विश्व का सबसे चमकदार आर्थिक सितारा है भारत, मोदी सरकार ने पिछले सभी रिकार्ड किए ध्वस्त

पिछले पांच वर्ष में विश्व में भारतीय अर्थव्यवस्था सबसे चमकदार सितारे की तरह उभरा है और इस दौरान देश ने सबसे तेज सकल घरेलू उत्पाद (जीडीप) वृद्धि दर्ज की है.

विश्व का सबसे चमकदार आर्थिक सितारा है भारत, मोदी सरकार ने पिछले सभी रिकार्ड किए ध्वस्त
भारत ने सबसे तेज सकल घरेलू उत्पाद (जीडीप) वृद्धि दर्ज की है.

नई दिल्ली: वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को कहा कि पिछले पांच वर्ष में विश्व में भारतीय अर्थव्यवस्था सबसे चमकदार सितारे की तरह उभरा है और इस दौरान देश ने सबसे तेज सकल घरेलू उत्पाद (जीडीप) वृद्धि दर्ज की है. यह वृद्धि किसी भी पूर्ववर्ती सरकार की तुलना में सबसे अधिक है. लोकसभा में 2019-20 का अंतरिम बजट पेश करते हुए गोयल ने कहा कि भारत की पहचान पिछले पांच वर्ष में सबसे चमकते हुए सितारे के रूप में की गयी है. उन्होंने कहा कि भारत ने सबसे तेज सकल घरेलू उत्पाद (जीडीप) वृद्धि दर्ज की है. यह वृद्धि किसी भी पूर्ववर्ती सरकार की तुलना में सबसे अधिक है.

गोयल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी नीत राजग सरकार ने दहाई अंक वाली मुद्रास्फीति पर लगाम लगायी और हमने कमर तोड़ महंगाई की कमर तोड़ दी.

विकास दर 7.2% रहने का अनुमान
सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था के मामले में चीन को पछाड़ने के बाद साल 2018-19 में भारतीय अर्थव्यवस्था की विकास दर 7.2 प्रतिशत पर रहने का अनुमान है. अर्थव्यवस्था की तेजी को लेकर यह अनुमान केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय की ओर से जताया गया है. इससे पहले 2017-18 में विकास दर 6.7 प्रतिशत रही थी. इससे पहले साल 2018 में उतार-चढ़ाव के बावजूद दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था बना रहा. भारत ने चीन को भी पीछे छोड़ा. हालांकि, साल के दौरान कच्चे तेल की कीमतों में तेजी और वैश्विक स्तर पर व्यापार युद्ध की आशंका के बीच कई बार अर्थव्यवस्था ऊपर नीचे हुई.

पहली तिमाही में जीडीपी 8.2 प्रतिशत रही
भारतीय अर्थव्यवस्था की रफ्तार का अनुमान सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर के आंकड़ों से लगता है. 2018-19 की 30 जून को समाप्त पहली तिमाही में जीडीपी की वृद्धि दर 8.2 प्रतिशत रही. साल के पहले तीन महीनों जनवरी से मार्च के दौरान यह 7.7 प्रतिशत रही थी. हालांकि, जीडीपी की वृद्धि दर 30 सितंबर को समाप्त अगली तिमाही में घटकर 7.1 प्रतिशत रह गई. फिच रेटिंग ने भारतीय अर्थव्यवस्था की चालू वित्त वर्ष की वृद्धि दर के अनुमान को 7.8 से घटाकर 7.2 प्रतिशत कर दिया है.

नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने भी कहा था कि सरकार 2019 में वृद्धि को रफ्तार देने के लिए सुधारों की रफ्तार तेज करेगी. कुमार ने कहा कि निवेश रफ्तार पकड़ रहा है और 2019 के कैलेंडर वर्ष में भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर 7.8 प्रतिशत रहेगी.

इनपुट भाषा से भी