close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पाकिस्तान को FATF की सख्‍त चेतावनी, 5 महीने में आतंकी फंडिंग नहीं रोकी तो कड़ी कार्रवाई करेंगे

पेरिस में हुई फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) की बैठक में पाकिस्तान को राहत नहीं मिली है. एफएटीएफ की तरफ से उसे ग्रे लिस्ट में बरकरार रखा गया है और फुल एक्शन प्लान पर काम करने के लिए फरवरी 2020 तक का समय दिया गया है.

पाकिस्तान को FATF की सख्‍त चेतावनी, 5 महीने में आतंकी फंडिंग नहीं रोकी तो कड़ी कार्रवाई करेंगे

नई दिल्ली : पेरिस में हुई फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) की बैठक में पाकिस्तान को राहत नहीं मिली है. एफएटीएफ की तरफ से उसे ग्रे लिस्ट में बरकरार रखा गया है और फुल एक्शन प्लान पर काम करने के लिए फरवरी 2020 तक का समय दिया गया है. यदि पाकिस्तान की तरफ से तय की गई अवधि में टेरर फंडिंग और मनी लॉन्ड्रिंग पर कार्रवाई नहीं करता तो एफएटीएफ की तरफ से कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

पाकिस्तान पर था ब्लैक लिस्टेड होने का खतरा
हालांकि इससे पहले टेरर फंडिंग और मनी लॉन्ड्रिंग में नाकाम होने पर पाकिस्तान पर ब्लैक लिस्टेड होने का खतरा मंडरा रहा था. लेकिन बैठक में उसे और कुछ दिन की मोहलत दी गई है. एफएटीएफ की तरफ से पाकिस्तान से अपने वित्तीय संस्थान पर विशेष ध्यान देने के लिए भी कहा गया.

27 में से 20 बिंदुओं पर प्रगति की बात कही
आपको बता दें आर्थिक मामलों के मंत्री हम्माद अजहर की अगुवाई में पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल ने पेरिस में होने वाली बैठक में कहा था कि पाक की तरफ से 27 में से 20 बिंदुओं पर सकारात्मक प्रगति की गई है. एफएटीएफ ने पाकिस्तान की तरफ से उठाए गए कदमों पर संतोष जताया था.

चीन, तुर्की और मलेशिया ने भी पाकिस्तान की तरफ से उठाए गए कदम की तारीफ की थी. भारत की तरफ से पाकिस्तान को ब्लैकलिस्ट करने की सिफारिश की गई थी. भारत ने बैठक में कहा था कि हाफिज सईद को अपने फ्रीज बैंक खातों से धन निकालने की अनुमति दी गई है.

आपको बता दें 36 देशों वाले एफएटीएफ चार्टर के अनुसार किसी भी देश को ब्लैकलिस्ट न करने के लिए तीन देशों के समर्थन की जरूरत होती है. पिछले दिनों एफएटीएफ की तरफ से पाकिस्तान को 'ग्रे लिस्ट' में डाला गया था, लेकिन अब वह इससे बाहर आने की कोशिश में है.