्षेत्र को आगामी त्योहारी सीजन में 15-20 प्रतिशत वृद्धि दर्ज करने में मदद मिलेगी।

हुंदई मोटर इंडिया लिमिटेड के वरिष्ठ उपाध्यक्ष (विपणन) राकेश श्रीवास्तव ने कहा, यह त्योहारी उपहार है। पारंपरिक रूप से त्योहारी सीजन में वाहन उद्योग की ब्रिकी में 15-20 प्रतिशत की वृद्धि आती रही है लेकिन बीते कुछ साल में ऐसा नहीं हो सका। रिजर्व बैंक द्वारा नीतिगत ब्याज दर में इस कटौती से वृद्धि दर हासिल करना सुनिश्चित होगा। उन्होंने कहा कि ब्याज दर में यह कटौती सकारात्मक संकेत है।

मारति सुजुकी इंडिया के कार्यकारी निदेशक (विपणन) आर एस कलसी ने भी कमोबेश ऐसी ही राय व्यक्त की। उन्होंने कहा, कुल मिलाकर इसेस ग्राहकों को अच्छा संकेत जाएगा। बाजार अब तक बहुत धीरे चल रहा था लेकिन इस (दर कटौती) के साथ धारणा सुधरेगी। इससे बाजार पूर्व सीजन में बाजार को बल मिलेगा। उल्लेखनीय है कि आमतौर पर अक्तबूर नवंबर के दौरान दुर्गा पूजा, दीवाली व अन्य त्योहारों के बीच वाहनों की ब्रिकी में बढोतरी देखने को मिली है।

हीरो मोटो कोर्प के चेयरमन पवन मुंजाल ने केंद्रीय बैंक के कदम का स्वागत करते हुए कहा, यह सही समय पर उठाया गया है क्योंकि इससे त्योहारी सीजन में ग्राहकों का उत्साह बढाने में मदद मिलेगी। महिंद्रा एंड महिंद्रा के अध्यक्ष व मुख्य कार्यकारी (ऑटोमोटिव) प्रवीण शाह ने कहा, अगर कर्जदाता संस्थान इस सारी कटौती को ग्राहकों तक पहुंचाते हैं तो इससे वाहन ब्रिकी वृद्धि को बल मिलेगा विशेषकर छोटे वाणिज्यिक वाहनों को। केंद्रीय बैंक ने अपनी द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा में नीतिगत ब्याज दर में 0.50 प्रतिशत कटौती की है। हालांकि कुछ वाहन कंपनियों का मानना है कि दर में और कटौती की जा सकती है।

 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.