कोरोना: यदि पैसों की है जरूरत, बैंक जाने का बना रहे हों विचार तो ये बात जरूर जान लें...

कोरोना वायरस की वजह से बैंकिंग सेक्‍टर भी अछूता नहीं है.

कोरोना: यदि पैसों की है जरूरत, बैंक जाने का बना रहे हों विचार तो ये बात जरूर जान लें...

नई दिल्‍ली: कोरोना वायरस (coronavirus) की वजह से बैंकिंग सेक्‍टर भी अछूता नहीं है. इसके मद्देनजर उत्‍तर प्रदेश के बैंकों के समय में कटौती की गई है. लिहाजा 31 मार्च सभी बैंक सुबह 10 से दोपहर 2 बजे तक ही खोलने का निर्णय लिया गया है. हालांकि इस दौरान केवल जरूरी बैंकिंग सेवाएं ही मुहैया कराई जाएंगी. मसलन कैश जमा और निकासी की सुविधा उपलब्‍ध होगी. एटीएम में पैसा रहे, ये सुनिश्चित किया जाएगा. हालांकि डिजिटल बैंकिंग वैकल्पिक रूप से पूरी तरह से चालू रहेगी. फिलहाल बैंकों ने 31 मार्च तक इस व्‍यवस्‍था को अपनाने का फैसला किया है. उसके बाद कोरोना वायरस की वजह से उपजे हालात को देखते हुए निर्णय लिया जाएगा.

इसी कड़ी में आगरा में लीड बैंक ने एक सर्कुलर जारी कर कहा है कि आगरा के जिलाधिकारी ने कहा है कि आगरा की 50 प्रतिशत बैंक शाखाएं एक दिन छोड़कर खुलेंगी. लेकिन शाखाओं को ये सुनिश्चित करना होगा कि उनके ATM हरसंभव सुचारू रूप से कार्यरत रहेंगे. इसलिए सभी बैंकों से अनुरोध किया गया है कि 26 मार्च से इस व्‍यवस्‍था को लागू किया जाए और रोस्‍टर बनाकर लीड बैंक को भेजा जाए. इसी तरह आगरा में एचडीएफसी बैंक ने फैसला किया है कि वह अग्रिम सूचना तक एक दिन छोड़कर शाखाएं खोलेगा. यानी कि एक किसी दिन एक शाखा बंद होने पर निकटवर्ती एरिया की दूसरी शाखा खुलेगी. इस मतलब ये हुआ कि जो शाखा सोमवार को खुलेगी वो मंगलवार को बंद रहेगी.

WATCH: VIDEO

लीड बैंक स्‍कीम 1969 में चालू की गई थी. इसमें जिले के किसी बैंक (पब्लिक या प्राइवेट) को ये भूमिका दी जाती है. आमतौर पर ऐसे बैंक जिनकी जिले खासतौर पर ग्रामीण अंचल में ज्‍यादा शाखाएं हों और जिनके पास वित्‍त और मानव संसाधन भी पर्याप्‍त हों, उनको जिले में लीड बैंक का दर्जा दिया जाता है.

इसी तरह मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कई जगहों पर कई सरकारी बैंकों में ऐसा रोस्‍टर बनाया गया है कि बैंक कर्मचारी को एक दिन का अवकाश और एक दिन का कार्य करने को कहा जा रहा है. यानी इस तरह कर्मचारी को हफ्ते में तीन दिन ऑफिस आना होगा. औरैया में बैंकमित्र घर बैठे लोगों को 5000 रुपये तक मुहैया कराएंगे जिसके लिए सभी बैंकों के बैंक मित्र की सूची बनाई जा रही है. कॉल करने पर खाता धारक के घर जा कर रुपया देंगे.

रायबरेली में 59 या 59 वर्ष के ऊपर के कर्मचारियों को छुट्टी दे दी गई है. इसके साथ ही 2 बजे तक बैंक केवल खोले जाएंगे,उसके बाद बंद. इसके अलावा जिनकी सीट पर ज्‍यादा काम नहीं है वहां कर्मचारी अलग-अलग शिफ्टों में एक दिन छोड़कर आएंगे.