close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

रुपये में गिरावट बाहरी कारणों से, फिलहाल चिंता की बात नहीं: सरकार

आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने कहा कि आने वाले समय में इन बाहरी वजहों में सुधार आने की संभावना है.

रुपये में गिरावट बाहरी कारणों से, फिलहाल चिंता की बात नहीं: सरकार
प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

नई दिल्‍ली: सरकार ने अमेरिकी डालर के मुकाबले रुपये के अब तक के न्यूनतम स्तर पर पहुंचने के लिये ‘बाह्य कारकों’ को जिम्मेदार ठहराया और कहा कि इसमें चिंता की कोई बात नहीं है. आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने कहा कि आने वाले समय में इन बाहरी वजहों में सुधार आने की संभावना है. उन्होंने कहा, ‘‘रुपये में गिरावट का कारण बाहरी कारक हैं और इस समय चिंता की कोई वजह नहीं है.’’ तुर्की की आर्थिक चिंता से अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया आज कारोबार के दौरान 70.1 के स्तर तक गिर गया.

आनंद राठी शेयर्स एंड स्टाक ब्रोकर्स में शोध विश्लेषक आर मारू ने कहा कि आयातकों की अधिक मांग से रुपये की विनिमय दर में गिरावट आई. उन्होंने कहा, ‘‘तुर्की संकट को लेकर अनिश्चितता तथा डालर सूचकांक में तेजी को देखते हुए आयातक आक्रमक तरीके से डालर लिवाली कर रहे हैं. दूसरी तरफ आरबीआई की तरफ से आक्रमक हस्तक्षेप नहीं होने से भी रुपया नीचे आया.''

उल्‍लेखनीय है कि डॉलर के मुकाबले रुपया मंगलवार को अब तक के सबसे निचले स्तर पर पहुंच गया है. कारोबार के दौरान डॉलर के मुकाबले रुपया 70 के भाव के पार निकल गया. मजबूत शुरुआत के बाद कारोबार के दौरान रुपए में गिरावट बढ़ी और डॉलर के मुकाबले रुपया पहली पार 70 के पार निकल गया है. मंगलवार को रुपए ने अब तक का सबसे निचला स्तर 70.08 को छुआ है. वहीं साल 2018 में रुपया अब तक 10 फीसदी से ज्यादा कमजोर हो चुका है. आने वाले दिनों में भी गिरावट जारी रहने की आशंका है. हालांकि, मंगलवार को रुपए की शुरुआत 8 पैसे की बढ़त के साथ 69.85 के स्तर पर हुई थी.

(इनपुट: एजेंसी भाषा)