close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

देशवासियों की सेहत का ध्यान रखेगी Coca Cola, आम पना और छाछ की बिक्री करेगी

पिछले कुछ सालों में सेहत के प्रति बढ़ी जागरूकता और कोल्ड ड्रिंक की सेल घटने से सॉफ्ट ड्रिंक कंपनियों को अपनी रणनीति बदलने के लिए मजबूर होना पड़ा है.

देशवासियों की सेहत का ध्यान रखेगी Coca Cola, आम पना और छाछ की बिक्री करेगी

नई दिल्ली : पिछले कुछ सालों में सेहत के प्रति बढ़ी जागरूकता और कोल्ड ड्रिंक की सेल घटने से सॉफ्ट ड्रिंक कंपनियों को अपनी रणनीति बदलने के लिए मजबूर होना पड़ा है. नई योजना के तहत कोका-कोला (Coca Cola) जैसी दिग्गज कंपनियां दो हजार साल से प्रचलित स्वादिष्ट और सेहतमंद घरेलू पेय जैसे जलजीरा और आम पना बेचने के लिए तैयार है. कंपनी की तरफ से जलजीरा को पहले ही लॉन्च किया जा चुका है. अब गर्मियों को ध्यान में रखते हुए आम पना को पेश करने की योजना है. कंपनी की तरफ से यह निर्णय बढ़ती गर्मी में आम पना की बढ़ती डिमांड को देखकर लिया जा रहा है.

कोल्ड ड्रिंक पीना सेहत के लिए नुकसानदेह
कई रिपोटर्स से यह साफ हो चुका है कि कोल्ड ड्रिंक का सेवन सेहत के लिए नुकसानदेह है. ऐसे में लोग कोल्ड ड्रिंक पीने से परहेज करने लगे हैं. आम पना और जलजीरा को घरेलू मसालों और फलों से तैयार किया जा सकता है. पिछले कुछ सालों में इनके पैकड पैकेट की मांग बढ़ी है. एक आंकड़े के अनुसार यह मांग कोल्ड ड्रिंक से तीन गुना ज्यादा है. ब्‍लूमबर्ग की रिपोर्ट के अनुसार कोक के भारत में CEO टी कृष्‍णकुमार ने कहा कि देश के 29 राज्‍य कंपनी के लिए 29 देशों के बराबर हैं. यहां पर कुछ किमी की दूरी पर बोली और खानपान में बदलाव आ जाता है.

छोटे-छोटे स्टार्टअप कर रहे जलजीरा की बिक्री
छोटे-छोटे स्टार्टअप की तरफ से पेश किए गए जलजीरा और आम पना की बिक्री में इजाफा आने से कोक भी इसी ओर रुख कर रही है. राज्स्थान बेस्ड एक एक ग्रुप का स्लोगन है 'Be Indian Buy Indian'. कोक भी इसी का अनुसरण करते हुए पहले जलजीरा लॉन्च कर चुका है. अब कंपनी जल्द ही आम पन्ना लाने की तैयारी में है. कंपनी का लक्ष्य कम कीमत में भारतीय शीतल पेय लोगों तक पहुंचाने की है.

आम और लिची का उत्पादन करेगी कंपनी
कंपनी की तरफ से आम और लिची का उत्पादन भी शुरू किया जाएगा. इसके लिए कंपनी 1.7 अरब डॉलर का निवेश करेगी. कृष्‍णकुमार के अनुसार भारत का जूस मार्केट 3.6 अरब डॉलर का है. इसमें 72 प्रतिशत स्‍थानीय स्‍तर पर ठेलों पर बिकने वाला जूस है. इसके अलावा कंपनी छाछ और लस्सी की बिक्री भी करेगी. इससे यह कहा जा सकता है कि इन गर्मियों कंपनी देशवासियों को ध्यान में रखते हुए नए प्रोडक्ट ला रही है.