close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

BJP की जीत के बाद शेयर बाजार सकारात्मक रहने की उम्मीद, सरकार से ये उम्मीदें

लोकसभा चुनाव के परिणाम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में बीजेपी के 303 सीटें जीतने के बाद गुरुवार को बीएसई का सेंसेक्स कारोबार के दौरान पहली बार 40 हजार अंक के पार चला गया.

BJP की जीत के बाद शेयर बाजार सकारात्मक रहने की उम्मीद, सरकार से ये उम्मीदें
निवेशकों का ध्यान अब नीतिगत सुधारों पर है. (फाइल)

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की ऐतिहासिक जीत के बाद आने वाले दिनों में शेयर बाजार में तेजी बने रहने का अनुमान है. हालांकि, निवेशकों का ध्यान अब नीतिगत सुधारों,  कंपनियों के वित्तीय परिणाम तथा वैश्विक संकेतों पर भी जा सकता है. लोकसभा चुनाव के परिणाम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में बीजेपी के 303 सीटें जीतने के बाद गुरुवार को बीएसई का सेंसेक्स कारोबार के दौरान पहली बार 40 हजार अंक के पार चला गया.

येस सिक्योरिटीज के अध्यक्ष एवं शोध प्रमुख अमर अंबानी ने कहा, ‘‘शेयर बाजार को निश्चितता पसंद है. बीजेपी को इस तरह का जनादेश मिलने से सरकार की स्थिरता, प्रशासन में स्थिरता तथा अगले पांच साल तक विकास के एजेंडे का जारी रहना सुनिश्चित होता है. किसी भी परिस्थिति में आने वाले दिनों में बाजार सकारात्मक बना रहेगा. इसके बाद निवेशकों का ध्यान कंपनियों के तिमाही परिणामों,  तरलता की स्थिति और वैश्विक कारकों पर केंद्रित हो जाएगी.’’ 

मोदी सरकार की वापसी से Reliance की लगी लॉटरी, सप्ताह भर में मार्केट कैप 45000 करोड़ रुपये बढ़ा

सैमको सिक्योरिटीज एवं स्टॉकनोट के संस्थापक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिमीत मोदी ने कहा, ‘‘पिछला सप्ताह बाजार के लिये बेहद थकाऊ रहा है और अब इसे निश्चित कुछ समय का ठहराव चाहिये. उथल-पुथल में अब कमी आएगी और तार्किकता मजबूत होगी.’’ उल्लेखनीय है कि पिछले सप्ताह बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 1, 503 अंक मजबूत होकर 39, 434.72 अंक पर बंद हुआ.

नई मोदी सरकार व्यापारियों को देगी बड़ी राहत, एकसाथ मिलेगा पूरा GST रिफंड

इस सप्ताह भेल, गेल, इंडिगो, पंजाब नेशनल बैंक और स्पाइसजेट समेत कुछ अन्य प्रमुख कंपनियों के तिमाही परिणाम सामने आने वाले हैं. विश्लेषकों के अनुसार अमेरिका तथा चीन के बीच जारी व्यापार विवाद,  रुपये और कच्चे तेल में उतार-चढ़ाव, विदेशी निवेशकों की निवेश प्रवृत्ति भी व्यापार को प्रभावित करेगी.