close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जेटली की गहरी समझ के चलते GST और Insolvency जैसे प्रभावी सुधार हो पाए : CEA सुब्रमण्यम

देश के मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम ने पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली की तारीफ में कहा कि उनकी गहरी समझ से देश में GST और Insolvency जैसे प्रभावशाली सुधारों को अमल में लाया जा सका है.

जेटली की गहरी समझ के चलते GST और Insolvency जैसे प्रभावी सुधार हो पाए : CEA सुब्रमण्यम
अरुण जेटली ने साफ कर दिया है कि वे स्वास्थ्य कारणों से मंत्री नहीं बनना चाहते हैं. (फाइल)

मुंबई: आज (30 मई) को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दूसरी बार शपथ ग्रहण करेंगे. बुधवार को अरुण जेटली ने प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखकर मंत्रालय नहीं सौंपने की अपील की. उन्होंने इसके लिए अपने स्वास्थ्य का हवाला दिया. देर शाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उनसे मिलने भी पहुंचे थे. इन सब के बीच देश के मुख्य आर्थिक सलाहकार कृष्णमूर्ति सुब्रमण्यम ने जेटली द्वारा पूर्ववर्ती सरकार में किए गए काम की जमकर तारीफ की. उन्होंने कहा कि अरुण जेटली की परिस्थितयों को लेकर गहरी समझ से देश में माल एवं सेवाकर (GST) और दिवाला एवं ऋण शोधन अक्षमता (Insolvency) जैसे प्रभावशाली सुधारों को अमल में लाया जा सका है.

सुब्रमण्यम ने बुधवार को संवाददाताओं से कहा, ‘‘मेरा मानना है कि उनकी इस तरह के (जीएसटी जैसे) मुश्किल सुधारों को आगे बढ़ाने की क्षमता काफी सराहनीय है. दिवाला कानून भी इसी तरह का सुधार है जिसके लिये उन्हें याद किया जायेगा.’’ उन्होंने कहा कि देश में जीएसटी व्यवस्था को लागू करने में जेटली की अहम भूमिका रही है. जीएसटी परिषद में उनके नेतृत्व की हर किसी ने सराहना की है. 

बहरहाल, जेटली ने पिछले कुछ दिनों से चल रही अटकलों को समाप्त करते हुये ट्विटर पर एक पत्र पोस्ट किया जो कि उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी को लिखा. पत्र में उन्होंने स्वास्थ्य कारणों से प्रधानमंत्री से नई सरकार में कोई जिम्मेदारी नहीं दिये जाने का अनुरोध किया है. आम चुनावों में भारतीय जनता पार्टी को मिली भारी सफलता के बाद जेटली ने मौखिक तौर पर भी अपनी स्थिति प्रधानमंत्री को बता दी थी. अपनी बीमारी के बारे में खलासा किये बिना जेटली ने कहा कि वह बाहर रहकर भी सरकार और पार्टी को समर्थन देते रहेंगे.