31 दिसंबर तक बढ़ाई जाए दिल्ली में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगाने की तारीख, CAIT ने लिखा पत्र

दिल्ली में वाहनों के लिए लागू होने वाले कलर कोडेड फ्यूल और हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट्स की तारीख को बढ़ाने को लेकर के कॉन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT)  ने एक पत्र सरकार और उप-राज्यपाल को लिखा है. 

31 दिसंबर तक बढ़ाई जाए दिल्ली में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगाने की तारीख, CAIT ने लिखा पत्र
फाइल फोटो

नई दिल्लीः दिल्ली में वाहनों के लिए लागू होने वाले कलर कोडेड फ्यूल और हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट्स की तारीख को बढ़ाने को लेकर के कॉन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT)  ने एक पत्र सरकार और उप-राज्यपाल को लिखा है. व्यापारी संगठन ने मांग की है कि अंतिम तिथि को 30 सितंबर से बढ़ाकर के 31 दिसंबर किया जाए, ताकि लोगों को थोड़ी राहत मिल सकें.

अपने पत्र में कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने इस कदम की सराहना करते हुए कहा है कि 31 मार्च, 2018 तक दिल्ली में लगभग 109.86 लाख वाहन पंजीकृत थे. इनमें 32,46,637 लाख कार और जीप; 1,13,074 लाख ऑटो रिक्शा और 70,78,428 लाख दोपहिया वाहन जिनमें स्कूटर, मोटरसाइकिल आदि शामिल हैं. जबकि केवल 236 वाहन व्यापारियों को दिल्ली में यह नंबर प्लेट लगाने के लिए अधिकृत किया गया है. 

अब जबकि अंतिम तारीख के लिए केवल चार दिनों का ही समय रह गया है ऐसे में दिल्ली के वाहन मालिकों के लिए नंबर प्लेट्स और कलर कोडेड फ्यूल स्टिकर को लगाना लगभग असंभव है.

दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत लिखे पत्र में प्रवीन खंडेलवाल ने कहा है कि, 'हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट्स और कलर कोडेड फ्यूल स्टिकर चिपकाए जाने के लिए दिल्ली सरकार की अधिसूचना का दिल्ली के व्यापारी स्वागत करते हैं. एक लम्बे समय से इसकी काफी जरूरत थी. लेकिन दिल्ली में पंजीकृत वाहनों की बड़ी संख्या को ध्यान में रखते हुए इसकी अंतिम तिथि को 30 सितंबर 2020 से 31 दिसंबर, 2020 कर देनी चाहिए.

कैट ने पत्र में आगे लिखा है कि कोई भी अधिसूचना जारी करने से पहले उसकी व्यवहारिकता को देख लेना बेहद आवश्यक है. यदि 236 अधिकृत केंद्र 24 घंटे भी काम करते हैं तो भी वे समय सीमा में इस काम को पूरा नहीं कर पाएंगे और सामाजिक दूरियों के मानदंडों को अपनाएंगे तो प्रत्येक केंद्र पर बड़ी लाइनें होंगी. लोगों का बड़ा समय उनका नंबर आने के इंतजार में बर्बाद होंगे और उसके बाद कलर कोडिड फ्यूल स्टीकर प्राप्त करने में अतिरिक्त समय लगेगा.

व्यावहारिक तरीके से देखी जाए परेशानी
खंडेलवाल ने आगे कहा कि इस मुद्दे को एक व्यावहारिक कोण से देखने की जरूरत है और इसलिए  31 दिसंबर तक बढ़ाना जरूरी है ताकि दिल्ली के लोग एक व्यवस्थित तरीके से अधिसूचना का पालन कर सकें. उन्होंने प्लेट्स और कलर कोडेड ईंधन स्टिकर एक समयबद्ध अवधि में लगाने की संभावनाओं को बढ़ाने के लिए अधिकृत केंद्रों की संख्या में पर्याप्त रूप से वृद्धि करने का भी अनुरोध किया.

तय किया जाए चार्ज
खंडेलवाल ने आगे कहा कि अधिकृत केंद्रों द्वारा किसी भी प्रकार के अधिक शुल्क से बचने के लिए प्लेट्स और कलर कोडेड ईंधन स्टिकर लगाने का चार्ज भी तय किया जाए जिससे अधिकृत केंद्रों पर वाहन मालिकों का किसी प्रकार से उत्पीड़न न हो और उनसे ज्यादा पैसे न वसूल किए जाएं. खंडेलवाल ने यह भी कहा की अन्य राज्यों में पंजीकृत वाहन जो दिल्ली में चलते हैं उनके लिए भी दिशा निर्देश जारी किये जाएं.

यह भी पढ़ेंः 1 जनवरी से बदलने जा रहे हैं चेक से पेमेंट के नियम, RBI ने किया ये बड़ा बदलाव

ये भी देखें---