close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

असंभव हुआ संभव! कोलकाता से पेप्सिको के 16 कंटेनर लेकर वाराणसी पहुंचा जलपोत

अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणसी में इन कंटेनरों को 12 नवंबर को रिसीव करेंगे, पीएम मोदी इसी दिन काशी को 2,500 करोड़ रुपये के विकास कार्यों का तोहफा देंगे. 

असंभव हुआ संभव! कोलकाता से पेप्सिको के 16 कंटेनर लेकर वाराणसी पहुंचा जलपोत
वाराणसी से हल्दिया के बीच जलमार्ग की दूरी 1390 किलोमीटर है...(फाइल फोटो)

नई दिल्ली: चार साल पहले असंभव सा दिखने वाला कार्य संभव हो गया है. यह असंभव कार्य गंगा में जलपोत से परिवहन था. आजादी के बाद पहली बार पेप्सी कंपनी के 16 कंटेनर गंगा नदी के रास्ते कोलकाता से वाराणसी आ गए हैं. मालवाहक जहाज 'टैगोर' रामनगर स्थित बंदरगाह पर शुक्रवार की सुबह लंगर डाल चुका है. अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाराणसी में इन कंटेनरों को 12 नवंबर को रिसीव करेंगे. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 12 नवंबर को काशी को 2,500 करोड़ रुपये के विकास कार्यों का सबसे बड़ा तोहफा देंगे. 

मल्टीमॉडल टर्मिनल को देश को समर्पित करेंगे
पीएम मोदी रामनगर में 20800.00 लाख रुपये की लागत से नवनिर्मित देश के पहले आईडब्ल्यूटी मल्टीमॉडल टर्मिनल देश को समर्पित करेंगे. कुल चार ‘मल्टी-माडल टर्मिनल में से यह पहला टर्मिनल है जिसका निर्माण राष्ट्रीय जलमार्ग-1 पर किया गया है. तीन अन्य टर्मिनल का निर्माण साहिबगंज, हल्दिया और गाजीपुर में किया जा रहा है. इन परियोजनाओं से गंगा नदी में 1500 से 2000 डीडब्ल्यूटी (डेडवेट टनेज) क्षमता के वाणिज्यिक पोतों की आवाजाही हो सकेगी. 

दो राष्ट्रीय राजमार्गों का उद्घाटन करेंगे प्रधानमंत्री
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को वाराणसी में दो राष्ट्रीय राजमार्गों का उद्घाटन करेंगे. इन सड़क मार्गों का निर्माण 1,571.95 करोड़ रुपये की लागत से किया गया है. इसकी कुल लंबाई 34 किलोमीटर है. मंत्रालय के अनुसार 16.55 किलोमीटर लंबा वाराणसी रिंग रोड, चरण-1 कुल 759.36 करोड़ रुपये की लागत से और राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-56 पर 17.25 किलोमीटर लंबा बाबतपुर-वाराणसी राजमार्ग का निर्माण 812.59 करोड़ रुपये की लागत से किया गया है.  

प्रधानमंत्री के साथ इस अवसर पर उत्तर प्रदेश के गवर्नर राम नाइक, केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग, पोत परिवहन, जल संसाधन, नदी विकास और गंगा सरक्षण मंत्री नितिन गडकरी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी होंगे. कार्यक्रम वाराणसी के हरदुआ में रिंग रोड तिराहे पर होगा. यह रिंग रोड राष्ट्रीय राजमार्ग 56 (लखनऊ-वाराणसी) पर यात्रा को सुगम बनाएगा. इससे वाराणसी के हवाईअड्डे से वाराणसी शहर के बीच यात्रा के समय में कमी आएगी तथा ईंधन की खपत और प्रदूषण में भी कमी आएगी.  

28 अक्टूबर को कोलकाता से जलपोत रवाना हुआ
जलपोत कोलकाता से 28 अक्तूबर को चल चुका है. वाराणसी से हल्दिया के बीच जलमार्ग की दूरी 1390 किलोमीटर है. गंगा में वाराणसी से हल्दिया तक जल परिवहन के लिए परीक्षण की शुरुआत के दौरान वाराणसी से दो जलपोत हल्दिया रवाना किए थे. इससे पहले, 12 अगस्त, 2016 को केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी द्वारा खिड़किया घाट से हरी झंडी दिखाकर रवाना किए गए दो जलपोतों में मारुति कारें और भवन निर्माण की सामग्री रवाना की गई थी. इसी दौरान मल्टी मॉडल टर्मिनल की आधारशिला भी रखी गई थी.