PM मोदी का ट्रंप को करारा जवाब, अमेरिकी उत्पादों पर बढ़ाई इंपोर्ट ड्यूटी

भारत ने जवाबी कार्रवाई के तहत अमेरिका से आने वाले कई उत्पादों पर सीमा शुल्क बढ़ा दिया है. इन उत्पादों में बंगाली चना, मसूर दाल और आर्टेमिया शामिल हैं.

PM मोदी का ट्रंप को करारा जवाब, अमेरिकी उत्पादों पर बढ़ाई इंपोर्ट ड्यूटी
अमेरिका से आयातित मोटरसाइकिलों पर शुल्क नहीं बढ़ाया गया है.(फाइल फोटो)

नई दिल्ली: भारत ने जवाबी कार्रवाई के तहत अमेरिका से आने वाले कई उत्पादों पर सीमा शुल्क बढ़ा दिया है. इन उत्पादों में बंगाली चना, मसूर दाल और आर्टेमिया शामिल हैं. वित्त मंत्रालय ने एक अधिसूचना में कहा कि ये शुल्क चार अगस्त से प्रभावी होंगे. मटर और बंगाली चने पर शुल्क बढ़ाकर 60 प्रतिशत तथा मसूर दाल पर 30 प्रतिशत कर दिया गया है. इनके अलावा बोरिक एसिड पर 7.5 प्रतिशत तथा घरेलू रीजेंट पर 10 प्रतिशत शुल्क लगाया गया है. आर्टेमिया पर शुल्क बढ़ाकर 15 प्रतिशत कर दिया गया है.

इनके अलावा चुनिंदा किस्म के नटों , लोहा एवं इस्पात उत्पादों, सेब, नाशपाती, स्टेनलेस स्टील के चपटे उत्पाद, मिश्रधातु इस्पात, ट्यूब-पाइप फिटिंग, स्क्रू, बोल्ट और रिवेट पर शुल्क बढ़ाया गया है. हालांकि, अमेरिका से आयातित मोटरसाइकिलों पर शुल्क नहीं बढ़ाया गया है. अमेरिका ने चुनिंदा इस्पात एवं एल्युमीनियम उत्पादों पर बढ़ा दिया था. इससे भारत पर 24.1 करोड़ डॉलर का शुल्क बोझ पड़ा था. भारत ने इसी के जवाब में ये शुल्क लगाये हैं.  

ट्रंप की चीन के 200 अरब डॉलर के सामान पर 10 प्रतिशत अतिरिक्त शुल्क लगाने की योजना
आपको बता दें कि इससे पहले अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन के साथ व्यापार युद्ध को और तेज कर दिया है. ट्रंप ने चीन के 200 अरब डॉलर के सामान पर 10 प्रतिशत का अतिरिक्त शुल्क लगाने की योजना का खुलासा किया है. वहीं चीन ने अमेरिका की इस योजना को ‘ ब्लैकमेल ’ करार देते हुए कहा है कि वह भी इसके जवाब में कदम उठाने को तैयार है.

दुनिया की दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में मतभेद लंबे समय से चल रहा है.  अब ट्रंप ने कहा है कि वह चीन द्वारा शुल्क बढ़ाए जाने के कदम के खिलाफ नए शुल्क लगाने जा रहे हैं. अमेरिकी राष्ट्रपति ने बयान में कहा कि चीन के अनुचित व्यवहार को रोकने के लिए यह कार्रवाई की जा रही है. 

उन्होंने कहा कि इससे चीन पर अपने अपने अनुचित व्यवहार में बदलाव लाने , अमेरिका के उत्पादों के लिए अपने बाजारों को खोलने और हमारे साथ संतुलित व्यापार संबंध कायम करने का दबाव पड़ेगा. ट्रंप ने कहा कि यदि चीन अपने शुल्कों को और बढ़ाता है तो चीन के 200 अरब डॉलर के सामान पर अतिरिक्त 10 प्रतिशत का शुल्क लगाने के कदम पर आगे बढ़ा जाएगा.  इससे पहले अमेरिका ने चीन के 50 अरब डॉलर के सामान या उत्पादों पर 25 प्रतिशत शुल्क लगाने की घोषणा की थी.

इसके बाद चीन ने भी जवाबी कार्रवाई करते हुए अमेरिका के 50 अरब डॉलर के सामान पर 25 प्रतिशत शुल्क लगाने की घोषणा की थी. वहीं बीजिंग से मिली खबरों के अनुसार चीन ने अमेरिका द्वारा उसके 200 अरब डॉलर के उत्पादों पर 10 प्रतिशत का अतिरिक्त शुल्क लगाने की योजना को ब्लैकमेल करार दिया है.  चीन के वाणिज्य मंत्रालय ने कहा कि अमेरिका द्वारा जो ब्लैकमेल और दबाव डालने का कदम उठाया जा रहा है वह दोनों पक्षों के बीच कई दौर की वार्ताओं के बाद बनी सहमति के रुख से उलट है.  

इनपुट भाषा से भी