क्या कोरोना की वजह से मौत होने पर बीमा कंपनियां क्लेम का पैसा देंगी? यहां जानिए जवाब

कोरोना महामारी (Coronavirus) की वजह से दुनियाभर में हड़कंप मचा हुआ है. ऐसे में अगर कोरोना की वजह से किसी की मौत होती है तो लाइफ इंश्योरेंस कंपनियां क्लेम रिजेक्ट नहीं करेंगी. 

क्या कोरोना की वजह से मौत होने पर बीमा कंपनियां क्लेम का पैसा देंगी? यहां जानिए जवाब
इंश्योरेंस नहीं होगा रिजेक्ट

नई दिल्ली: कोरोना महामारी (Coronavirus) की वजह से दुनियाभर में हड़कंप मचा हुआ है. ऐसे में अगर कोरोना की वजह से किसी की मौत होती है तो लाइफ इंश्योरेंस कंपनियां क्लेम रिजेक्ट नहीं करेंगी और पॉलिसी होल्डर को समएश्योर्ड का पूरा पैसा मिलेगा. 

देश की सभी लाइफ इंश्योरेंस कंपनियों के संगठन life Insurance Council ने ये साफ किया है कि कोरोना महामारी में Force Majeure का क्लोज लागू नहीं होगा क्योंकि कुछ कंपनियों की पॉलिसी शर्तों में ये लिखा हुआ था Force Majeure क्लोज यानी युद्ध की स्थिति, महामारी, प्राकृतिक त्रासदी और एक्ट ऑफ गॉड जैसी घटनाओं के होने पर कंपनी क्लेम रिजक्ट कर सकती है. 

इसी वजह से कंपनियों के पास काफी ज्यादा पॉलिसी होल्डर्स से पूछताछ बढ़ रही थी. इसी को देखते हुए सभी सरकारी और प्राइवेट कंपनियों ने ये साफ कर दिया है कि कोरोना की वजह से क्लेम रिजेक्ट नहीं किया जाएगा और पॉलिसी होल्डर्स को इस वक्त किसी भी तरह की अफवाहों पर ध्यान देने की जरूरत नहीं है. 

ये भी पढ़ें- क्या बैंक ने काट ली है आपके लोन की EMI? ऐसे मिल सकते हैं पैसे वापस

इससे पहले लोगों को चिंता थी कि इस लॉकडाउन के बीच बीमा का प्रीमियम नहीं भरा तो वो लैप्स न हो जाए. लेकिन इस चिंता का समाधान भी हो गया था. केंद्रीय वित्त मंत्रालय (Finance Ministry) ने इस मामले में बड़ी राहत दी थी. 

ये भी देखें- 

वित्त मंत्रालय ने ऐलान किया था कि लॉकडाउन के दौरान जिन लोगों ने अपने मोटर व्हीकल की थर्ड पार्टी इंश्योरेंस (Insurance) या हेल्थ इंश्योरेंस (Health Insurance) की पॉलिसी को रीन्यू नहीं कराया है वो 21 अप्रैल तक प्रीमियम भर के रिन्यू करा सकते हैं.  यानी किसी की पॉलिसी 25 मार्च को लैप्स कर रही होगी और पेमेंट नहीं हो पाई तो भी पॉलिसी लैप्स नहीं मानी जाएगी. बल्कि 21 अप्रैल तक पैसा भर कर वो पॉलिसी जारी रख सकते हैं.