क्या बंद हो जाएगा Vodafone-Idea? पढ़ लीजिए ये खबर वरना हो सकता है भारी नुकसान

अगर आप वोडाफोन-आइडिया के ग्राहक हैं तो आपके लिए बेहद बुरी खबर है. कंपनी बंद होने की भी संभावना जताई जा रही है.

क्या बंद हो जाएगा Vodafone-Idea? पढ़ लीजिए ये खबर वरना हो सकता है भारी नुकसान
फाइल फोटो

नई दिल्ली: अगर आप वोडाफोन-आइडिया के ग्राहक हैं तो आपके लिए बेहद बुरी खबर है. कंपनी बंद होने की भी संभावना जताई जा रही है. साथ ही संभावना जताई जा रही है कि अगले महीने से सामान्य कॉल और डाटा के लिए ज्यादा पैसा खर्च करना पड़े. AGR यानी एडजस्टेड ग्रॉस रेवेन्यू के बोझ तले दबी वोडाफोन-आइडिया की हालत दिन-ब-दिन खराब होती जा रही है. बुधवार को भी कंपनी को सुप्रीम कोर्ट से कंपनी को कोई राहत नहीं मिली है. हो सकता है कंपनी भारत में कभी भी कारोबार बंद कर दे. बताते चलें कि वोडाफोन-आइडिया को एजीआर के लिए लभगग 53,000 करोड़ रुपये चुकाना है. कंपनी इस पैसे को चुकाने में असमर्थता जता चुकी है.

कंपनी के पास नहीं है बकाया चुकाने के लिए पैसा
वोडाफोन-आइडिया की वजह से टेलीकॉम सेक्टर इस बड़ी मुसीबत की चपेट में है. दोनो कंपनियों के लिए अस्तित्व बचाने की घड़ी आ गई है. वोडाफोन को 53,000 करोड़ रुपये का बकाया चुकाना है. ये रकम कोई मामूली रकम नहीं है जो कोई कम्पनी आसानी से चुका सके. इन कंपनियों की बात मानें तो इनके पास सरकार को चुकाने के लिए इतने पैसे नहीं हैं. जानकारों का कहना है कि कंपनी कभी भी अपना कारोबार समेटने का ऐलान कर सकती है. इस बाबत मीडिया रिपोर्ट्स मे कई खबरें सामने आ रही हैं.

सुप्रीम कोर्ट नहीं देना चाहता कोई रियायत
मामले से जुड़े जानकारों का कहना है कि बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने इशारा दिया है कि टेलीकॉम कंपनियों को एजीआर बकाया चुकाने के लिए कोई रियायत नहीं मिलने वाली. सरकार ने कंपनियों से 20 साल तक पैसा वसूलने का एक प्लान तैयार किया है. लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इस पर भी नाराजगी जताई है. टेलीकॉम से जुड़े एक विशेषज्ञ का कहना है कि कोर्ट से बकाया चुकाने के लिए मोहलत मिलने की उम्मीद कम है.

ये भी पढें: कोरोना वायरस पर फैल रही है ये गंभीर अफवाह, लोग नहीं कर रहे किसी पर भरोसा

मोबाइल टैरिफ में हो सकता है इजाफा 
बता दें कि दिसंबर महीने की शुरुआत में ही घाटे से जूझ रही टेलिकॉम कंपनियों ने ग्राहकों को झटका दिया था और टैरिफ की कीमतें करीब 40 फीसदी तक बढ़ा दी थीं. सुप्रीम कोर्ट से राहत नहीं मिल रही है. इस बीच संभावना है कि कंपनी फिर से अपने मोबाइल टैरिफ बढ़ा दे.