close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Tax Return भरने की तारीख बढ़ी, फिर भी किया मिस तो होंगे कई नुकसान

इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की तारीख 31 जुलाई से बढ़ाकर 31 अगस्त तक कर दी गई है. इसके बाद रिटर्न फाइल करने पर जुर्माना भरना होगा.

Tax Return भरने की तारीख बढ़ी, फिर भी किया मिस तो होंगे कई नुकसान
जुर्मान देकर 31 मार्च 2020 तक रिटर्न फाइल किया जा सकता है. (प्रतीकात्मक)

नई दिल्ली: सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस (CBDT) ने 23 जुलाई को इनकम टैक्स रिटर्न भरने की तारीख बढ़ा दी है. अब 31 अगस्त तक रिटर्न भरा जा सकता है. पहले रिटर्न भरने की आखिरी तारीख 31 जुलाई ही थी. बता दें, 31 अगस्त तक आपको वित्त वर्ष 2018-19 के लिए रिटर्न फाइल करना है. ऐसे में आपके मन में एक सवाल उठ रहा होगा कि अगर कोई टैक्सपेयर्स रिटर्न फाइल नहीं करता है तो क्या होगा. इस आर्टिकल में आपको इसके बारे में पूरी जानकारी देने जा रहे हैं.

1. अगर कोई टैक्सपेयर्स (इंडिविजुअल) 31 अगस्त तक रिटर्न फाइल नहीं करता है तो 31 दिसंबर 2019 तक वह लेट पेनाल्टी के साथ रिटर्न फाइल कर सकता है. लेट पेनाल्टी 5000 रुपये तक है. इसे ही बी-लेटेड रिटर्न फाइल करना कहा जाता है.

2. अगर 31 दिसंबर 2019 की भी समय सीमा गुजर जाती है तो टैक्सपेयर्स (इंडिविजुअल) के पास 31 मार्च 2020 तक रिटर्न फाइल करने का मौका होगा. लेकिन, उसे 10000 रुपये का जुर्माना भरना होगा. बता दें, पहले यह नियम नहीं था. लेकिन,  एसेसमेंट ईयर 2018-19 में इस नियम को जोड़ा गया. यह इनकम टैक्स कानून की धार 234 F है.

यह सामान्य नियम हैं. लेकिन, इन नियमों के साथ कई टर्म और कंडीशन भी लगे हुए हैं. अगर किसी की टोटल इनकम 5 लाख से ज्यादा है तो किसी भी सूरत में उससे 1000 रुपये से ज्यादा की पेनाल्टी नहीं वसूली जा सकती है. बता दें, अगर आपने समय पर रिटर्न फाइल किया है तो इसके कई फायदे हैं. इससे लोन लेने में परेशानी नहीं होगी क्योंकि सिबिल स्कोर अच्छा होगा. टैक्स रिफंड में कोई दिक्कत नहीं होगी. अगर आप दूसरे देश की यात्रा करना चाहते हैं तो जिन्होंने समय पर रिटर्न फाइल किया है , उन्हें आसानी से वीजा जारी कर दिया जाएगा.