close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ईज ऑफ डूइंग रैंकिंग : भारत में बिजनेस करना हुआ और आसान, रैंकिंग में आया जबरदस्त उछाल

नरेंद्र मोदी सरकार के 2014 में सत्ता में आने के समय भारत की रैंकिंग 142 थी, 2018 में भारत 77वें रैंक पर आ गया है. 

ईज ऑफ डूइंग रैंकिंग : भारत में बिजनेस करना हुआ और आसान, रैंकिंग में आया जबरदस्त उछाल
मोदी सरकार का सपना ईज ऑफ डूइंग रैंकिंग में भारत को शीर्ष 50 में स्थान दिलाना है.

नई दिल्ली: भारत में बिजनेस करना और आसान हो गया है. इसकी तस्दीक वर्ल्ड बैंक द्वारा जारी ईज ऑफ डूइंग बिजनेस की रेटिंग से होता है. भारत की रैंकिंग में जबरदस्त उछाल आया है. भारत की 100 नंबर से चढ़कर अब 77वें पायदान पर पहुंच गया है. पिछले साल भारत इस सूची में टॉप 100 में आ गया था. इस साल जीएसटी और इनसॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी कोड जैसे सुधारों का फायदा सरकार को मिला है और भारत ने बड़ी छलांग लगाए हुए 77वीं रैंकिंग हासिल की है. 

विश्व बैंक हर साल आसान कारोबार वाले देशों की सूची जारी करता है. इसमें कुल 190 देश होते हैं. मोदी सरकार का सपना इस सूची में भारत को शीर्ष 50 में स्थान दिलाना है. पिछले साल 2017 के मुकाबले 2018 में भारत की रैंकिंग में 23 स्थान का सुधार हुआ है. नरेंद्र मोदी सरकार के 2014 में सत्ता में आने के समय भारत की रैंकिंग 142 थी. 

पिछले 4 साल में 65 देशों को पीछे छोड़ा
भारत ने पिछले 4 साल में 65 देशों को पीछे छोड़ा है. उधर, वित्त मंत्री अरुण जेटली ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि अभी और आर्थिक सुधार की जरूरत है. जेटली ने कहा कि आर्थिक सुधारों की बदौलत रैंकिंग में सुधार हुआ है. दिल्ली और मुंबई में सिंगल विंडों सिस्टम लाने से भी रैंकिंग में सुधार हुआ है.

arun jaitely
वित्त मंत्री अरुण जेटली ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि अभी और आर्थिक सुधार की जरूरत है.

विश्व बैंक यह रैंकिंग 10 मानदंडों मसलन कारोबार शुरू करना, निर्माण परमिट, बिजली कनेक्शन हासिल करना, कर्ज हासिल करना, टैक्स भुगतान, सीमापार कारोबार, अनुबंध लागू करना और दिवाला मामले के निपटान के आधार पर तय करता है. वाणिज्य और उद्योग मंत्री सुरेश प्रभु ने मंगलवार को उम्मीद जताई थी कि इस साल भी भारत की रैकिंग में सुधार होगा. उन्होंने कहा था, 'कल आपको एक अच्छी खबर सुनने को मिलेगी कि कारोबार सुगमता के मानदंडों पर भारत की रैंकिंग सुधरी है. हमने इस दिशा में उल्लेखनीय रूप से सुधार किया है.'