यात्रियों के लिए लाइफलाइन बना दिल्ली एयरपोर्ट, Lockdown में भी कर रहा मदद

कोरोना वायरस महामारी के बीच भी दिल्ली एयरपोर्ट अपना काम मुस्तैदी से कर रहा है.

यात्रियों के लिए लाइफलाइन बना दिल्ली एयरपोर्ट, Lockdown में भी कर रहा मदद
फाइल फोटो

नई दिल्ली: जरा सोचिए क्या हुआ होगा एयरपोर्ट पर यात्रियों का हाल जब 24 मार्च से Lockdown की घोषणा हुई. सभी एयरलाइनो ने अपने कॉल सेंटर लगभग बंद कर दिए, सूचनाएं मिलनी बंद हो गई. लेकिन कोरोना वायरस महामारी के बीच भी दिल्ली एयरपोर्ट अपना काम मुस्तैदी से कर रहा है.

पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा यात्रियों से एंगेज रहा है दिल्ली एयरपोर्ट
दिल्ली अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट लिमिटेड (DIAL) के सीईओ विदेह कुमार जयपुरियार का कहना है कि लॉकडाउन की वजह से ज्यादातर यात्रियों ने एयरलाइनों की बजाए एयरपोर्ट से ही संपर्क साधना शुरू किया. हमारे सोशल मीडिया पेज जैसे ट्वीटर, फेसबुक और इंस्टाग्राम में यात्रियों के सवालों की भरमार हो गई. हमने इस कठिन समय में भी अपने सोशल मीडिया पेज को अपडेट रखा है. यात्रियों को रियल टाइम में जवाब दिया जा रहा है. टीम के कई सदस्य घर से काम कर रहे हैं. लेकिन संकट की इस घड़ी में एयरपोर्ट के हर यात्री तक सटीक और जल्दी सूचनाएं पहुंचा कर हमने अपने आपको दुनिया में सबसे ज्यादा सक्रिय एयरपोर्ट साबित किया है. 

ये भी पढ़ें: क्या बैंक ने काट ली है आपके लोन की EMI? ऐसे मिल सकते हैं पैसे वापस

सोशल मीडिय में सबसे ज्यादा यात्रियों ने दिल्ली एयरपोर्ट से बातचीत की
एयरलाइनों की टेलीफोन लाइनें और यातायात सेवाएं बाधित होते ही यात्रियों ने सोशल मीडिया के जरिए ही मदद की गुहार की है. पूरी दुनिया में ज्यादातर यात्रियों ने ट्वीटर, फेसबुक और इंटा के जरिए ही स्थानीय मदद मांगी. इसमें भी सबसे ज्यादा सूचनाएं और बातचीत दिल्ली एयरपोर्ट ने की है. आंकड़ों पर अगर ध्यान दें तो पता चलता है कि दुबई एयरपोर्ट का यात्रियों के साथ एंगेजमेंट रेट मात्र 9561 रहा. वहीं लंदन का हिथ्रो एयरपोर्ट पर मात्र 35 हजार के आसपास ही लोगों ने एयरपोर्ट से बातचीत की. लेकिन भारत में लॉकडाउन शुरू होने से लेकर अब तक यात्रियों और दिल्ली एयरपोर्ट के बीच 3.53 लाख का एंगेजमेंट रेट रहा है.  

उल्लेखनीय है कि कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए 24 मार्च से देश में लॉकडाउन है. इसके बाद दिल्ली समेत ज्यादातर राज्यों के एयरपोर्ट्स बंद हैं. इस बीच लोगों को सिर्फ स्थानीय एयरपोर्ट से ही मदद और  सूचनाएं मिल पा रही हैं.