मोदी सरकार चाहती है Air India को कोई घरेलू कंपनी ही खरीदे... जानें क्‍यों?

केंद्रीय उड्डयन मंत्री हरप्रीत के अनुसार पिछले कुछ महीनों में Air India को खरीदने के लिए कई विदेशी और देसी कंपनियों ने इच्छा जाहिर की है...

मोदी सरकार चाहती है Air India को कोई घरेलू कंपनी ही खरीदे... जानें क्‍यों?
फाइल फोटो

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार पिछले कई सालों में सरकारी एविएशन कंपनी Air India को बेचना चाहती है. लेकिन सही कीमत नहीं मिलने और खरीददारों के बीच उदासीन रवैये की वजह से इस पर कोई ठोस कदम नहीं उठाया जा सका है. लेकिन पहली बार सरकार ने अपनी दिल की बात कही है. केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरप्रीत पुरी ने कहा है कि भारत सरकार Air India को किसी घरेलू कंपनी को ही बेचना चाहती है. यह पहली बार है जब सरकार ने Air India पर अपनी दिली तमन्ना जाहिर की है.

सरकार को मिल रहे हैं कई खरीदारों के प्रस्ताव
केंद्रीय उड्डयन मंत्री हरप्रीत के अनुसार पिछले कुछ महीनों में Air India को खरीदने के लिए कई विदेशी और देसी कंपनियों ने इच्छा जाहिर की है. लेकिन कीमतों और सरकारी शर्तों पर बात नहीं बन पा रही है. सरकार का कहना है कि एयर इंडिया पिछले दस सालों से घाटे में चल रही है. रोजाना Air India को लगभग 26 करोड़ रुपए का नुकसान हो रहा है.

इंडिगो और एतिहाद दिखा रही हैं दिलचस्पी
नागरिक उड्डयन मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार पिछले कुछ दिनों में भारतीय कंपनी इंडिगो ने Air India खरीदने की पेशकश की है. साथ ही आबू धाबी की कंपनी एतिहाद ने भी कंपनी को खरीदने के लिए मंत्रालय के अधिकारियों से मुलाकात की है. लेकिन अभी तक सरकार ने कोई आधिकारिक शुरुआत नहीं की है. अधिकारियों ने साफ किया कि एयर इंडिया को खरीदने को लेकर टाटा ग्रुप की तरफ से कोई बात नहीं चल रही है. बताते चलें कि कुछ समय पहले खबरें आई थी कि टाटा ग्रुप एयर इंडिया को खरीद सकता है. 

100 फीसदी बिक्री की पेशकश है सरकार की ओर से
उल्लेखनीय है कि भारत सरकार पहले Air India के मात्र 76 प्रतिशत बिक्री करना चाहती थी. लेकिन किसी भी तरफ से इस पर कोई अच्छी खबर नहीं आई. घाटे को देखते हुए केंद्र सरकार ने इस बार एयर इंडिया को 100 फीसदी बेचने का प्रस्ताव बनाया है. समझा जा रहा है कि जल्द इस पर हलचल शुरु होगी.