कर्ज से उबरने के लिए Airtel ने लिया ये बड़ा फैसला, फायदे का बताया जा रहा सौदा

ब्लॉक डील के जरिए  1 अरब डॉलर की हिस्सेदारी बेचेगी

कर्ज से उबरने के लिए Airtel ने लिया ये बड़ा फैसला, फायदे का बताया जा रहा सौदा
फाइल फोटो

नई दिल्ली: मोबाइल सर्विस प्रोवाइडर कंपनी एयरटेल (Airtel) ने अपने मौजूदा देनदारियों से निबटने के लिए एक नायाब कदम उठाया है. कंपनी अपने कर्ज को खत्म करने के लिए अपनी हिस्सेदारी बेचने का फैसला कर चुकी है. एयरटेल को उम्मीद है कि इस कदम से उसके सभी मौजूदा कर्जों से मुक्ति मिल जाएगी.

ब्लॉक डील के जरिए  1 अरब डॉलर की हिस्सेदारी बेचेगी 
भारती टेलीकॉम मंगलवार को एक सेकेंडरी मार्केट ब्लॉक डील के जरिए भारती एयरटेल में अपने एक अरब डॉलर के शेयर बेचने जा रही है. भारती टेलीकॉम, दूरसंचार सेवा प्रदाता भारती एयरटेल की होल्डिंग कंपनी है. भारती एयरटेल में भारती टेलीकॉम की 38.79 फीसदी हिस्सेदारी है, जो ब्लॉक डील के बाद 2.75 फीसदी तक घट जाएगी. एक्सचेंज डेटा के अनुसार प्रमोटर की कुल हिस्सेदारी 58.98 फीसदी है.

सिंगापुर टेलीकॉम भारती एयरटेल के साथ एक रणनीतिक साझेदार है. वहीं जेपी मॉर्गन लेनदेन के लिए प्लेसमेंट एजेंट है. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) में 22 मई को फ्लोर कीमत 558 रुपये प्रति इक्विटी शेयर छह फीसदी की छूट के साथ 593.20 रुपये के करीब है.

ये भी देखें...

ये भी पढ़ें- बड़ा झटका: जिस दवा को समझा जा रहा था कोरोना वायरस की काट, WHO ने उसी का ट्रायल रोका

यह सौदा 31 मार्च, 2020 तक कुल शेयरों का 2.75 फीसदी तक 15 करोड़ इक्विटी शेयरों के लिए लगभग एक अरब डॉलर का होगा. मूल्य निर्धारण पर कोई मार्गदर्शन तब तक नहीं दिया जाएगा जब तक कि 26 मई, 2020 को स्टॉक एक्सचेंज में इक्विटी शेयर क्रॉस नहीं हो जाते. भारती एयरटेल की मौजूदा मार्केट कैप 3.23 लाख करोड़ रुपये है. बताया जा रहा है कि इस सौदे से कंपनी को शुद्ध रूप से ऋण मुक्त होने में भी मदद मिलेगी. (IANS Input)