close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Exclusive : बेहद आधुनिक होगा देश का नया संसद भवन, डिजाइन की बिडिंग प्रक्रिया पूरी

देश में संसद भवन (Parliament House) को नया स्वरूप देने की चर्चा काफी दिनों से चल रही है. उम्मीद की जा रही है कि साल 2022 में देश को नई सेंट्रल विस्टा मिलेगी.

Exclusive : बेहद आधुनिक होगा देश का नया संसद भवन, डिजाइन की बिडिंग प्रक्रिया पूरी

नई दिल्ली : देश में संसद भवन (Parliament House) को नया स्वरूप देने की चर्चा काफी दिनों से चल रही है. उम्मीद की जा रही है कि साल 2022 में देश को नई सेंट्रल विस्टा मिलेगी. सूत्रों का कहना है भारत में अमेरिका और ब्रिटेन जैसे देशों की तरह खूबसूरत और बेहद आधुनिक सेंट्रल विस्टा तैयार की जाएगी. लेकिन इन खबरों के बीच आपके मन में यही सवाल चल रहा होगा कि नया भवन कैसा होगा और कैसा दिखाई देगा.

आज हो सकता है कांट्रेक्टर के नाम का खुलासा
सूत्रों की मानें तो सरकार ने इसके डिज़ाइन की जिम्मेदारी के लिए जरूरी बिडिंग प्रक्रिया पूरी कर ली है. शहरी विकास मंत्रालय ने बिडिंग प्रक्रिया कर संसद और सेंट्रल विस्टा के नए डिजाइन के लिए कांट्रेक्टर का भी चयन कर लिया है. कांट्रेक्टर के नाम का खुलासा शहरी विकास मंत्रालय हरदीप पुरी की तरफ से बुधवार को किया जा सकता है.

दूसरे चरण में बिल्डर से मांगे जाएंगे आवेदन
आपको बता दें कि पहले चरण में सिर्फ डिजाइन फाइनल करने के लिए कांट्रेक्टर या डेवलपर से बिडिंग प्रक्रिया के तहत आवेदन मंगाए गए थे. दूसरे चरण में सरकार तय डिजाइन के निर्माण के लिए यानी कंस्ट्रक्शन के लिए कांट्रेक्टर या बिल्डर से आवेदन आमंत्रित करेगी. सूत्रों की माने तो डिजाइन फाइनल करने की प्रक्रिया में गुजरात (अहमदाबाद) के डेवलपर का नाम सामने आ रहा है.

देश के संसद भवन (Parliament House) का उद्घाटन 1927 में हुआ था. संसद भवन का निर्माण तत्कालीन समय को ध्यान में रखकर किया गया था. इसी वजह से मौजूदा वक्त में संसद भवन का कूलिंग सिस्टम (Cooling System), मौजूदा शेप और स्थान पर्याप्त नहीं हैं. यही वजह है कि मोदी सरकार (Modi Government) संसद भवन का रेनोवेशन कराने जा रही है.

सूत्रों के मुताबिक सांस्कृतिक विरासत (cultural heritage) को बचाते हुए संसद भवन का पुनर्निर्माण (restructure) किया जाएगा. सूत्रों का कहना है आजादी की 75वीं वर्षगांठ यानी 2022 में पार्लियामेंट (Parliament) को नया स्वरूप देने पर फैसला ले लिया गया है.

ये वीडियो भी देखें: