औद्योगिक उत्पादन की वृद्धिदर घटकर 3.6 फीसदी पर पहुंची

विनिर्माण तथा गैर टिकाऊ उपभोक्ता क्षेत्र के कमजोर प्रदर्शन से औद्योगिक उत्पादन की वृद्धि दर सितंबर माह में घटकर 3.6 प्रतिशत पर आ गई है। यह इसका चार महीने का निचला स्तर है।

औद्योगिक उत्पादन की वृद्धिदर घटकर 3.6 फीसदी पर पहुंची

नई दिल्ली : विनिर्माण तथा गैर टिकाऊ उपभोक्ता क्षेत्र के कमजोर प्रदर्शन से औद्योगिक उत्पादन की वृद्धि दर सितंबर माह में घटकर 3.6 प्रतिशत पर आ गई है। यह इसका चार महीने का निचला स्तर है।

ताजा आंकड़ों के आधार पर इस बार अगस्त माह की औद्योगिक उत्पादन की वृद्धि दर (आईआईपी) को घटा कर कर 6.2 प्रतिशत कर दिया गया है। प्रारंभिक आंकड़ों के आधार पर पहले इसके 6.4 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया गया था। पिछले साल सितंबर में कारखाना उत्पादन की वृद्धि दर 2.6 प्रतिशत थी।

केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) के आज जारी आंकड़ों के अनुसार चालू वित्त वर्ष की अप्रैल-सितंबर पहल छमाही में औद्योगिक उत्पादन सालाना आधार पर चार प्रतिशत बढ़ा है। पिछले वित्त वर्ष की पहली छमाही में औद्योगिक उत्पादन वृद्धि 2.9 प्रतिशत थी। आईआईपी में 75 प्रतिशत से अधिक भारांश रखने वाले विनिर्माण क्षेत्र की वृद्धि दर इस वर्ष सितंबर में 2.6 प्रतिशत रही। पिछले साल इसी महीने में विनिर्माण क्षेत्र का उत्पादन साल भर पहले की तुलना में 2.7 प्रतिशत बढ़ा था। समीक्षाधीन महीने में गैर टिकाउ उपभोक्ता वस्तुओं का उत्पादन 4.6 प्रतिशत घट गया। सितंबर, 2014 में इस क्षेत्र का उत्पादन 1.3 प्रतिशत बढ़ा था। खनन क्षेत्र की वृद्धि दर सितंबर में तीन प्रतिशत रही, जो पिछले वित्त वर्ष के समान महीने में 0.1 प्रतिशत रही थी।

निवेश के वातावरण का संकेत देने वाले पूंजीगत सामान क्षेत्र का उत्पादन सितंबर में 10.5 प्रतिशत बढ़ा। पिछले साल इसी महीने में इस क्षेत्र का उत्पादन 12.3 प्रतिशत बढ़ा था।