फोर 'I' से बदलेगी किसानों की तकदीर और कृषि क्षेत्र की तस्वीर

केंद्रीय शहरी विकास तथा सूचना एवं प्रसारण मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा कि किसानों की आय को वर्ष 2022 तक दोगुना करने के उद्देश्य से केन्द्र एवं राज्य सरकारें मिलकर कृषि क्षेत्र में 'चार आई'  यानि इरिगेशन (सिंचाई), इन्फ्रारट्रक्चर (ढांचागत सुविधाएं), कम इंटरेस्ट (ब्याज) एवं इंश्योरेंस (बीमा) पर फोकस कर रही हैं.

 फोर 'I' से बदलेगी किसानों की तकदीर और कृषि क्षेत्र की तस्वीर

जयपुर: केंद्रीय शहरी विकास तथा सूचना एवं प्रसारण मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा कि किसानों की आय को वर्ष 2022 तक दोगुना करने के उद्देश्य से केन्द्र एवं राज्य सरकारें मिलकर कृषि क्षेत्र में 'चार आई'  यानि इरिगेशन (सिंचाई), इन्फ्रारट्रक्चर (ढांचागत सुविधाएं), कम इंटरेस्ट (ब्याज) एवं इंश्योरेंस (बीमा) पर फोकस कर रही हैं.

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश और मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे के नेतृत्व में प्रदेश में कृषि के क्षेत्र में सदाबहार क्रांति की शुरुआत हो चुकी है. कोटा में ग्लोबल राजस्थान एग्रीटेक मीट (ग्राम-2017) का आयोजन इस दिशा में राज्य सरकार का एक महत्वपूर्ण कदम हैं. नायडू कोटा में आज आरएसी ग्राउण्ड में ग्राम-2017 के उद्घाटन समारोह को सम्बोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि देश हर क्षेत्र में तेजी से आगे बढ रहा है लेकिन कृषि के क्षेत्र में अभी बहुत काम किया जाना बाकी हैं. पुरानी सरकारों के ध्यान नहीं देने के कारण देश में यह धारणा बन चुकी है कि कृषि लाभ का व्यवसाय नहीं हैं, हमें इस धारणा को तोड़ना होगा.

केंद्रीय शहरी विकास मंत्री ने कहा देश में सर्वागीण विकास के लिए ग्रामीण और नगरीय क्षेत्रों का विकास साथ-साथ होना चाहिए. इसलिए एक ओर जहां स्मार्ट सिटी योजना शुरू की गई हैं वहीं आदर्श ग्राम जैसी योजनाओं के जरिए गांवों को उन्नत बनाया जा रहा हैं. उन्होंने केंद्रीय स्तर पर किसानों के लिए चलाई जा रही ऋण योजनाओं, मृदा स्वास्थ्य कार्ड एवं सिंचाई परियोजनाओं की चर्चा करते हुए कहा कि किसानों को एक देश-एक बाजार योजना के जरिए देश की विभिन्न मंडियों में फसलों के ताजा भावों की जानकारी दी जा रही है.

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने इस अवसर पर कहा कि किसान अपनी जमीन पर कृषि प्रसंस्करण इकाई लगाना चाहता है तो उसे 40 लाख रुपए तक के निवेश पर 20 लाख रुपए तक का अनुदान दिया जाएगा. वसुंधरा ने कहा कि प्रदेश में इस वर्ष 15 हजार करोड रुपए का फसली ऋण देकर करीब 25 लाख किसानों को लाभान्वित किया जाएगा. उन्होंने कहा कि प्रदेश में सहकारी बैंकों के माध्यम से किसानों को 7.। प्रतिशत की दर से फसली ऋण दिया जा रहा हैं. किसानों की सुविधा के लिए फसल बीमा पोर्टल, फसल काटने के लिए एप्प एवं गिरदावरी एप्प शुरू किए गए हैं ताकि किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के लाभ एवं मुआवजे आसानी से मिल सकें.

राजस्थान के कृषि मंत्री प्रभुलाल सैनी ने कहा कि आजादी के बाद पहली बार किसानों को सम्मान मिला हैं. आज राज्य में किसानों की आमदनी 88 हजार रुपए वार्षिक है जबकि देश का औसत 77 हजार रुपए हैं. विषम परिस्थितियों के बावजूद प्रदेश कई फसलों में देशभर में अग्रणी है. उन्होंने कहा कि नवाचार प्रसंस्करण, ग्रेडिंग, भंडारण और कृषि क्षेत्र को प्रोत्साहन के जरिए राज्य में निवेश की काफी संभावनाएं हैं.

ग्राम आयोजन में सहभागी राष्ट्र मलेशिया के राजदूत हिदायत बिन अब्दुल हमीद ने कहा कि क्षेत्रफल में छोटा होने के बावजूद नवीन शोध के जरिए कृषि में तकनीकी के सफल प्रयोगों की बदौलत मलेशिया ने कृषि क्षेत्र में बढत हासिल की हैं. अब मलेशिया इस तकनीकी ज्ञान को साझा कर राज्य में कृषि क्षेत्र में निवेश और यहां के कुशल नेतृत्व में किसानों की बेहतरी के लिए काम करने हेतु आशान्वित हैं. नायडू एवं मुख्यमंत्री ने इस मौके पर कोटा स्मार्ट सिटी लिमिटेड एवं कोटा नगर निगम की 175 करोड रूपए की दशहरा मैदान विकास परियोजना के प्रथम चरण का शिलान्यास किया और ग्राम-2017 प्र्दश्रनी का उद्धाटन भी किया गया.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.