close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ये घड़ी है बहुत खास, मिग-21 लड़ाकू विमान की धातु से की गई है तैयार, जानें खूबियां

Bengaluru Watch Company: कंपनी के मालिक निरूपेश जोशी और मर्सी अमलराज ने कहा कि इस प्रोडक्ट्स के साथ ग्राहक का एक भावनात्मक जुड़ाव होगा, साथ ही उसे वो एक यादगार के रूप में सालों तक संभालकर भी रखेंगा. 

 ये घड़ी है बहुत खास, मिग-21 लड़ाकू विमान की धातु से की गई है तैयार, जानें खूबियां
अपने नए विशेष कलेक्शन में घड़ी कंपनी सिर्फ 21 घड़ियां लेकर आई है.

बेंगलुरु: बेंगलुरु वॉच कंपनी (Bengaluru Watch Company) ने भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) के पहले सुपरसोनिक (Supersonic) लड़ाकू जेट मिग 21 (Fighter Jet MIG 21) के हिस्से से मिली सामग्री पर नया कलेक्शन बाजार में उतारा है. अपने नए विशेष कलेक्शन में घड़ी कंपनी सिर्फ 21 घड़ियां लेकर आई है. 

ये वही मिग 21 लड़ाकू विमान है, जिसे लेकर भारतीय वायु सेना के विंग कमांडर अभिनंदन पाकिस्तान सीमा के भीतर घुस गये और पाकिस्तान के तथाकथित रूप से शक्तिशाली कहे जाने वाले एफ-16 को जिमिनोदोज कर दिया था. 1971 में जब पाकिस्तान से बांग्लादेश को भारत ने आज़ाद करवाया था, उसमें भी मिग 21 की बड़ी भूमिका रही थी.

कंपनी के मालिक निरूपेश जोशी और मर्सी अमलराज ने कहा कि हम लंबे वक्त से इस बात को महसूस कर रहे थे कि विदेशों में देश की संस्कृति, कोई बड़ा आंदोलन या वॉर मेम्रोबिलिया को वहां की कंपनियां एक कहानी के रूप में आमजनों तक पहुंचती है.

उन्होंने कहा इसी सोच के साथ उन्होंने ये घड़ी बाजार में लाने के फैसला किया. इस प्रोडक्ट्स के साथ ग्राहक का एक भावनात्मक जुड़ाव भी होता है साथ ही उसे वो एक यादगार के रूप में सालों तक संभालकर भी रखते हैं. 

निरूपेश जोशी ने बताया कि साल भर पहले उन्हें पता चला कि यदि वो कोशिश करें तो 2013 में डी कमीशंड हुए एक मिग 21 एयरक्राफ्ट की स्किन उन्हें मिल सकती है. उनकी कोशिश कामयाब हुई और एक थर्ड पार्टी से उन्होंने एयरक्राफ्ट का छोटा सा हिस्सा हासिल किया. 

उसकी सत्यता को परखने के लिए उसे लैब में भेजा,  जांच के बाद लैब ने इस बात की पुष्टि की कि मेटल का ये हिस्सा जिसे एयर क्राफ्ट स्किन कहा जाता है वो मिग 21 का ही है.

लाइव टीवी देखें

इन घड़ियों के डायल, पूरी तरह से एयरक्राफ्ट की स्किन से एयरक्राफ्ट के कॉकपिट स्टाइल में बनाए गए हैं. घड़ी का पिछला हिस्सा भारत के पहले सुपरसोनिक विमान का संक्षिप्त इतिहास कहता है. पिछले हिस्से में तीन मिग 21 की एक साथ उड़ान भरते हुए की तस्वीर गढ़ी है,  साथ में ये भी बताया गया है कि ये भारत का पहला सुपर सोनिक लड़ाकू विमान है, जिसे 1963 में सेना में शामिल किया गया और 50 साल की सेवा के बाद इसे 2013 में रिटायर्ड कर दिया गया है. 

घड़ी खास है, तो इसकी कीमत भी वैसी ही है. इन घड़ियों की तकनीक विदेशी है जबकि इसका डिजाइन निरूपेश और मर्सी दोनों पार्टनर्स ने मिल कर किया है. ऑनलाइन मार्केट में उतरते ही इन विशेष घड़ियों को लेकर पूछताछ और बुकिंग शुरू हो गई है, जिनमें जायदातर वो भारतीय हैं, जो विदेशों में बसे हैं.