1300 करोड़ के पासवर्ड रखने वाले कोटेन की भारत में हुई मौत, डॉक्टरों ने बताई हकीकत

कनाडा की बड़ी क्रिप्टोकरेंसी कंपनी के सीईओ गेराल्ड कोटेन की मौत भारत में ही हुई थी. क्रिप्टोकरेंसी फर्म क्वाड्रिगा सीएक्स के सीईओ कोटेन (30) की मौत को लेकर कुछ लोगों का कहना था कि इसका क्या सबूत है कि उनकी मौत भारत में हुई.

1300 करोड़ के पासवर्ड रखने वाले कोटेन की भारत में हुई मौत, डॉक्टरों ने बताई हकीकत

नई दिल्ली : कनाडा की बड़ी क्रिप्टोकरेंसी कंपनी के सीईओ गेराल्ड कोटेन की मौत भारत में ही हुई थी. क्रिप्टोकरेंसी फर्म क्वाड्रिगा सीएक्स के सीईओ कोटेन (30) की मौत को लेकर कुछ लोगों का कहना था कि इसका क्या सबूत है कि उनकी मौत भारत में हुई. लेकिन अब जयपुर के एक निजी अस्पताल ने इसकी पुष्टि की है. बताया जा रहा है कि गेराल्ड की मौत के बाद निवेश्कों के 190 मिलियन डॉलर (1300 करोड़ रुपये) फंस गए हैं. इस क्रिप्टोकरेंसी को अनलॉक करने का पासवर्ड सिर्फ कोटेन के पास ही था. मीडिया रिपोर्टस में बताया जा रहा था कि दिसंबर में भारत दौरे पर आने के दौरान कोटेन की मौत हो गई.

8 दिसंबर को अस्पताल में हुए भर्ती
जयपुर के एक निजी अस्पताल ने गेराल्ड की मौत से जुड़ा अपडेट देते हुए बताया कि वह 8 दिसंबर 2018 को अस्पताल में भर्ती हुए थे. इसके बाद 9 दिसंबर को उनकी मौत हो गई थी. अस्पताल की तरफ से बताया गया कि कोटेन आंतों की दुर्लभ पुरानी बीमारी से ग्रस्त थे. इलाज के दौरान दो बार उन्हें कार्डियक अरेस्ट भी आया. इसके बाद गेराल्ड की मौत हो गई. अस्पताल की तरफ से बताया गया कि अंतरराष्ट्रीय प्रोटोकॉल के तहत गेराल्ड के शव को महात्मा गांधी अस्पताल भेज दिया गया था. इसके बाद स्थानीय निकाय को सूचना दे दी गई. लेकिन अस्पताल ने यह साफ किया गया गेराल्ड का पोस्टमार्टम भारत में नहीं हुआ.

10 दिसंबर को पुलिस ने दी एनओसी
एक अंग्रेजी अखबर में प्रकाशित खबर के अनुसार 10 दिसंबर, 2018 को जयपुर पुलिस ने गेराल्ड की पत्नी को नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट (एनओसी) दिया था. ताकि गेराल्ड के शव को कनाडा स्थित उनके घर ले जाया जा सके. स्थानीय नगरपालिका की तरफ से गेराल्ड का डेथ सर्टिफिकेट भी जारी किया गया था. आपको बता दें कोटेन की मौत से 1300 करोड़ रुपये के बिटकॉइन समेत अन्य डिजीटल करेंसी फ्रीज हो गई है. इस करेंसी को अनलॉक करने का पासवर्ड सिर्फ कोटेन के पास ही था. क्रिप्टोकरेंसी के पासवर्ड के बारे में मृतक की पत्नी को भी जानकारी नहीं है.

एक्सपर्ट में पासवर्ड ब्रेक करने में असफल
दिग्गज सिक्योरिटी एक्सपर्ट भी इस करेंसी के पासवर्ड को ब्रेक नहीं कर पा रहे हैं. यह पूरा मामला उस समय सामने आया जब कोटेन की पत्नी जेनिफर रॉबर्टसन और उनकी कंपनी ने पिछले दिनों अदालत में क्रेडिट प्रोटेक्शन की याचिका दायर की. याचिका में रॉबर्टसन की तरफ से कहा गया कि गेराल्ड के इनक्रिप्टेड अकाउंट को अनलॉक नहीं कर पा रहे हैं. इस अकाउंट में करीब 190 मिलियन डॉलर की बिटकॉइन समेत अन्य क्रिप्टोकरेंसी लॉक्ड हैं. यह भी बताया गया कि गेराल्ड जिस लैपटॉप से अपना ऑफिशियल काम करते थे, वह इनक्रिप्टेड है और उसका पासवर्ड उनके अलावा किसी के पास नहीं था.