भारतीय शेयर बाजारों में आज आ सकती है गिरावट, कमाई के लिए बनानी होगी ये रणनीति

भारतीय बाजारों (Indian Share Markets) के लिए आज विदेशी बाजारों (Global Markets) के संकेत सुस्त है. SGX Nifty की शुरुआत बिल्कुल फ्लैट हुई है. अमेरिकी वायदा बाजार भारी गिरावट के साथ खुले हैं.

भारतीय शेयर बाजारों में आज आ सकती है गिरावट, कमाई के लिए बनानी होगी ये रणनीति

नई दिल्ली: भारतीय बाजारों (Indian Share Markets) के लिए आज विदेशी बाजारों (Global Markets) के संकेत सुस्त है. SGX Nifty की शुरुआत बिल्कुल फ्लैट हुई है. अमेरिकी वायदा बाजार भारी गिरावट के साथ खुले हैं. Dow Futures में 180 अंकों से ज्यादा की गिरावट है, Nasdaq Futures भी 75 अंकों से ज्यादा टूटा है.

दूसरे एशियाई बाजारों (Asian Markets) की बात करें तो यहां भी चौथाई से आधा परसेंट तक की गिरावट है. जापान का Nikkei करीब 150 अंकों की गिरावट के साथ कारोबार कर रहा है. चीन का बाजार Shanghai Comp रेड जोन में ही है, लेकिन फ्लैट कारोबार दिखा रहा है. हॉन्ग कॉन्ग का बाजार Hang Seng भी करीब 60 अंकों की कमजोरी दिखा रहा है.

कल कैसे रहे विदेशी बाजार

कल अमेरिकी बाजारों में जबर्दस्त उतार चढ़ाव के साथ कारोबार हुआ. हालांकि अमेरिकी बाजारों की शुरुआत बढ़त के साथ हुई थी, लेकिन बाजार बंद होते होते ये सारी बढ़त गायब हो गई अंत में बाजार दिन के निचले स्तरों पर बंद हुए. Dow Jones 98 अंक गिरकर, S&P500 चौथाई परसेंट गिरकर और Nasdaq 32 अंक गिरकर बंद हुआ.

यूरोपीय बाजारों में कल भारी गिरावट रही. कोरोना के बढ़त संकट से बाजार का मूड खराब हुआ. यूरोपीय बाजार बुधवार को 1.5 परसेंट से 2 परसेंट तक टूटकर बंद हुए. लंदन का FTSE सबसे ज्यादा करीब 2 परसेंट गिरकर बंद हुआ. फ्रांस का CAC40 1.53 परसेंट और जर्मनी का DAX भी 1.4 परसेंट गिरकर बंद हुआ. 

विदेशी बाजार से संकेत

अमेरिका में इस वक्त दो ही खबरों पर पर चर्चा है, स्टिमुलस पैकेज और राष्ट्रपति चुनाव. स्टिमुलस पैकेज को लेकर बातचीत कल भी हुई थी और आज भी होगी, लेकिन इस पर कोई सहमति कब तक बनेगी, ये अबतक साफ नहीं हुआ है. हालांकि अब ये मान लिया गया है कि चुनाव से पहले स्टिमुलस पैकेज पर ज्यादा कुछ नहीं होगा. 

दूसरी ओर गुरुवार को राष्ट्रपति ट्रंप (Donald Trump) और उनके प्रतिद्वंद्वी जो बाइडेन (Joe Biden) के बीच आखिरी प्रेसिडेंशियल डिबेट होगी, हालांकि भारतीय समय के मुताबिक ये कल सुबह साढ़े छह बजे से शुरू होगी. इस पर बाजार की नजर होगी. एक अमेरिकी इंटेलीजेंस अधिकारी ने कहा है कि ईरान और रूस ने अगले महीने होने वाले अमेरिकी राष्ट्रपित चुनाव में दखल देने की कोशिश की है, जिससे बाजारों पर इसका असर दिखा. 

इंटरनेशनल मॉनिटरी फंड (IMF) ने 2020 के लिए एशिया पैसिफिक के GDP ग्रोथ अनुमान जारी किए हैं. IMF के मुताबिक एशिया पैसिफिक की ग्रोथ -2.2 परसेंट रह सकती है, जो कि बेहद खराब आंकड़ा है. 
IMF के मुताबिक भारत, फिलीपींस और मलेशिया की ग्रोथ में सबसे ज्यादा गिरावट देखने को मिलेगी. हालांकि 2021 में एशिया की ग्रोथ 6.9 परसेंट हासिल करने का भी अनुमान है. 

कल अमेरिका में साप्ताहिक बेरोजगारी के आंकड़े आएंगे, इस बार अनुमान है कि ये 8.75 लाख रह सकता है. इधर मांग की चिंता के चलते कच्चे तेल में दबाव दिख रहा है. ब्रेंट क्रूड 3.5 परसेंट गिरकर 42 डॉलर के नीचे फिसल गया है.  

आज क्या होगी रणनीति 

हमारे सहयोगी चैनल ज़ी बिज़नेस के मैनेजिंग एडिटर अनिल सिंघवी के मुताबिक 'ग्लोबल मार्केट के संकेत काफी खराब है. आज थोड़ी सावधानी रखनी होगी. भारतीय बाजार 12,000 को छू तो रहा है लेकिन इसको पार नहीं कर पा रहे. आज गिरावट का मौका देखकर खरीदारी करनी चाहिए. 12025 का लेवल काफी अहम है, इसको पार करे तो खरीदारी करें. एक्सपायरी का दिन है तो उतार चढ़ाव जरूर देखने को मिलेगा. साथ ही दोनों तरफ के ट्रेड करने का मौका भी मिलेगा. इस लिहाज से आपको अपनी रणनीति बनानी होगी.' 

अनिल सिंघवी के मुताबिक 'निफ्टी के लिए आज सपोर्ट रेंज 11775-11825 है, ऊपरी रेंज 11975-12025 होगी, निफ्टी बैंक के लिए सपोर्ट रेंज 24275-24400 है, ऊपरी रेंज 
24825-25000 होगी.' 

ये भी पढ़ें: प्याज की कीमतों को काबू करने के लिए एक्शन में सरकार, उठाया ये कदम

VIDEO

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.