Breaking News
  • कोरोना जल्द खत्म होने वाला नहीं, कोई अस्पताल मरीज को बाहर निकाल नहीं सकता: केजरीवाल
  • जम्मू कश्मीर के कुलगाम में एनकाउंटर, सुरक्षाबलों ने 2 आतंकियों को ढेर किया

Lockdown: EMI, सैलरी और मुफ्त राशन को लेकर मन में है सवाल? यहां जानिए सरल भाषा में जवाब

हम आपको बता रहे हैं कोरोना वायरस में लॉकडाउन के बीच इन घोषणाओं के असल माएने क्या हैं

Lockdown: EMI, सैलरी और मुफ्त राशन को लेकर मन में है सवाल? यहां जानिए सरल भाषा में जवाब
फाइल फोटो

नई दिल्ली: पिछले दो दिनों में आम नागरिक को राहत देने के लिए केंद्र सरकार ने कई बड़े ऐलान किए हैं, लेकिन अभी भी कुछ घोषणाओं पर आम और खास व्यक्ति थोड़ा कंफ्यूज है. आइए हम आपको बता रहे हैं कि कोरोना वायरस में लॉकडाउन के बीच इन घोषणाओं के मायने क्या हैं हम आपको ये भी बताएंगे कि इससे आपको क्या फायदा होने वाला है...

घोषणा: वित्त मंत्री ने ऐलान किया है कि गरीबों को पांच किलो अनाज मुफ्त मिलेगा.
मायने: पीडीएस के तहत राशन में 5 किलो चावल और 5 किलो गेहूं का प्रावधान है. अगले तीन महीने तक सरकार प्रति माह आपको पांच किलो अनाज अलग से मुफ्त देगी. राशन कार्ड धारक अपनी मर्जी से चावल या गेंहू चुन सकते हैं. 

घोषणा: उज्‍ज्‍वला स्कीम के लाभार्थियों को अगले तीन महीने तक तीन सिलेंडर मुफ्त में दिए जाएंगे. 
मायने: केंद्र सरकार ने उज्जवला स्कीम के तहत आपको हर महीने एक मुफ्त सिलेंडर का प्रावधान किया गया है. यानि अगले तीन महीने में कुल तीन सिलेंडर मुफ्त मिलेंगे.

ये भी देखें-

ये भी पढ़ें: RBI की घोषणाओं को PM मोदी ने बताया बड़ा कदम, कहा- मिडिल क्लास को मिलेगी मदद

घोषणा: अप्रैल के पहले हफ्ते में किसानों के खाते में 2000 रुपये डालेगी सरकार.
मायने: इसे अग्रिम भुगतान ही समझा जाए. दरअसल प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत किसानों को सालाना 6 हजार रुपये दिए जाते हैं. पहली किस्त मई में दिए जाने का प्रावधान है. लॉकडाउन की वजह से केंद्र सरकार ने पहली किस्त मई के बदले अप्रैल में ही भुगतान करने का फैसला किया है. इस योजना में कोई अतिरिक्त पैसा नहीं दिया जा रहा है.

WATCH: VIDEO

सवाल: RBI ने बैंको से ग्राहकों को EMI में तीन महीने की राहत देने को कहा है. 
जवाब: रिजर्व बैंक ने सभी बैंकों से मासिक किस्तों में तीन महीने की राहत देने की बात कही है. जानकारों का कहना है कि रिजर्व बैंक की ओर से ये एक सुझाव भर है. बैंक इस सुझाव पर अमल करने या नहीं करने के लिए स्वतंत्र हैं. हालांकि जानकार ये भी कह रहे हैं कि रिजर्व बैंक के सुझाव को ज्यादातर बैंक अमल में लाएंगे ही. इस राहत के लिए बैंक अपनी कुछ शर्तें भी जोड़ सकती है.

सवाल: तीन महीने किस्त पर छूट लेने पर क्या प्रिंसिपल अमाउंट पर ब्याज लगेगा?
जवाब: Moratorium यानी आपको तीन महीने तक EMI नहीं भरने की छूट होगी. पर आपका टेन्योर तीन महीने बढ़ जाएगा. बैंक अपनी तरफ से आपको ऑप्शन देंगे कि मोराटोरियम लेना है या नहीं. इन तीन महीनों में आपको लेट पेनाल्टी नहीं देनी होगी. आपके प्रिंसिपल अमाउंट में भी ब्याज नहीं बढ़ाया जाएगा.

सवाल: Moraorium क्या होता है?
जवाब: मोराटोरिया यानि यथा स्थिति की सहूलिया होता है. ये वो अरेंजमेंट जिसमें जो स्थिति चली आ ही है वही अगले दिए हुए समय तक रहेगी और कोई पेनाल्टी या लेट फीस नहीं ली जाती है.

सवाल: क्या सभी लोन पर EMI में राहत मिलेगी?
जवाब: वित्त मंत्रालय के अधिकारी ने बताया कि मौजूदा EMI में राहत की बाद सिर्फ होम लोन, ऑटो लोन और पर्सनल लोन पर ही देने की बात कही गई है. क्रेडिट कार्ड लोन व अन्य लोन पर छूट की तस्वीर बैंक ही साफ कर पाएंगे.

सवाल:  मनरेगा में मजदूरी 182 रुपये से बढ़ाकर 202 रुपये करने का ऐलान किया है. लॉकडाउन की स्थिति में मनरेगा कैसे मिलेगा जबकि कोई काम पर नहीं जा रहा?
जवाब: सरकार ने हाल ही में एक सर्कुलर निकाला है. इसके तहत अगर कोई काम नहीं भी कर रहा है तब भी उसे मेहनताना दिया जाएगा. ये नियम सभी आउटसोर्स और कॉन्ट्रेक्ट मजदूरों पर लागू होगा.