Zee Rozgar Samachar

भारतीय अर्थव्यवस्था का 2020 में संकुचन 9.6 प्रतिशत रह सकता है: UN रिपोर्ट

संयुक्त राष्ट्र (United Nations) की रिपोर्ट के अनुसार इस क्षेत्र की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था भारत में अपने इतिहास की सबसे बड़ी गिरावट का सामना करना पड़ा है और देश की अर्थव्यवस्था 2020 में करीब 10 प्रतिशत संकुचित हुई है. 

भारतीय अर्थव्यवस्था का 2020 में संकुचन 9.6 प्रतिशत रह सकता है: UN रिपोर्ट

संयुक्त राष्ट्रः संयुक्त राष्ट्र (United Nations) की एक रपट के अनुसार कोविड19 (Covid-19) और लॉकडाउन (Lockdown) से प्रभावित 2020 में भारतीय अर्थव्यवस्था में 9.6 प्रशित की गिरावट होने का अनुमान है. इसी रपट में कहा गया है कि भारतीय अर्थव्यवस्था 2021 में 7.3 प्रतशित की वृद्धि दर्ज कर सकती है. रपट के अनुसार, लॉकडाउन और अन्य पाबंदियों से वायरस संक्रमण का प्रसार रुका नहीं, पर घरेलू उपभोग घट गया.

विश्व की आर्थिक स्थिति और संभावनाओं पर इस बहुपक्षीय संगठन की रपट वर्ल्ड इकोनामिक सिचुएशन एंड प्रास्पेक्ट्स (World Economic Situation and Prospects) के ताजा संस्करण में कहा गया है कि 2020 में विश्व अर्थव्यवस्था (World Economy) 4.3 प्रतिशत संकुचित हुई. यह संकुचन 2009 के ढाई गुना से ज्यादा है. 2021 में विश्व अर्थव्यवस्था में 4.7 प्रतिशत की हल्क वृद्धि हो सकती है और उससे 2020 के नुकसान की किसी तरह से भरपायी हो सकेगी. रपट के अनुसार, दक्षिण एशिया (South Asia) में सभी अर्थव्यवस्थाओं पर महामारी का गहरा असर पड़ा है और इस क्षेत्र में 8.9 प्रतिशत की आर्थिक गिरावट का अनुमान है.

भारतीय अर्थव्यवस्था में सबसे बड़ी गिरावट

रपट के अनुसार इस क्षेत्र की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था भारत में अपने इतिहास की सबसे बड़ी गिरावट का सामना करना पड़ा है और देश की अर्थव्यवस्था 2020 में करीब 10 प्रतिशत संकुचित हुई है. रपट में कहा गया है, ‘‘भारत की आर्थिक वृद्धि दर 2019 में घट कर 4.7 प्रतिशत रह गयी थी और 2020 में इसमें 9.6 प्रतिशत गिरावट आ गयी, क्योंकि राजकोषीय और मौद्रिक प्रोत्साहनों के बावजूद लॉकडाउन और अन्य नियंत्रणों के चलते घरेलू उपभोग घट गया, पर महामारी का प्रसार रुका नहीं.’’

ये भी पढ़ें-Tata कंपनी ने रचा इतिहास, Reliance को पछाड़ इस मामले में बनी नंबर-1

VIDEO

सबसे बड़े आर्थिक संकट को झेल रहा विश्व

संयुक्तराष्ट्र महाचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा कि दुनिया इस समय 90 साल के दौर का सबसे बड़ा स्वास्थ्य और आर्थिक संकट झेल रही है. हम मौतों की बढ़ती संख्या से शोक संतप्त हैं. हमें यह ध्यान रहना चाहिए कि आज हम जो निर्णय करते हैं उससे हमारा सामूहिक भविष्य तय होगा.'

रपट में कहा गया है कि 2022 में भारतीय अर्थव्यवस्था की वृ​द्धि 2021 के 7.3 प्र​तिशत की तुलना में मंद हो कर 5.9 प्रतिशत पर आ जाएगी. रपट में कहा गया है कि कोविड19 ने विकसित देशों के श्रम बाजार को तबाह कर दिया है. मध्य 2020 में नाइजीरिया में बेरोजगारी दर 27 प्रतिशत तथा भारत में 23 प्रतिशत तक पहुंच गयी थी. चीन की वृद्धि दर 2020 में 2.3 तथा 2021 में 7.2 प्रतिशत रहने का अनुमान है.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.