close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

'क्‍या प्‍लास्टिक के उपयोग से पूरे देश को मुक्‍त कर सकते हैं? 2 अक्‍टूबर को बढ़ाएं कदम'

पर्यावरण संरक्षण के लिहाज से प्‍लास्टिक को पूरी तरह से बैन करने की अपील पीएम मोदी ने 73वें स्‍वतंत्रता दिवस (Independence Day India) पर लाल किले की प्राचीर से की.

'क्‍या प्‍लास्टिक के उपयोग से पूरे देश को मुक्‍त कर सकते हैं? 2 अक्‍टूबर को बढ़ाएं कदम'

नई दिल्‍ली: पर्यावरण संरक्षण के लिहाज से प्‍लास्टिक को पूरी तरह से बैन करने की अपील पीएम मोदी ने 73वें स्‍वतंत्रता दिवस (Independence Day India) पर लाल किले की प्राचीर से की. उन्‍होंने कहा कि क्‍या हम पूरी तरह से प्‍लास्टिक थैलियों के इस्‍तेमाल से मुक्‍त हो सकते हैं? इस विचार के क्रियान्‍वयन का वक्‍त अब आ गया है. इस दिशा में गांधी जयंती के मौके पर दो अक्‍टूबर को अहम कदम उठाते हुए अपने आस-पास के माहौल को प्‍लास्टिक से मुक्‍त करने का प्रयास करें. इस सिलसिले में व्‍यवसायियों से अपील करते हुए कहा कि वे अपने यहां बोर्ड पर लगाएं कि सामान के लिए कृपया अपना कपड़े का थैला साथ लाएं. यहां पर प्‍लास्टिक की थैली नहीं मिलेगी. उन्‍होंने जनता से प्‍लास्टिक के थैलों के खिलाफ अभियान में बढ़-चढ़कर हिस्‍सा लेने की अपील की.

डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा
डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देने के मकसद से पीएम मोदी ने नया नारा दिया. उन्‍होंने कहा कि अक्‍सर दुकानों में 'आज नकद-कल उधार' का बोर्ड देखने को मिलता है लेकिन व्‍यापारियों से आग्रह करते हैं कि अब वे इसके बजाय 'डिजिटल पेमेंट को हां, नकद को ना' का बोर्ड लगाएं. इससे डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा मिलेगा.

पहले था आज नकद-कल उधार, PM मोदी का नया नारा- डिजिटल पेमेंट को हां, नकद को ना

जल संरक्षण
उन्‍होंने कहा कि इस मुद्दे पर सरकार की प्राथमिकता को इस आधार पर समझा जा सकता है कि हमने नई सरकार के गठन के 70 दिन के भीतर ही जल शक्ति मंत्रालय बनाया. उन्‍होंने कहा कि सभी लोग जल के महत्‍व को समझें. किसान जल की हर बूंद से अधिक पैदावार की सोचें. शिक्षा कर्मी बचपन से ही पानी के महत्व को बताएं. पानी के क्षेत्र में 70 सालों में जो काम हुआ है, हमें पांच साल में उसका चौगुना काम करना होगा. हम और ज्यादा इंतजार नहीं कर सकते हैं.

LIVE TV

PM मोदी ने सुनाया उस मुनि का किस्‍सा, जिन्‍होंने कहा था- एक दिन पानी दुकान पर बिकेगा

उन्‍होंने एक प्रसिद्ध संत की कविता का जिक्र करते हुए कहा कि जब पानी समाप्त हो जाता है तो प्रकृति का कार्य रुक जाता है, एक तरह से विनाश प्रारंभ हो जाता है. इसी कड़ी में उन्‍होंने कहा कि उत्‍तरी गुजरात में एक धार्मिक जगह है. जैन समुदाय के लोग उसके प्रति श्रद्धा भाव रखते हैं. वहां एक जैन मुनि हुए. वह किसान थे, खेत में काम करते थे. वह 100 साल पहले लिख कर गए हैं कि एक दिन ऐसा आएगा जब पानी किराने की दुकान पर बिकेगा. आज वास्‍तव में पीने का पानी किराने की दुकान पर मिलता है.

73वां स्‍वतंत्रता दिवस: PM मोदी ने लाल किले पर फहराया तिरंगा, बच्‍चों से की मुलाकात

पीएम मोदी ने कहा कि आजादी के 70 साल हो गए. हर किसी ने अपने-अपने तरीके से प्रयास किया है. लेकिन आज हिन्दुस्तान में आधे घर ऐसे हैं जिनको पीने का पानी के लिए मशक्क्त करना पड़ता है. 2-5 किमी पैदल जाना पड़ता है. आधा जीवन खप जाता है. हर घर को जल कैसे मिले. हम आने वाले दिनों में जल जीवन मिशन को लेकर आगे बढ़ेंगे. इस मद में साढ़े तीन लाख करोड़ से भी ज्यादा खर्च करने का संकल्प किया है. जल संरक्षण के मुद्दे पर हमें न रुकना है और न आगे बढ़ने से रुकना है. यह सरकारी अभियान नहीं बनना चाहिए. जनसामान्य को लेकर इस मुद्दे पर आगे बढ़ना है.