close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

‘ढांचागत परियोजनाओं के लिये चीन का कर्ज जापान से काफी महंगा’

भारत में ढांचागत परियोजनाओं के विकास में चीन से बड़े पैमाने पर निवेश के लिये जोर देते हुये नीति आयोग के उपाध्यक्ष अरविंद पनगढ़िया ने कहा है कि चीन को अपना कर्ज जापान के बेहद आकर्षक कर्ज की तुलना में आकर्षक बनाना चाहिये।

‘ढांचागत परियोजनाओं के लिये चीन का कर्ज जापान से काफी महंगा’

बीजिंग : भारत में ढांचागत परियोजनाओं के विकास में चीन से बड़े पैमाने पर निवेश के लिये जोर देते हुये नीति आयोग के उपाध्यक्ष अरविंद पनगढ़िया ने कहा है कि चीन को अपना कर्ज जापान के बेहद आकर्षक कर्ज की तुलना में आकर्षक बनाना चाहिये।

पनगढ़िया ने इस सप्ताह की शुरुआत में यहां नीति आयोग और चीन के विकास शोध केन्द्र (डीआरसी) के बीच हुई भारत-चीन आर्थिक विकास बैठक में भाग लिया। उन्होंने कहा कि चीन को अपना कर्ज अधिक आकर्षक बनाना चाहिये। चीन, भारत में ढांचागत क्षेत्र में बुलेट ट्रेन चलाने सहित कई बड़ी परियोजनाओं में बड़ा निवेश करने के लिए प्रयासरत है।

उन्होंने कहा, ‘उच्च गति की रेल गाड़ी काफी खर्चीली योजना है। ऐसे में चीन की ओर वित्त व्यवस्था का प्रस्ताव महत्वपूर्ण होगा। दूसरी तरफ जापान की ओर से बहुत आकर्षक शर्त पर वित्तपोषण का प्रस्ताव रखा जा रहा है।’ पनगढ़िया ने कहा, ‘वह 40 साल की अवधि के लिये कर्ज देने की पेशकश रहे हैं जिसमें 10 साल तक कोई भुगतान नहीं करना होगा और उसके बाद 0.3 प्रतिशत सालाना दर पर इसे लौटाना होगा। इस प्रकार यह काफी सस्ता कर्ज है। चीन इसके आसपास कोई पेशकश नहीं कर रहा है। ऐसे में चीन की पेशकश और जापान की पेशकश में काफी बड़ा अंतर है।’ चीन भारत में बुलेट ट्रेन चलाने के लिये जरूरी ढांचा तैयार करने के मामले में जापान से प्रतिस्पर्धा कर रहा है।

जापान इस समय मुंबई और अहमदाबाद के बीच बुलेट ट्रेन चलाने पर संभाव्यवता अध्ययन कर रहा है जबकि चीन चेन्नई और नयी दिल्ली के बीच ऐसी प्रणाली की संभावना का अध्ययन कर रहा है।