close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चीन की आर्थिक मंदी से भारत को फायदा

नीति आयोग के उपाध्यक्ष अरविंद पनगढ़िया ने कहा है कि चीन की आर्थिक नरमी का भारत पर असर क्या होगा यह इस बात पर निर्भर करेगा कि देश में नीतिगत सुधारों की स्थिति क्या है। अनुमान लगाया जा रहा है कि चीन की नरमी से भारत को फायदा हो सकता है।

चीन की आर्थिक मंदी से भारत को फायदा

बीजिंग : नीति आयोग के उपाध्यक्ष अरविंद पनगढ़िया ने कहा है कि चीन की आर्थिक नरमी का भारत पर असर क्या होगा यह इस बात पर निर्भर करेगा कि देश में नीतिगत सुधारों की स्थिति क्या है। अनुमान लगाया जा रहा है कि चीन की नरमी से भारत को फायदा हो सकता है।

पनगढ़िया ने कहा कि चीन में नरमी कोई आश्चर्य की बात नहीं है। अगर चीन की अर्थव्यवस्था लगातार पांचवे दशक में भी 10 प्रतिशत की दर से वृद्धि करने में सफल होती तो यह ज्यादा आश्चर्य जनक होता।

पनगढ़िया ने कहा, ‘मैं इसे चीन की परेशानी नहीं मानता क्योंकि मैं यह भी जानता था कि एक बार आय के इस तरह के स्तर पर पहुंच जाने के बाद आर्थिक वृद्धि कम होनी ही है।चीन की नरमी दक्षिण कोरिया, सिंगापुर और ताइवान में तीव्र वृद्धि के बाद देखी गई नरमी की ही तरह है।’ चीन की वृद्धि दर इस वर्ष तीसरी तिमाही में घटकर 6.9 प्रतिशत पर आ गई।

रिजर्व बैंक गवर्नर रघुराम राजन के हाल के इस बयान पर कि चीन का दर्द भारत का भी दर्द है, पनगढ़िया ने कहा, ‘उन्होंने कुछ विशेष बातों को लेकर ऐसा कहा होगा, पर भारत पर इसका असर कैसा होगा यह इस बात पर निर्भर करेगा कि देश आर्थिक सुधारों को किस तरह बढ़ाता है।’ पनगढ़िया यहां नीति आयोग और चीन के विकास शोध केन्द्र (डीआरसी) के बीच भारत-चीन आर्थिक सहयोग की बैठक में भाग लेने आये थे।

उन्होंने कहा कि चीन में मजदूरी की दर बढ़ गई है जिससे कुछ उद्योगों की प्रतिस्पर्धा क्षमता पहले से कम होगी।